Tuesday, December 11, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
पूर्व वित्‍त सचिव शक्तिकांत दास बने आरबीआई के नए गवर्नरछत्‍तीसगढ़ में हार पर रमन सिंह बोले - प्रखरता से विपक्ष की भूमिका निभाएंगे छत्‍तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह बोले - हार के कारणों की समीक्षा करेंगे छत्‍तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह बोले - इस हार का केंद्र सरकार से लेना-देना नहींछत्‍तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह ने हार स्‍वीकार की, दिया इस्‍तीफाममता बनर्जी बोलीं-यह 2019 लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल है केजरीवाल बोले - मोदी राज की उलटी गिनती शुरू हो गई हैहरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) ने स्कूल शिक्षा विभाग के लिए पीजीटी संस्कृत के पद हेतु लिखित परीक्षा और दस्तावेजों की संवीक्षा के आधार पर 15 और 16 दिसंबर, 2018 को आयोग के सेक्टर-2, पंचकूला स्थित कार्यालय में आयोजित किया जाएगा
Haryana

FARIDABAD-153 lives lost in 450 accidents till Aug

September 24, 2018 05:48 AM

COURTESY THE TRIBUNE SEP 24

153 lives lost in 450 accidents till Aug
Tribune News Service


Faridabad, September 23

With traffic control and management in the most populated city of Haryana being a victim of ‘poor’ police strength, travelling on the city roads has become largely unsafe . The first eight months of the year have seen 153 deaths in 450 accidents.


While the department officials revealed that the police issued a total of 18,643 challans in August this year, it, however, could not prevent 52 accidents that claimed 19 lives and resulted in injuries to 53 others in the same month.

The average rate of challans here has been 22,000 each month. The total challans issued till August 31 this year has been a little over 1.76 lakh. The city, which got a Police Commissionerate system in 2009, has perhaps failed to get adequate staff or infrastructure for traffic management as there are only 170 cops posted in the department at present. The city has a population of 16 lakh. “Of these, 20 per cent cops or staff are not available for routine work due to VIP duty or leave and other reasons,” revealed sources.
“The thin strength of cops results in problems as chances of accidents go up sharply,” claimed a cop.

An odd 210 Home Guard jawans and members of NGO Road Safety Organisation (RSO) render help in managing traffic and rushing to help of accident victims.

Blaming poor cop strength and improper maintenance of traffic signals, SK Sharma, coordinator with RSO, said even getting a fused streetlight bulb replaced was a herculean task. The Greater Faridabad area, having a population of 50,000, has no permanently posted traffic cop. Around 20 persons die each month in an average of 56 accidents in the city, he claimed.

Admitting staff crunch, Hemant Kumar, SHO (Traffic), said efforts were on bring the accidents in the city under control with proper awareness and help from the NGOs. The DCP (Traffic) could not be contacted despite repeated attempts.

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) ने स्कूल शिक्षा विभाग के लिए पीजीटी संस्कृत के पद हेतु लिखित परीक्षा और दस्तावेजों की संवीक्षा के आधार पर 15 और 16 दिसंबर, 2018 को आयोग के सेक्टर-2, पंचकूला स्थित कार्यालय में आयोजित किया जाएगा हरियाणा के कुरूक्षेत्र में स्थित गीता ज्ञान संस्थानम में भव्य और आकर्षक गुफानुमा प्रदर्शनी में मिट्टïी की कला से महाभारत के दृश्यों को जीवंत करने का अनोखा प्रयास देखने को मिलेगा हरियाणा के अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2018 में आगामी 17 दिसंबर को हरियाणा सांस्कृतिक दर्शन पंडाल में हरियाणवी लोक परिधानों पर आधारित हरियाणवी फैशन-शो का आयोजन किया जाएगा हरियाणा के कुरुक्षेत्र में चल रहे अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव में भारत के सांस्कृतिक झरोखों को देखकर पर्यटक भाव-विभोर हो गए प्रधानमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना के तहत अब प्रदेश के सभी जिलों में जिला स्तरीय महिला शक्ति केन्द्र खोले जाएंगे हरियाणा में पांच नगर निगम एवं दो नगरपालिका के चुनाव को निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न करवाने के लिए प्रशासन द्वारा सभी आवश्यक प्रबंध पूरे कर लिए ग प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों में स्थापित किए जा रहे है स्ट्रोक केयर यूनिटस-डॉ0 रेखा सिंह BJP leader moves SC panel to seek justice for husband Pay ₹1 lakh to medical aspirant, varsity told Petitioner Refused Admission In UG Course HARYANA मुख्यमंत्री की डिनर डिप्लोमैसी में करनाल के बड़े चेहरे रहे गायब