राज-काज

वंशवाद बनाम विकासवाद

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का बयान कि हमारी लड़ाई विकासवाद की है, वंशवाद की नहीं।

बाजार में त्यौहार, क्या जीवन में उत्सव की बहार?

मनुष्य सम्भवतः उत्सव प्रेमी हैं, आनंद की अभिव्यक्ति जब बाहर होती है तो उत्सव/त्यौहारों का रूप ले लेती है।

पटाखों पर बैन --- मानवीय पहलू

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिल्ली तथा एनसीआर क्षेत्र में पटाखों की बिक्री पर पहली नवम्बर तक लगाए गए सामाजिक बैन के आर्थिक, सामाजिक व सांस्कृतिक दूरगामी परिणाम हो सकते हैं।

कर वसूली - खर्चों के प्रति सरकार का रवैया

एक बार आर०डब्ल्यू० इमर्सन से बातचीत में उनकी शिक्षाआें का सार पूछा तो उत्तर में उन्होंने simplify, simplify and simplify कहा।

अपने-अपने रावण जलाने का नया चलन

दशहरे के दिन आधे किलोमीटर से भी कम दायरे में तीन-चार रावण के पुतले जलाए जाते देखे। एक तो घर के अंदर ही, बरामदे में जलते देखा।

इनेलो के सत्ता में आने पर किसानो के कर्जे माफ किये जायेगें: अभय चौटाला

भिवानी:ताऊ देवीलाल के 104 वें जन्मदिन पर यहां आयोजित संकल्प रैली में भारी संख्या में लोगों ने भाग लेकर ताऊ को अपने श्रद्वासुमन अर्पित किये। इनैलो की यह रैली पूरी तरह हाईटैक थी। मंच पर जब पूर्व सांसद अजय चौटाला और प्रतिपक्ष के नेता अभय चौटाला पहुंचे तो भीड़ ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया।

बाबाओं के समक्ष घुटने टेकती प्रजातांत्रिक संस्थाएं

प्रजातंत्र केवल चुनाव में ही भीड़तंत्र नहीं बनता। हमारे प्रजातंत्र को भीड़तंत्र कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।

भाजपा विधायक बिशम्भर बाल्मीकि को मंच पर सीट न मिलने का मामला पहुंचा हाईकमान के दरबार में

ईश्वर धामु 

चंडीगढ़ : स्वतंत्रता दिवस पर भिवानी में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में बुवानीखेड़ा से भाजपा विधायक बिशम्भर बाल्मीकि को मंच पर सीट न मिलने का मामना अब तूल पकडऩे लगा है। घटित घटनाक्रम के अनुसार विधायक बिशम्भर बाल्मीकि जब मंच पर पहुंचे तो उनके लिए कोई निर्धारित सीट नहीं थी। उन्होने थोड़ा इंतजार किया परन्तु मंच पर बैठे किसी भी प्रशासनिक अधिकारी या भाजपा के किसी भी पदाधिकारी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। बताया गया है कि ऐसा भी नहीं था कि किसी ने विघायक बिशम्भर बाल्मीकि को देखा न हो पर किसी ने भी अपनी सीट छोड़ने

GST impact: Cos face jail term for not reprinting revised MRP on inventory

Courtesy BUSINESS STANDARD Press Trust of India | New Delhi:Consumer Affairs Minister Ram Vilas Paswan today warned of a fine of up to Rs 1 lakh, including a jail term, if new post GST rates are not printed on the inventory in the interest of consumers. Manufacturers have been allowed to clear the unsold stocks by September with new MRP. Acommittee of the consumer affairs ministry has been set up to address consumer grievances on GST and even helplines have been increased to 60 from 14 to address tax related queries, he said. More than 700 queries have been received by the consumer helplines and the ministry has sought expert help from its finance counterpart to resolve ......

किसानों के लिए क्या दिया, 10 सवालों के जवाब दें हुड्डा-राजीव जैन

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मीडिया विभाग प्रमुख राजीव जैन ने कहा कि खुद को किसान पुत्र बताने वाले पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने अपने दस साल के शासन के दौरान स्वामीनाथन रिपोर्ट और किसानों के आर्थिक उत्थान के लिए क्या कदम उठाए। उन्होंने कहा कि किसान पंचायत के बहाने हुड्डा अपनी खामियां को छिपाने की कोशिश करते हुए घडियाली आंसू बहा रहे हैं, अगर वह वाकई किसानों के हित की ङ्क्षचता करते हैं तो दस सवालों के जवाब देकर अपनी नीयत को साफ करें। 

मुख्यमंत्री के गेयर बदलने पर भी सरकारी कामों में नहीं आई गति

ईश्वर धामु :हरियाणा की राजनीति की प्रकृति भी तापमान की तरह बदल रही है। एक समय में कहा जाता था कि हरियाणा की राजनीति में जो घटता है वो अचानक घटता है। परन्तु अब भाजपा शासन में ऐसा नहीं हो रहा है। अब हरियाणा की राजनीति में जो होना होता है, उसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। भाजपा शासन में अफसरशाही का प्रभाव तथा दबदबा बढऩे लगा तो लगने लगा था कि अब सत्ता पक्ष के विधायकों में अंदरखाने कुछ चल रहा है। फिर वही ....

करनाल के सांसद के राम बिलास शर्मा पर न्यूज बमों से भाजपा की राजनीति में हलचल की संभावना

ईश्वर धामु: पत्रकारिता से राजनीति में आए करनाल से भाजपा सांसद अश्वनी चोपड़ा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा पर चलाए जा रहे न्यूज बमों से हरियाणा भाजपा की राजनीति में हलचल की संभावना के आसार नजर आने लगे हैं!

DLF planned township on land Vadra bought, then dropped it

Courtesy THE INDIAN EXPRESS
Written by Ritu Sarin | New Delhi |

Priyanka Gandhi Vadra issued a statement Thursday that the source of funds for the land she bought and sold in Faridabad, Haryana had “no relationship whatsoever” with husband Robert Vadra, his firm Skylight Hospitality or real estate major DLF. Yet the 5 acres she bought and sold in Amipur in Faridabad district form part of the land parcels which have been under the scanner of enforcement agencies — two persons have already been summoned and questioned — and purportedly figure in the Justice S N Dhingra Commission report on alleged irregularities in Haryana land deals...

“EVALUATING ELECTIONS - ELECTORAL REFORMS”

Ram Narain Yadav:The process of election is termed as the cornerstone of democratic system, as it is the political means through which political opinion and awareness of the people are moulded and promoted.  Election involves people into politics and public affairs through participation and mobilization. 

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, संसद की मंजूरी के बिना कोई भी नई जाती ओबीसी में शामिल नहीं होगी

नई दिल्ली : मोदी सरकार ने देश के अन्य पिछड़ा वर्ग में शामिल होकर आरक्षण की मांग करने वालों को करारा झटका दिया है। गुरुवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यह फैसला किया है कि अब संसद की मंजूरी के बिना किसी भी नई जाति को पिछड़ा वर्ग में शामिल नहीं किया जा सकेगा। इसके साथ ही मंत्रिमंडल ने गुरुवार को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के स्थान पर एक नये आयोग के गठन की मंजूरी भी प्रदान किया है। इतना ही नहीं नहीं, सरकार पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के लिए संविधान में संशोधन भी.....

योगी के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने से राम मंदिर के निर्माण का रास्ता होगा क्लीयर ?

रमेश शर्मा:भाजपा हाईकमान द्वारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के लिए योगी आदित्यनाथ के नाम की घोषणा के बाद समूचे हिन्दू समाज में ख़ुशी की लहर सी दौड़ गई लगती है। लगभग दो दशक से भी अधिक समय से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का इन्तजार कर रहे करोड़ों लोगों को लगने लगा है कि योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री के सिंहासन पर विराजमान होने के पश्चात अब राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ हो जाएगा। कल 19 मार्च को देश के सबसे बड़े प्रदेश के मुख्यमंत्री के सिंहासन पर विराजमान......

यूपी चुनावों में वोटिंग मशीन में बिना गड़बड़ी के भाजपा की इतनी बड़ी जीत संभव नहीं - मायावती

उत्तर प्रदेश से मिले चुनावी नतीजों में भाजपा को मिली ऐतहासिक जीत पर बसपा सुप्रीमों मायावती ने एक पत्रकार सम्मेलन में आरोप लगाया है बिना गड़बड़ी के भाजपा की इतनी बड़ी जीत संभव नहीं और यूपी के नतीजे बड़े चौकानें वाले हैं। उन्होंने कहा कि वोटिंग मशीन ने बीजेपी के बिना किसी और का वोट स्वीकार नहीं किया। मायावती ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि लगता है कि दूसरी पार्टियों का वोट भी भाजपा के खाते में गया।उन्होंने चुनाव आयोग से इस गड़बड़ी की शिकायत की और कहा कि हैरानी की बात है कि मुस्लिम इलाकों से भाजपा का इतना ज्यादा वोट कैसे मिला जबकि भाजपा ने एक भी मुस्लिम को टिकट नहों दिया....

SYLका निर्माण करना ही होगा,पंजाब सरकार को सुप्रीम कोर्ट का तगड़ा झटका

चंडीगढ़ :सुप्रीम कोर्ट में सतलुज यमुना लिंक मामले में बुधवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया है कि लिंक नहर का निर्माण करना ही होगा। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि लिंक नहर में कितना पानी आएगा, यह बाद में तय किया जाएगा। देश के शीर्ष न्यायालय ने कहा कि पंजाब और हरियाणा समझौता कर नहर बनाएंगे तो बेहतर होगा क्योंकि कोर्ट इस मामले में पहले ही दो आदेश जारी कर चुका है। इसके अलावा हरियाणा और पंजाब को कानून व्यवस्था बनाए रखने के आदेश भी दिए गए हैं। कोर्ट ने कहा कि सतलुज यमुना लिंक को लेकर यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश बरकरार रहेंगे। राज्यों में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी दोनों राज्यों पर है। सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल दोनों राज्यों के बीच कानून-व्यवस्था बनाए रखने में केंद्र सरकार को आदेश देने से इनकार किया है

सुशासन एक चक्रव्यूह - इच्छाशक्ति चाहिए

महाभारत के अभिमन्यू को चक्रव्यूह का शायद पूरा ज्ञान न हो पाया था। परंतु सुशासन चक्र का ज्ञान डा0 भीमराव अम्बेडकर ने हमे विस्तार से दिया है। तो सुशासन के इस चक्रव्यूह को तोड़ना मुश्किल क्यों है और इसके लिए जिम्मेवार कौन है ?भारतीय संसदीय प्रणाली एक विशिष्ट व विचित्र प्रणाली है। इसमें बड़ी ही सुंदर संसदीय प्रणाली दी हुई है। यह संविधान व संविधान के अनुच्छेद 118/208 के अंतर्गत विधानमडलों द्वारा बनाए गए नियमों में विस्तृत रूप से दिया गया है। इसका सारांश ही यहां पर प्रस्तुत किया जा रहा है।

राजनीतिक चंदे पर बड़ा फैसला, सियासी दलों के सामने बड़ी चुनौती

भारत हो या अन्य लोकतांत्रिक देश राजनीतिक दल बिना चंदे के चुनाव लडऩे की सोच भी नहीं सकते है। यह भी सच है कि अगर चंदे में पारदर्शिता न हो तो यह भ्रष्टाचार की जड़ बन जाता है। असल में देश के ज्यादातरराजनीतिक दल चंदे के हिसाब-किताब में पारदर्शिता नहीं रखते हैं। हालाकि देश में राजनीतिक दलों को मिलने वाले चुनावी चंदे को लेकर इन दिनों खूब हो हल्ला मचा हुआ है।

12
लोकप्रिय ख़बरें
Visitor's Counter :   0036417239
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved. Website Designed by mozart Infotech