Thursday, May 23, 2019
Follow us on
विशेष
भारतीय अमीरों - अमेरिकन अमीरों से कुछ सीखो


अमेरिका के आगे बढने और आज भी अमेरिका को सपने साकार करने के अवसरों की भूमि कहा जाता है तो उसका श्रेय अमेरिकनस की उदार, परस्पर सहयोग की भावना को जाता है । एक अमेरिकन करोड़पति ने अपने पिछले कालेज के सारे के सारे विद्यार्थियों जोकि लगभग 400 थे, उनके लोन का अदा कर उन्हें खुशी का तोहफा दिया । सबसे अमीर अश्वेत ने अपने एटलांटा कालेज में जिसमें कि ज्यादातर अफ्रीकन-अमेरिकन छात्र पढ़ते हैं, उनके शैक्षणिक लोनज से मुक्त करने के लिए 40 मिलियन डालर की ग्रांट दी है ।

आने वाले समय में राजनैतिक पटल पर आशा की लकीर


अब लोकतंत्र का चुनावी महापर्व सातवें चरण में पहंुच गया है तथा इसका पहला अति महत्वपूर्ण पार्ट चुनाव अभियान खत्म हो चुका है । अब लगता है पार्टी कार्यकर्ताओं, राजनेताओं और चुनाव करवाने वाले अधिकारियों को चैन की सांस आयेगी । पर जीवन में जैसे सांसों का आना जाना चलता है, वैसे ही अब अगले पढ़ाव-23 तारीख परिणामों के दिन के लिए कमर कसनी शुरू हो जाएगी, लगता है चुनावी थकान उतारने का अवसर भी नहीं मिलेगा, क्योंकि एगजिट पोलज पर लगा प्रतिबंध 19 तारीख से उठ जाएगा तथा परिणामों पर कयास लगने शुरू हो जाएंगे ।

एक अदद सरकारी नौकरी की चाह

सी ई एस के सर्वे ने एक बार फिर युवाओं में सरकारी नौकरी की चाहत को तथा जीवन में आगे बढ़ने के लिये निजी क्षेत्र की नौकरी की अपेक्षा इसे ज्यादा आकर्षक माना है। सैंटर फार इक्विटी रिसर्च ने इस सर्वे में बदलते ट्रैंड पर प्रकाश डाला है। आरम्भिक दौर में औद्योगिक नीतियों में सरकार को माडल नियोक्ता का रोल अदा करने के लिये जिम्मेदारी सौंपी गई थी, पर 1990 के बाद उदारीकरण, भूमंडलीकरण तथा निजीकरण के चलते प्राइवेट सैक्टर युवाओं को अपने भारी भरकम पैकेजस तथा सुविधाओं के चलते लुभाने लगे। परन्तु अब फिर युवाओं में सरकारी क्षेत्र की नौकरियों के प्रति आग्रह तथा आकर्षण बढ़ रहा है, क्योंकि निजी क्षेत्र में बढ़ते काम के घण्टे, असुरक्षा तथा प्रैशर्ज के चलते रूझान कम हुआ है।

चुनाव और उनका आर्थिक पहलू

प्रजातंत्र सरकार चलाने की सबसे मंहगी व्यवस्था है, लेकिन इसके अनिवार्यतः फायदों के कारण ही चर्चिल ने इसे सबसे खराब प्रारूप कहा, पर बाकी सब व्यवस्थाओं से इसे बेहतर बताया । चुनावों का आर्थिक पहलू भी अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं, 2019 के चुनावों को भारत में अब तक का सबसे मंहगा चुनाव बताया जा रहा है । जिस प्रकार भारत में विवाह- शादियां दिनप्रतिदिन मंहगे होते जा रहे हैं तथा उनका स्थायित्व घटता जा रहा है, उसी प्रकार चुनावी उत्सव भी आर्थिक नजर से उत्तर की ओर मंुह किए निरंतर मंहगे होते जा रहे हैं, पर वे पुराने ढरें-जाति, धर्म, भाषा जैसे प्राथमिकतावादी मुद्दों पर ही लड़े जा रहे हैं।

चुनावी उत्सव में पगलाया लोकतंत्र कानूनन नामांकन भरने की अंतिम तिथि तक  मतदाता सूची में नाम डाला जा सकता है - हेमंत मोदी ब्रांड - विरोधाभास व अंर्तिर्वरोध Air train’ plan to connect IGI terminals set to take off HT EDIT-Needless State meddling will harm higher education क्यों भारत खुशहाल देशों में नीचे हैं? ये है वैलेंटाइन डे पर निबंध, जानें प्रेम का वास्तविक रूप Verma Gets Charge Sheet from DoPT क्या अम्बाला एयरपोर्ट के लिए पहले से मौजूद रनवे का होगा इस्तेमाल ? Budget 2019: टैक्स छूट की सीमा बढ़ाकर 5 लाख की गई क्या नए पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति से पूर्व कार्यवाहक डी.जी.पी. लगाएगी हरियाणा सरकार ? क्या नए पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति से पूर्व कार्यवाहक डी.जी.पी. लगाएगी हरियाणा सरकार ? युवा की ही दरकार - रोजगार की पुकार कुशल नेतृत्व के लिए वाजिब सवाल कृषि व्यवसाय में अपरिहार्य सुधार Tatkalnews के विजिटर्स का आंकड़ा छह करोड़ पार वर्ष 2018 का अन्तिम सप्ताह Army fixes guest room bug after furore Officers can book online, no NAC needed, basic facilities listed सुप्रीम कोर्ट : कार्यकारी मजिस्ट्रेट एफ.आई.आर. दर्ज करने बाबत नहीं दे सकता पुलिस को निर्देश अफसरशाही का कमाल : हरियाणा में भूमि अधिग्रहण कानून, 2013 पूरी तरह से नजरअंदाज MP oppn sniffs conspiracy after EVM room blackout CCTVs, LED Screens Go Off For 90 Min हरियाणा सरकार द्वारा जारी सरकारी विज्ञापन में डॉ. बी.आर.अम्बेडकर के नाम के समक्ष “भारत रत्न” प्रयुक्त करना सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की अवमानना नहीं BJP, INLD, Cong to contest on symbol FOURTEEN YEARS GONE, HARYANA NEITHER CHANGED CIVIL JUDGES NOMENCLATURE NOR RELEVANT LAW क्या एक वर्ष के कार्यकाल से पूर्व आई.जी. एवं एस.पी. का तबादला न्यायोचित – एडवोकेट हेमंत दीपावली पर उपहार बने व्यापार, छा गया बाजार,कितनी बची चाह उल्लास की हरियाणा में एसिड अटैक पीड़ितों को अब सुप्रीम कोर्ट के ताजा निर्देशों के अनुसार मिलेगा मुआवजा एडवोकेट हेमंत ने राष्ट्रपति सचिवालय में आर.टी.आई. दायर कर हाईकोर्ट के चार अतिरिक्त जजों की नियुक्ति बारे जानकारी मांगी क्रवाचैथ मात्र व्रत नहीं, आज उत्सव बन गया है 72-hour pollution forecast system launched in NCR