Sunday, September 22, 2019
Follow us on
 
विशेष
लोकतंत्र में लोक शक्ति शुन्य

संक्रांति काल में व्यवस्थाओं में उथल पुथल होती है, पर व्यवस्थाओं और संस्थाओं की गरिमा और उनकी अस्मिता पर ही किसी देश , राज्य व समाज का ढांचा खड़ा रहता है, पर जिस तरह से खुले आम, खुल्लम-खुल्ला नियम, मर्यादाओं की अनदेखी, उन्हें तोड़ा-मरोड़ा व राजनैतिक हित के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है, तथा सुद्यी जन व समाज का प्रबुद्ध वर्ग चुप है या उनकी सुनवाई ही नहीं है या वे देखते हुए भी नहीं देखते और सुनते हुए भी नहीं सुनते, ऐसा प्रतीत होता है 

ET EDIT-At Last, Some Sense on Managing Water अरूण जेटली की सरकार से विदाई - अमितशाह की सरकार में शहनशाई 31 मई को महारानी अहिल्या बाई होल्कर की जयन्ती के अवसर पर विशेष लेख निर्मम प्रश्नाकुलता का समय - विपक्ष के लिये मोदी चिंतन के नये सुर 5 जून - विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष लेख जनता के भरोसे का मोदी को ब्लैंक चैक भारतीय अमीरों - अमेरिकन अमीरों से कुछ सीखो बीस साल से गलत साबित हो रहे हैं एग्जिट पोल - वेंकैया नायडू , उपराष्ट्रपति परीक्षाओं में श्रेष्ठ प्रदर्शन - लड़कियों के आगे बढ़ने में नया अवरोध । TMC MP sends notice to PM for ‘defamation’ आने वाले समय में राजनैतिक पटल पर आशा की लकीर एक अदद सरकारी नौकरी की चाह  डिजिटाइजेशन और प्राईमरी स्कूल के बच्चे मूल्य विहीन तथा मुद्दा विहीन चुनावी अभियान में बेबस मतदाता शतप्रतिशत परिणाम मोदीमय 2019 का चुनाव अभियान राजनैतिक आकांक्षाए और विवाहित जीवन राजनीति के खेल में सैलीब्रिटिज हुड्डा को चुनौती देकर मीडिया की सुखियों में बने रहना चाहते थे राजकुमार सैनी चुनाव और उनका आर्थिक पहलू चुनावी उत्सव में पगलाया लोकतंत्र कानूनन नामांकन भरने की अंतिम तिथि तक  मतदाता सूची में नाम डाला जा सकता है - हेमंत मोदी ब्रांड - विरोधाभास व अंर्तिर्वरोध Air train’ plan to connect IGI terminals set to take off HT EDIT-Needless State meddling will harm higher education क्यों भारत खुशहाल देशों में नीचे हैं? ये है वैलेंटाइन डे पर निबंध, जानें प्रेम का वास्तविक रूप Verma Gets Charge Sheet from DoPT क्या अम्बाला एयरपोर्ट के लिए पहले से मौजूद रनवे का होगा इस्तेमाल ?