Sunday, September 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
सोनीपत शहर के विभिन्न सेक्टरों की 83 किलोमीटर लंबी सड़कों का 45 करोड़ रुपये की लागत से कायाकल्प किया जाएगा:कविता जैन मनोहर लाल ने आज नलवा विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए 54.54 करोड़ रुपये की लागत के विकास कार्यों की सौगात दी हरियाणा में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के दृष्टिगत दो-पहिया वाहन चालक व सवार महिलाआें के लिए भी हैलमेट पहनना अनिवार्य किया गयाईरान : सैन्य परेड हमले में 24 की मौत, 50 से ज्‍यादा घायल पीएम मोदी ने बिलासपुर-अनूपपुर तीसरी लाइन का शिलान्यास कियाराहुल गांधी ने देश के प्रमाणिक नेता पीएम मोदी को चोर कहा है : रविशंकर प्रसाद हिजबुल ने जम्मू-कश्मीर पुलिस को दी धमकी, जारी की टारगेट सूचीप्रधान सेवक देश की नहीं, अंबानी की सेवा कर रहे थे : रणदीप सुरजेवाला
Education

परीक्षा केन्द्र पर प्रति पेपर परीक्षार्थियों से वसूले जा रहे है 500 से 1000 रूपऐं

March 29, 2014 04:06 PM

संवाद सहयोगी, सतनाली: गत 24 मार्च से शुरू हुई दिल्ली ओपन की परीक्षाओं में हो रही जमकर नकल के कारण जहां दिल्ली ओपन की परीक्षाओं पर सवालिया निशान लग रहे है वहीं दुसरी ओर नेशनल ओपन स्कूल की परीक्षाओं में सतनाली कस्बा स्थित एकमात्र परीक्षा केन्द्र पर वहां तैनात ड्यूटी स्टाफ व परीक्षा केन्द्र संचालकों की मिलीभग्त से जमकर नकल करवाई जा रही है, जिससे नकलमुक्त परीक्षाओं के संचालन के दावों की हवा निकलती दिखाई दे रही है। कस्बे में महेन्द्रगढ़ रोड पर एक निजी स्कूल में बनाए गए एक परीक्षा केन्द्र पर तो नेशनल ओपन स्कूल की मैट्रिक की अंग्रेजी विषय की परीक्षा के दौरान छात्रों को समूह के रूप में बैठकर नकल करवाई जा रही है, इतना ही नही इस दौरान वहां तैनात ड्यूटी कर्मचारी छात्रों को बैठाकर बाहर चले जाते है एवं बिना शोर किए आराम से मिलजुलकर पेपर करने की नसीहत भी छात्रों को दी जाती है। अनेक छात्रों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि परीक्षा केन्द्र संचालक उनसे परीक्षा के दौरान खुली नकल करवाने के लिए प्रति पेपर 500 से 1000 रूपऐं वसूल करते है, इसके बाद परीक्षा से संबधित नकल सामग्री भी उक्त संचालक व ड्यूटी कर्मचारी द्वारा उपलब्ध करवाई जाती है तथा एक विशेष रूपरेखा के तहत सीटिंग प्लान बनाया जाता है। नेशनल ओपन की परीक्षाओं के दौरान यदि कोई उडनदस्ता आता है तो उडनदस्तें के सदस्यों की जेबें भर दी जाती है जिसके बाद परीक्षा केन्द्र की चेंकिंग रिपोर्ट पोजिटिव बना दी जाती है। न कोई बाहरी हस्तक्षेप और उसके बावजूद भी परीक्षा केन्द्र के अन्दर नकल चली वो भी पैसे की सौदेबाजी के तहत। जिन परीक्षार्थियों ने पैसे नहीं दिये उन्हें परीक्षा में बैठने तक नहीं दिया। परीक्षा से अपने आप को वंचित होते देख बाहर खड़े विद्यार्थियों ने पैसे देकर स्कूल के अंदर प्रवेश किया। परीक्षा केन्द्र पर चल रही अनियमितता की शिकयत के चलते जब परीक्षा केन्द्र का दौरा किया गया तो मुख्य गेट से अन्दर ही नहीं जाने दिया गया तथा परीक्षा केन्द्र के बाहर खडे युवकों ने बताया कि परीक्षा केन्द्र में कोई अपनी माँ के स्थान पर पेपर दे रहा है तो कोई अपने भाई की जगह पर, छात्रों से पैसे लेकर नकल करवाई जा रही है। वहीं अनेक छात्रों ने बताया कि यदि कोई परीक्षार्थी पैसे देने से इन्कार करता है तो उसे नकल करने से रोक दिया जाता है, इतना ही नही यदि उसके पास कोई नकल की पर्ची पाई जाऐं तो उसे परीक्षा केन्द्र से बाहर कर दिया जाता है। ऐसे में योग्य परीक्षार्थियों को परीक्षा के दौरान बाधा तो उत्पन्न होती है लेकिन साथ ही उसका शैक्षणिक ढ़ांचे के प्रति विश्वास भी उठता है। अयोग्य व कमजोर छात्र बिना मेहनत के पैसे व नकल के बल पर अ'छे अंक लाने में कामयाब हो जाते है। परीक्षा में भारीभरकम पैसे लेने की बात पर केन्द्र संचालक से पूछा गया तो उनका स्पष्ट कहना था कि वे पैसे देकर सेन्टर लाये हैं, ऐसे में पैसे तो लेने ही पड़ेगे। सभी स्कूल पैसे देकर सेन्टर लाते हैं, आपका कोई विद्यार्थी हो तो बता देना उसे उसके पैसे वापस दे देंगे। वहीं जब इस बारें में पुलिस की व्यवस्था के बारें में थाना प्रभारी महावीर सिंह से पूछा गया तो उनका कहना था कि परीक्षा के लिए पुलिस सुरक्षा का प्रबंध करने की मांग ही नहीं की गई है तो वे क्या कर सकते है।

Have something to say? Post your comment
 
More Education News
24 सितंबर को गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी ऑफ साईंस एंड टैक्नोलोजी, हिसार में ‘स्वच्छ भारत समर इंटर्नशीप स्कीम’ के तहत प्रदर्शनी लगाई जाएगी जिसमें इंटर्नस द्वारा बनाई गई पेंङ्क्षटग, स्लोगन, चार्ट व अन्य सामग्री प्रदर्शित की जाएगी प्राइमरी स्कूलों में 97 हजार टीचरों की जरूरत, मेरिट पर सिलेक्शन है प्रमुखता: योगी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत आवेदन नहीं कर पाए या पंजीकरण उपरांत आवेदन पूर्ण नहीं कर पाए, उन सभी छात्रों को 10 सितम्बर, 2018 तक विभागीय पोर्टल www.hryscbcschemes.in पर आवेदन करने का अंतिम अवसर प्रदान किया प्रदेश के प्राईवेट स्कूलों की अस्थाई मान्यता एक साल के लिए बढ़ी:राम बिलास शर्मा
Nursery admission: Testing times for parents
हरियाणा के सरकारी व प्राईवेट स्कूलों के पांचवीं कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक सभी बच्चों को साईबर सिक्योरिटी के बारे में जागरूक किया जाएगा हरियाणा सरकार ने विभिन्न विभागों की विभागीय परीक्षाओं की डेटशीट जारी की है
About 70% of Early-stage Breast Cancer Patients May Avoid Agony of Chemotherapy: Study
भिवानी के शैक्षिक सत्र 2018-19 के लिए कक्षा आठवीं से हरियाणा राज्य के सभी राजकीय विद्यालयों का कक्षा आठवीं का एनरोलमेंट लगाने का कार्य निकट भविष्य में आरम्भ किया जाना है हरियाणा सैकेण्डरी शिक्षा विभाग ने मार्च, 2018 में मैट्रिक परीक्षा पास करने वाले हरियाणा के मूल निवासी छात्र-छात्राओं से पोस्ट मैट्रिक मैरिट छात्रवृत्तियां प्रदान करने के लिए 30 सितम्बर, 2018 तक आवेदन आमंत्रित किए