Friday, April 03, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
कोरोना:हरियाणा में कुल 43 मरीज केस पॉजिटिव आए,13 लोगों डिस्चार्ज हुए,30 का इलाज चल रहा है:राजीव अरोड़ा, हेल्थ डिपार्टमेंटअम्बाला:लोगों में खाना बाँटने की परमिशन रद्दहरियाणा के स्वास्थ्य व गृह मंत्री अनिल विज ने लोगों से अपील की है कि 5 अप्रैल को 9 बजे,9 मिनट के लिए जलाएं दीपPM मोदी - 5 अप्रैल को कहीं एकत्र नहीं होना, सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखना होगाPM नरेंद्र मोदी - 5 अप्रैल को अकेले बैठकर मां भारती को याद करेंराजस्थानः टोंक में 5 को कोरोना, दिल्ली में जमात में शामिल लोगों के संपर्क में आए थेआगराः दिल्ली के जमात में शामिल 28 में से 6 लोग कोरोना पॉजिटिव- DMबंगलुरूः क्राइम ब्रांच ने 1.25 लाख की शराब के साथ 2 को पकड़ा, केस दर्ज
International

एक क्रूज, 3500 लोग, 11 दिनों से बंद हैं बाहर जाने के दरवाजे ‘मेरी बेटी को कोरोना नहीं है लेकिन वह कब तक बच पाएगी’

February 15, 2020 05:30 AM

COURTESY NBT FEB 15

हॉन्ग कॉन्ग में उतरे एक यात्री को था कोरोना, इसलिए जापान ने इस क्रूज को योकोहामा तट पर खड़ा कर दिया
एक क्रूज, 3500 लोग, 11 दिनों से बंद हैं बाहर जाने के दरवाजे

‘मेरी बेटी को कोरोना नहीं है लेकिन वह कब तक बच पाएगी’

 

छोटी नाव लोगों के लिए खाना और दवाइयां लेकर आ रही हैं
जापान के क्रूज में फंसी हैं मुंबई की सोनाली। सिक्योरिटी ऑफिसर हैं।
सोनाली ठक्कर को अलग केबिन में रखा गया है
योकोहामा तट पर खड़े डायमंड प्रिंसेज क्रूज पर घूमते हुए यात्री• तोक्यो

 

जापानी क्रूज में फंसे एक ऑस्ट्रेलियाई कपल ने फैसला किया है कि कोरोना का डर उनका वीकेंड प्लान नहीं बिगाड़ सकता। उन्होंने एंजॉय करने के लिए ड्रोन के जरिए अपने केबिन में वाइन मंगाई। जैन और डेव बिन्सकिन ने फैसला किया कि वे सीधा अपने केबिन में वाइन मंगाएगे। उन्होंने फेसबुक पर वाइन की बोतलों का फोटो शेयर किया और लिखा, ‘खाली पड़े वाइन क्लब में पहला ड्रॉप आया है। ड्रोन्स का शुक्रिया। जापानी कोस्टगार्ड को पता ही नहीं चला कि क्या चल रहा है।’ कपल ने वाइन के ग्लास के साथ अपनी फोटो भी शेयर की। दोनों ही रोजाना सोशल मीडिया के जरिए लोगों का हाल बताते रहते हैं। एक अमेरिकी कपल का कहना है कि यहां जिंदगी हर दिन मुश्किल होती जा रही है।
ड्रोन के जरिये अपने केबिन में मंगाई वाइन
क्रूज में फंसी सोनाली के पिता बोले, कब बचाया जाएगा
अपने केबिन में वीकेंड का मजा लेते डेव बिन्सकिन• तोक्यो

 

कोरोना के डर से जापान में खड़े क्रूज के यात्रियों के लिए ये दिन किसी डरावने सपने से कम नहीं हैं। इन यात्रियों के परिजनों के लिए भी यह मुश्किल की घड़ी है। इस क्रूज में 3711 लोग सवार थे। 218 से ज्यादा लोगों में कोरोना की पुष्टि होने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, बाकी सभी को 3 फरवरी से क्रूज में रोक लिया गया। 11 दिनों से क्रूज में फंसे यात्री और उनके परिजन सोशल मीडिया के जरिए मदद की गुहार लगा रहे हैं।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,‘डायमंड प्रिंसेज’नाम के इस क्रूज पर फंसे एक यात्री डेविड एबेल ने कहा, हम अपने-अपने कमरों में कैद हैं। हमें कहा गया है कि तब तक दरवाजे न खोलें जब तक कोई खटखटाए ना और आपके लिए खाना न लाए। हम ऐसा महसूस कर रहे हैं जैसे हम जेल में बंद कैदी हों। हालांकि डेविड ने एक टीवी चैनल को यह भी कहा कि छोटी नावों के जरिए लोगों तक खाना और दवाइयां भेजी जा रही है। मेडिकल स्टाफ रातभर लोगों की जांच कर रहा है।

इसी क्रूज पर फंसे भारतीय लोगों ने भी प्रधानमंत्री मोदी से उन्हें बचाने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि कम से कम उन्हें तो बचाया जाए जो अभी फिट हैं। फंसे लोगों के परिजनों की शिकायत है कि कोरोना के केंद्र चीन से लोगों को निकाला गया, लेकिन जापान से नहीं। फिलीपींस के पांच क्रू मेंबर कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव आए हैं। इनमें एक की पत्नी चाहती हैं कि क्रूज कंपनी उनके पति को वहां से बाहर जाने दे। वह कहती हैं, ‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर उनकी नौकरी चली जाती है। मेरे लिए जरूरी है कि वह जिंदा रहें।’ फिलीपींस की एक महिला ने बताया कि उनका भाई क्रूज में क्रू मेंबर है। पूरा परिवार उसकी फिक्र कर रहा है। हम केवल प्रार्थना कर सकते हैं और कुछ नहीं। मियामी की सॉफ्टवेयर कंपनी ऑडिसियस सॉल्यूशंस क्रूज कंपनियों की बुकिंग का जिम्मा संभालती है। कंपनी के सीईओ मोनीष लूथरा का कहना है कि क्रूज बुकिंग में 40 फीसदी की गिरावट आई है जबकि इस सीजन में ज्यादा बुकिंग होती हैं।• मुंबई मिरर

 

मुंबई के मीरा रोड की एक सिक्योरिटी ऑफिसर सोनाली ठक्कर (24) जापान के डायमंड प्रिंसेज क्रूज पर सवार थीं। ठंड और बुखार के लक्षण के बाद उन्हें सोमवार से ही अलग रखा गया है। ठक्कर की जांच की गई है और वह परिणाम का इंतजार का रही हैं। सोनाली ने बताया, ‘हमें और ज्यादा लोगों की जरूरत है, ज्यादा डॉक्टर ताकि वहां फंसे सभी लोगों की जल्दी जांच की जा सके। हमें दो या तीन दिन तक टेस्ट के रिजल्ट का इंतजार करना पड़ रहा है। मैं भारत सरकार से गुजारिश करती हूं कि वह जापान सरकार से अपील करे कि जिन यात्रियों के टेस्ट निगेटिव हैं उन्हें अलग किया जाए। क्रू मेंबर अभी सुरक्षित हैं लेकिन कब तक/ क्रूज में करीब 3,700 लोग फंसे हुए हैं। रोजाना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। मेरे पैरंट्स चिंता में हैं। वे कह रहे हैं कि कोई न कोई मदद जरूर पहुंचेगी लेकिन मुझे आइसोलेशन में रखा गया है। मैं पिछले तीन दिनों से एक केबिन में बंद हूं।’ वहीं, मुंबई में सोनाली के पिता दिनेश ने कहा कि वह रोजाना विडियो कॉल पर अपनी बेटी से बात करते हैं। उन्होंने सरकार से भारतीयों को बचाने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि अभी तक कोई कारगर कदम नहीं उठाया गया है। जिन लोगों के टेस्ट निगेटिव आए हैं उन्हें शिप छोड़ने की इजाजत नहीं दी गई है।

उन्होंने कहा, ‘अगर सरकार वुहान से छात्रों को वापस ला सकती है तो क्रूज पर फंसे भारतीयों को निकालने के बारे में क्यों नहीं सोच रही/ जापानी अधिकारियों के साथ तालमेल बैठाने और मदद भेजने में इतनी देरी क्यों/ मैं चाहता हूं कि मेरी बेटी सुरक्षित वापस आए। सरकार कुछ करे। उसे कोरोना नहीं है लेकिन हम डरे हुए हैं क्योंकि शिप में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अगर देरी हुई तो उसे भी संक्रमण हो सकता है।’

दिनेश ठक्कर ने बताया कि उनकी बेटी ने 2018 में क्रूज शिप पर काम करना शुरू किया और डायमंड प्रिंसेज को जॉइन किया। वह एक दूसरे सिक्योरिटी ऑफिसर के साथ केबिन में है। वह कहीं नहीं जा सकती क्योंकि वहां यात्रियों में वायरस की पुष्टि हो चुकी है।

Have something to say? Post your comment
 
More International News