Wednesday, July 08, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
कानपुर शूटआउट: चौबेपुर थाने के सभी 68 कर्मचारियों को किया गया लाइन हाजिरफरीदाबाद: विकास दुबे की तलाश में छापेमारी, पुलिस ने विकास के एक साथी को किया गिरफ्तारब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो कोरोना पॉजिटिव पाए गएUP: IPS अनंत देव का तबादला, STF से हटाकर PAC भेजा गयाराज्य के सभी 22 जिलों में स्थापित की जाएंगी, जिससे राज्य के लगभग 70,000 एमएसएमई लाभान्वित होंगे:मनोहर लालनिजी क्षेत्र में प्रदेश के युवाओं के लिए कानून लागू होने पर किसी की नौकरी नहीं जाएगी – उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटालाजेजेपी नेता दिग्विजय सिंह चौटाला ने गठबंधन सरकार का जताया आभारडिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला प्रदेश के हर खंड में बायोगैस प्लांट लगाने का आदेश देकर जाहिर कर चुके हैं इस परियोजना का महत्व
Niyalya se

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जजों के भर्ती मामले में फैसला सुरक्षित रखा, दोबारा मूल्यांकन या परीक्षा संभव

December 04, 2019 06:16 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR DEC 4

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जजों के भर्ती मामले में फैसला सुरक्षित रखा, दोबारा मूल्यांकन या परीक्षा संभव
107 पदों की भर्ती में 9 का ही हुआ था चयन, तो शीर्ष कोर्ट पहुंचा मामला
पानीपत/नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा न्यायिक सेवा में सिविल जज (जूनियर डिवीजन) के 107 पदों की भर्ती मामले में मंगलवार को फैसला सुरक्षित रख लिया। कोर्ट दोबारा परीक्षा या दोबारा मूल्यांकन के विकल्पों पर विचार कर रही है। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनवाई की। याचिकाकर्ता परीक्षार्थियों की तरफ से सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण ने दलीलें रखीं। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि चयन प्रक्रिया में काफी खामियां हैं और अन्य राज्यस्तरीय परीक्षाओं में चयनित टॉपर उम्मीदवार भी इसमें पास नहीं हो सके। प्रशांत भूषण ने कहा कि मामले को सुलझाने के लिए अंक विवरण पद्धति वाले 'स्केलिंग व मोडेरेशन पद्धति' को अपनाना चाहिए। जजों की बेंच ने पूछा कि क्या किसी न्यायिक परीक्षा में कभी यह पद्धति अपनाई गई है। भूषण ने जवाब दिया कि यूपीएससी में अपनाई जा रही है। कोर्ट ने कहा कि न्यायिक परीक्षा प्रकृति में पूरी तरह अलग है। ऐसा लगता है कि यहां अंक विवरण पद्धति काम नहीं करेगा। इसलिए अन्य विकल्पों पर विचार करेंगे। शेष | पेज 9 पर
पूर्व जस्टिस एके सीकरी के सुझाव
सिविल लॉ-1 के पेपर में 9 अभ्यर्थियों ने 33% अंक प्राप्त किए थे। पेपर लंबा था व समय कम था। 5 सवालों के जवाब देने थे, जिनके कुछ हिस्सों के साथ-साथ प्रश्नों की कुल संख्या 18 थी। समय केवल 3 घंटे था। पेपर पढ़ने के लिए दिए 27 मिनट को अलग रखा जाए तो प्रत्येक प्रश्न के लिए मुश्किल से 8.5 मिनट अधिकतम मिल रहे थे। मूल्यांकन भी काफी सख्त हुआ। इसलिए नए सिरे से परीक्षा आयोजित की जाए या दोबारा मूल्यांकन किया जाए

Have something to say? Post your comment
More Niyalya se News
सुप्रीम कोर्ट ने अपने रजिस्ट्री स्टाफ के खिलाफ दाखिल याचिका खारिज की दिल्ली: कोरोनिल के खिलाफ दर्ज शिकायत पर पटियाला हाउस कोर्ट ने बसंत विहार के SHO को जारी किया नोटिस 1984 सिख दंगा मामला: सुप्रीम कोर्ट से आरोपी पूर्व विधायक महेंद्र यादव की जमानत याचिका खारिज की पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने स्कूल फ़ीस मामले में दिए स्पष्ट आदेश पंजाब: हाईकोर्ट से प्राइवेट स्कूलों को राहत, चार्ज कर सकते हैं ट्यूशन, एडमिशन फीस Not wearing sindoor sign of refusal to accept marriage’ Gauhati high court grants divorce on Hindu wife’s refusal to wear sindoor HC seeks Hry reply on plea for prosthetic limbs to boy बाबा रामपाल को बेटी की शादी के लिए चंडीगढ़ हाईकोर्ट से मिली जमानत SC: Govt lockdown order not akin to Emergency Right Of Accused To Get Bail For Late Chargesheet Can’t Be Removed