Thursday, January 23, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
SYL के मुद्दे पर बोले सीएम मनोहर लाल सुप्रीम कोर्ट बहुत जल्दी निर्णय देगासाइकिल कंपनी एटलस के मालिक की पत्नी नताशा ने सुसाइड नोट में लिखा- मैं अपनी नजर में गिर गई अमरोहा हत्याकांड: दोषी शबनम और सलीम की पुनर्विचार याचिका पर SC ने सुरक्षित रखा फैसला जम्मूः आतंकियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी देवेंद्र सिंह को कोर्ट में किया गया पेश जयपुर में एक्ट्रेस नंदिता दास ने कहा- हम सबको बोलना चाहिए CAA के खिलाफ नालासोपारा हथियार मामला: महाराष्ट्र ATS ने पश्चिम बंगाल से प्रताप हजारा को किया गिरफ्तार गुरुग्राम जिले में किसानों के लिए ऑर्गेनिक मार्केट भी स्थापित की जाएगी:जय प्रकाश दलाल सरकार का प्रयास है कि यातायात नियमों की दृढता से पालना सुनिश्चित हो और दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत तक कमी लाना हमारा लक्ष्य:मूलचंद शर्मा
Niyalya se

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जजों के भर्ती मामले में फैसला सुरक्षित रखा, दोबारा मूल्यांकन या परीक्षा संभव

December 04, 2019 06:16 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR DEC 4

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जजों के भर्ती मामले में फैसला सुरक्षित रखा, दोबारा मूल्यांकन या परीक्षा संभव
107 पदों की भर्ती में 9 का ही हुआ था चयन, तो शीर्ष कोर्ट पहुंचा मामला
पानीपत/नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा न्यायिक सेवा में सिविल जज (जूनियर डिवीजन) के 107 पदों की भर्ती मामले में मंगलवार को फैसला सुरक्षित रख लिया। कोर्ट दोबारा परीक्षा या दोबारा मूल्यांकन के विकल्पों पर विचार कर रही है। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनवाई की। याचिकाकर्ता परीक्षार्थियों की तरफ से सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण ने दलीलें रखीं। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि चयन प्रक्रिया में काफी खामियां हैं और अन्य राज्यस्तरीय परीक्षाओं में चयनित टॉपर उम्मीदवार भी इसमें पास नहीं हो सके। प्रशांत भूषण ने कहा कि मामले को सुलझाने के लिए अंक विवरण पद्धति वाले 'स्केलिंग व मोडेरेशन पद्धति' को अपनाना चाहिए। जजों की बेंच ने पूछा कि क्या किसी न्यायिक परीक्षा में कभी यह पद्धति अपनाई गई है। भूषण ने जवाब दिया कि यूपीएससी में अपनाई जा रही है। कोर्ट ने कहा कि न्यायिक परीक्षा प्रकृति में पूरी तरह अलग है। ऐसा लगता है कि यहां अंक विवरण पद्धति काम नहीं करेगा। इसलिए अन्य विकल्पों पर विचार करेंगे। शेष | पेज 9 पर
पूर्व जस्टिस एके सीकरी के सुझाव
सिविल लॉ-1 के पेपर में 9 अभ्यर्थियों ने 33% अंक प्राप्त किए थे। पेपर लंबा था व समय कम था। 5 सवालों के जवाब देने थे, जिनके कुछ हिस्सों के साथ-साथ प्रश्नों की कुल संख्या 18 थी। समय केवल 3 घंटे था। पेपर पढ़ने के लिए दिए 27 मिनट को अलग रखा जाए तो प्रत्येक प्रश्न के लिए मुश्किल से 8.5 मिनट अधिकतम मिल रहे थे। मूल्यांकन भी काफी सख्त हुआ। इसलिए नए सिरे से परीक्षा आयोजित की जाए या दोबारा मूल्यांकन किया जाए

 
Have something to say? Post your comment