Thursday, July 02, 2020
Follow us on
Haryana

HARYANA-निर्दलीय नयनपाल रावत को मायूसी-...तो इसलिए सीमा त्रिखा को नहीं बनाया गया मंत्री

November 15, 2019 05:18 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR NOV 15

पंडित मूलचंद शर्मा बने कैबिनेट मंत्री, सीमा त्रिखा बनाई जा सकती हैं डिप्टी स्पीकर
यहां से मंत्री के लिए बड़खल से सीमा त्रिखा, बल्लभगढ़ से पंडित मूलचंद शर्मा, तिगांव से राजेश नागर और पलवल से विधायक दीपक मंगला का नाम चल रहा था।

बल्लभगढ़ क्षेत्र से लगातार दूसरी बार रिकार्ड मतों से जीतने वाले विधायक पं. मूलचंद शर्मा को मनोहर-दुष्यंत मंत्रिमंडल में कैबिनेट का दर्जा मिला है। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर काफी दिन से कयास लगाए जा रहे थे कि फरीदाबाद जिले से कम से कम दो मंत्रियों को स्थान इस बार अवश्य मिलेगा। क्योंकि फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र से 7 सीटें भाजपा को मिली हैं।
ऐसे में यहां से दो मंत्री बनाए जाने की अटकलें लगाई जा रही थीं। यहां से मंत्री के लिए बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा, बल्लभगढ़ के विधायक पंडित मूलचंद शर्मा, तिगांव से विधायक राजेश नागर और पलवल से विधायक दीपक मंगला का नाम चल रहा था, लेकिन मंत्रिमंडल में जगह मिली पं. मूलचंद शर्मा को। उन्हें ट्रांसपोर्ट, माइन एंड जियोलॉजी, स्किल डिवेलपमेंट एंड इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग और आर्ट एंड कल्चर विभाग मिले हैं।
मूलचंद को इसलिए मंत्री बनाया, दो ही विधायक ब्राह्मण समुदाय से जीते हैं
कैबिनेट मंत्री बनाए जाने के बाद चडीगढ़ के स्टेट गेस्ट हाउस में केंद्रीय राज्यमंत्री चौ. कृष्णपाल गुर्जर से मिलते पंडित मूलचंद शर्मा।
...तो इसलिए सीमा त्रिखा को नहीं बनाया गया मंत्री
माना जा रहा है सीमा का नंबर इसलिए नहीं पड़ा, क्योंकि सीएम मनोहर लाल और अंबाला कैंट से विधायक अनिल विज दोनों पंजाबी हैं। ऐसे में तीसरे पंजाबी को मंत्री नहीं बनाया जा सकता, क्योंकि पंजाबी समुदाय से ही तीन को मंत्रिमंडल में जगह मिलने से अन्य वर्ग में विरोध के सुर मुखर हो सकते थे। मूलचंद को इसलिए मंत्री बनाया गया। क्योंकि पिछले मंत्रिमंडल में शामिल रहे राम बिलास शर्मा इस बार चुनाव हार गए। ऐसे में उनकी जगह ब्राह्मण समुदाय से एक को मंत्री बनाना जरूरी था। रामबिलास शर्मा पंडित मूलचंद शर्मा के समधी भी हैं, ऐसे में उन्होंने भी मूलचंद के लिए पैरवी की। उधर चर्चा है कि बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा को डिप्टी स्पीकर बनाया जा सकता है। तिगांव से भाजपा विधायक राजेश नागर की दावेदारी भी इस बार पक्की थी, क्योंकि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यहां रैली में कहा था कि आप लोग इसे केवल जिता दीजिए बड़ा नेता तो हम बना देंगे। इसलिए माना जा रहा था कि नागर को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है, क्योंकि शाह एकमात्र कैंडीडेट नागर के लिए यहां रैली करने आए थे।
निर्दलीय नयनपाल रावत को मायूसी
भाजपा से बागी होकर पृथला से निर्दलीय चुनाव जीते नयनपाल रावत को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली। उम्मीद की जा रही थी कि उन्हें मंत्री बनाया जा सकता है। रावत को जगह न मिलने से उनके समर्थकों में मायूसी देखी गई। गुरुवार को राजभवन में बल्लभगढ़ के विधायक पं. मूलचंद शर्मा ने जैसे ही कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। वैसे ही जिले में यहां हर्ष की लहर दौड़ गई। शर्मा के समर्थकों ने उनके कार्यालय पर आतिशबाजी कर व मिठाइयां बांटकर खुशी का इजहार किया। विभिन्न ब्राह्मण संस्थाओं ने भी शर्मा को मंत्री बनाने का स्वागत किया है। ब्राह्मण सभाओं के प्रतिनिधियों का कहना है कि शर्मा को कैबिनेट में जगह देकर भाजपा ने प्रदेश के ब्राह्मणों का सम्मान किया है।

Have something to say? Post your comment