Monday, September 24, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
हिमाचल प्रदेश: भूस्खलन के चलते वांगटू और तापती के रास्ते बंदकेरल में अगले 5 दिन भारी बारिश की चेतावनी: मौसम विभागदिल्‍ली : इस सीजन में 343 हुई डेंगू मरीजों की संख्‍या हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश जारी, 24 घंटे के लिए मौसम विभाग का रेड अलर्टहरियाणा पुलिस ने ऐप को लेकर विश्वविद्यालय में चलाया जागरूकता अभियानडॉ. बनवारी लाल ने हिसार में सरकारी जमीनों पर अवैध रूप से चलने वाले रोटी बैंक या इस प्रकार की अन्य गतिविधियों को बंद करवाकर सरकारी जमीन से कब्जा छुड़वाने के निर्देश दिएहरियाणा सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्तूबर, 2018 को राष्टï्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लियाजीवन में बढ़ता उतावलापन
Bachon Ke Liye

मछली रहेगी हमेशा जल की रानी

January 03, 2014 01:42 PM

कहते हैं कल्पनाशीलता किसी उम्र की मोहताज नहीं होती । अब जब बात आज के बच्चों की की जाए तो कभी-कभी हमें ऐसे उदाहरण देखने को मिलते हैं कि बड़े बड़ों को भी दातों तले उंगली दबानी पड़ जाती है । ये कहानी है दिल्ली के एक पब्लिक स्कूल में पहली कक्षा में पढ़ रही इशिता रावत की जो अभी सिर्फ छह साल की ही है । पिछले सप्ताह स्कूल से लौटते ही उसने मम्मी से कहा “ मम्मी... कल मैडम ने मछली पर कोई कहानी सुनाने के लिए कहा है ? “ आम घरों की तरह मम्मी ने भी वही पुराना राग अलापते हुए कहा कि मछली जल की रानी है .. जीवन उसका पानी है वाली पोइमसुना देना लेकिन स्कूल की मैडम ने तो इशिता को कहानी सुनाने के लिए कहा था । अब ऐसे में बेचारी मम्मी गहरी सोच में पढ़ गई । तभी इशिता बोली “ मम्मी आप मत सोचो मैं कहानी अपने आप सुना दूंगी“ । “अरे कौन सी कहानी“ मम्मी ने हैरान होते हुए पूछा ? अब हैरान होना स्वाभाविक भी था क्योंकि अभी इशिता को तो पढ़ना, लिखना भी आता ही नहीं था । इस पर झट से इशिता बोली “ मम्मी, कहानी सुनाना मुश्किल थोड़ा ही है मैं स्कूल में जलपरी वाली कहानी सुना दूंगी । मम्मी इशिता की इस बात को सुनकर हैरान थी । फिर इशिता ने बोलना शुरू किया – एक समुंद्र में जलपरी रहती थी । एक बार उस जलपरी को  आक्टोपस ने पकड़ लिया । जलपरी ने उससे छूटने की बहुत कोशिश की लेकिन उसकी सारी कोशिश बेकार हो गई । जब आक्टोपस ने जलपरी को पकड़ा तो एक छोटी सी मछली बड़े ध्यान से देख रही थी । वह भाग कर गई और अपने जैसी बहुत सारी मछलियों को एक साथ ले आई और फिर सबने मिलकर आक्टोपस की खूब पिटाई की और जलपरी को छुड़ा लिया । जलपरी ने खुश होकर सब मछलियों को थैंक्यू कहा और वो वहां से चली गई । बस मम्मी मैं यह कहानी सुना दूंगी । अब मजे की बात यह है दोस्तो कि अगले दिन स्कूल में मैडम ने किसी से कोई कहानी सुनी ही नहीं लेकिन इशिता अपने घर,स्कूल और गली में अपनी इस कहानी को बड़े अंदाज से आज भी सुनाती है और उसकी ये कहानी सुनने वाले उस नन्ही सी राइटर को दुलारना नहीं भूलते.

                                                                                       .ि

Have something to say? Post your comment
 
More Bachon Ke Liye News
जींद उपचुनाव में बीजेपी का होगाा कड़ा इम्तिहान, सामने है चैलेंज प्रधानमंत्री जी 10 लाख मोहल्ला क्लीनिक खोलें और हमें 1000 खोलने दें: केजरीवाल HARYANA-Serving DCs laud move, retired babus see ‘plot’
चंडीगढ़ : सेक्रेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल की कॉमर्स की छात्रा सुमिति गाबा ने 94 प्रतिशत नम्बर हासिल किए
HARYANA CASH FOR JOB SCAM-सेक्रेटरी ने पूछे थे चार उम्मीदवारों के नंबर ASK THE SEXPERT मनोहर लाल ने आज गुरुग्राम के विधायक उमेश अग्रवाल के निवास पर पहुंचकर उनके पिता स्वर्गीय श्री मोतीराम अग्रवाल के स्वर्गवास पर गहरा दुख जताया। कोलकाता: प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी में लगी आग, कोई हताहत नहीं स्पीड पर ब्रेक : 5 हजार खिलाड़ियों को 8 माह से नहीं मिली प्रोत्साहन राशि TIMES OF INDIA EDITORIAL- The Insanity Of Social Media