Tuesday, October 15, 2019
Follow us on
 
Haryana

फरीदाबाद में बीएसपी की वर्कर मीटिंग में चलीं लाठियां

September 23, 2019 05:41 AM

COURTESY NBT SEPT 23

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सतीश मिश्रा जान बचाकर पिछले रास्ते से भागे
फरीदाबाद में बीएसपी की वर्कर मीटिंग में चलीं लाठियां

अग्रवाल धर्मशाला बल्लभगढ़ में बीएसपी की ओर से घोषित प्रत्याशी ने कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया था। पुलिस बल आने पर भागे हमलावर
बीएसपी सम्मेलन में हुए हंगामे और मारपीट के संबंध में पुलिस के पास किसी प्रकार की शिकायत नहीं आई है। अगर शिकायत आएगी, तो पुलिस कार्रवाई की जाएगी। 

- राजीव कुंडू, एसएचओ सिटी थाना

 

अग्रवाल धर्मशाला को चुनाव आयोग ने स्ट्रॉन्ग रूम के लिए हायर किया है। बीएसपी ने सम्मेलन के लिए मंजूरी ली हुई थी। प्रशासन ने इसकी मंजूरी दे दी थी। अब धर्मशाला में मतगणना होने तक कोई भी आयोजन नहीं होगा। -त्रिलोक चंद, एसडीएम बल्लभगढ़• विशेष संवाददाता, बल्लभगढ़

 

चावला कॉलोनी स्थित अग्रवाल धर्मशाला में रविवार को आयोजित बीएसपी के कार्यकर्ता सम्मेलन में बवाल हो गया। कुछ लोगों ने पार्टी प्रत्याशी को बाहरी बताकर लाठियों से हमला कर दिया। इससे कुछ कार्यकर्ताओं को चोटें आईं। इससे अनुशासन के लिए प्रसिद्ध बीएसपी का सम्मेलन हंगामे की भेंट चढ़ गया। हंगामे की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक हंगामा करने वाले फरार हो गए। हंगामा होने पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा सम्मेलन को संबोधित किए बिना ही पिछले दरवाजे से निकल गए।

पृथला विधानसभा क्षेत्र से बीएसपी की ओर से घोषित प्रत्याशी सुरेंद्र वशिष्ठ ने कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया था। इसमें पृथला क्षेत्र के अलावा जिले से पार्टी के कार्यकर्ता पहुंचे थे। मुख्य वक्ता के रूप में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा को बुलाया गया था। अतिथि के तौर पर प्रदेश प्रभारी सीपी सिंह, डॉ़ महेश, प्रदेश सचिव मनोज चौधरी व जिला अध्यक्ष रतिराम आमंत्रित किए गए। दोपहर करीब साढे़ 12 बजे अतिथि मंच पर पहुंच गए। मिश्रा के पहुंचते ही कुछ युवक पार्टी के समर्थन में नारेबाजी करते हुए मंच के निकट पहुंच गए। मंच के पास पहुंचते ही इन युवकों के सुर बदल गए और उन्होंने मुर्दाबाद के नारे शुरू कर दिए। इस पर सम्मेलन में हंगामा हो गया और अफरातफरी मच गई। कार्यकर्ता उन्हें बाहर करने लगे, इसी बीच कुछ और युवक डंडे लेकर आए और पार्टी कार्यकर्ताओं को पीटना शुरू कर दिया। कार्यकर्ताओं ने झंडे लगे डंडों से बचाव शुरू किया। हंगामा करने वालों का आरोप था कि पार्टी ने पृथला विधानसभा चुनाव में टिकट को क्षेत्र के बाहरी व्यक्ति को बेच दिया है। जो कार्यकर्ता पार्टी के लिए काम कर रहे हैं, उन्हें दरकिनार किया गया। करीब 6 मिनट तक डंडे चलते रहे। इसी बीच वहां पर पुलिस पहुंच गई। पुलिस को देख युवक वहां से भाग गए। इस हमले में दो कार्यकर्ता भी जख्मी हो गए।

उधर, सम्मेलन में हंगामा होने पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा अपना संबोधन दिए बिना ही धर्मशाला के पिछले दरवाजे से गाड़ी में सवार होकर निकल गए। उनके जाने के बाद अन्य पदाधिकारी भी खिसक लिए। कुछ लोगों का कहना था कि पार्टी में पैसे का खेल चला है। इसकी वजह से बाहरी उम्मीदवार को मैदान में उतारा गया है। हालांकि क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी सुरेंद्र वशिष्ठ ने कहा कि मैं बाहरी नहीं हूं। आरोप झूठे हैं। पृथला विधानसभा क्षेत्र के गांव बघौला में मेरा घर, जमीन सब कुछ है। हंगामा करने वाले कौन थे, मुझे जानकारी नहीं है। पार्टी के जिला अध्यक्ष रतिराम ने बताया कि सम्मेलन में हंगामा करने वाले बाहरी लोग थे। पृथला क्षेत्र से 4 लोग टिकट मांग रहे थे। इनमें से ही किसी ने यह हंगामा कराया है।

Have something to say? Post your comment