Sunday, August 25, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
 
Haryana

HARYANA-जलभराव से खराब धान की फसल का नहीं मिलेगा बीमा क्लेम नियम बदला : जलभराव पर केवल मक्का का, ओलावृष्टि व भूस्खलन से खराब धान

July 18, 2019 06:28 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JULY 18

जलभराव से खराब धान की फसल का नहीं मिलेगा बीमा क्लेम
नियम बदला : जलभराव पर केवल मक्का का, ओलावृष्टि व भूस्खलन से खराब धान का मिलेगा मुआवजा
क्षेत्र के किसान बरसात से हुए जलभराव के कारण धान की फसल को काफी नुकसान होने की आशंका जता रहे हैं। लेकिन इस बार जलभराव के कारण खराब हुई धान की फसल का मुआवजा बीमा कंपनी किसानों को नहीं देगी, जबकि गत वर्ष जलभराव के कारण खराब धान की फसल का मुआवजा बीमा कंपनी ने किसानाें काे दिया था। बीमा कंपनी के अधिकारी की मानें ताे यह गाइड लाइन सरकार की ओर से जारी की गई है। इस बार भूस्खलन व ओलावृष्टि के कारण खराब हुई धान की फसल का ही मुआवजा बीमा कंपनी की ओर से दिया जाएगा। केवल मक्के की फसल में जलभराव का मुआवजा बीमा कंपनी किसानों को देने की बात कह रही है।
खराब हुई मक्के की फसल के लिए 72 घंटे में करें आवेदन
खंड कृषि अधिकारियों की मानें तो क्षेत्र के गांव गुमथला, बापौली व बकाना में करीब 10 एकड़ मक्के की फसल जलभराव के कारण खराब होने की सूचना उन्हें मिली है। ऐसे किसान जिनकी जलभराव से मक्के की फसल को नुकसान हुआ है, वे अपना आधार कार्ड, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी व किला नंबर जिस खेत में वह फसल उगाई गई हो, को लेकर खंड कृषि कार्यालय या फिर डीडीए ऑफिस यमुनानगर में 72 घंटों के अंदर जमा करवा सकते हैं। उसके बाद खराबे का सर्वे करने के लिए बीमा कंपनी के कर्मचारियों के साथ लोकल कृषि अधिकारी व किसान खेत में जाकर सर्वे कर रिर्पोट तैयार कर कंपनी के पास भेजेंगे।
मुआवजा मिलने में लगते दो-तीन महीने
बीमा कंपनी के प्रोजेक्ट ऑफिसर दीपेंद्र सिंह का कहना है कि किसान को कंपनी की ओर से मुआवजा देने के लिए करीब दो से तीन माह का समय लगता है। किसानों को मुआवजा देने के लिए बीमा कंपनी को सेंटर व स्टेट सरकार की ओर से सब्सिडी राशि प्रदान की जाती है। इसके बाद किसानों को मुआवजा राशि देने का प्रोसेस शुरू किया जाता है। इसलिए इसमें समय लगता है।
गत वर्ष खराब हुई धान की फसल का मुआवजा बीमा कंपनी की ओर से किसानों को दिया गया था। लेकिन इस बार जलभराव के कारण खराब हुई धान की फसल का मुआवजा किसानों को नहीं दिया जाएगा। इस बारे में बीमा कंपनी की ओर से पहले कार्यक्रम आयोजित कर किसानों को बता दिया गया था। दीपेंद्र सिंह, प्रोजेक्ट ऑफिसर, बीमा कंपनी यूनिवर्सल सोम-टू
प्रीमियम और मुआवजा
रादौर क्षेत्र में सरकार की ओर से किसानों की फसलों का बीमा करने का जिम्मा यूनिवर्सल सोम-टू कंपनी को दिया गया है। बीमा कंपनी द्वारा धान की फसल के प्रति एकड़ 594 रुपए, मक्के के 335.89 रुपए, बाजरा 291.35 रुपए व कपास के 582.75 रुपए प्रीमियम के तौर पर काटे हैं। किसान की अगर पूरे एकड़ की फसल खराब है तो उसे 29750 रुपए का मुआवजा बीमा कंपनी द्वारा दिया जाएगा। वहीं अगर नुकसान कम है तो उसकी परसेंटेज निकाल कर मुआवजा राशि दी जाएगी। लेकिन बदले नियम के चलते इस बार बीमा कंपनी जलभराव के कारण खराब हुई धान की फसल का मुआवजा किसानों को नहीं देगी। केवल जलभराव के कारण खराब हुई मक्के की फसल की मुआवजा राशि ही बीमा कंपनी की ओर से किसानों को दी जाएगी

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
जन्माष्टमी मे विशेष अतिथि बने राजीव ड़िंपल
हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड में 39 बड़े नेता बदल चुके हैं दल इन तीन राज्यों में चुनाव करीब, लेकिन वहां चल क्या रहा है? Former CM Hooda reiterates his newfound rebel image हरियाणा में अरूण जेटली के आकस्मिक निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया राज्य के सभी फार्मासिस्ट 26 को सामूहिक अवकाश पर , दवाइयों के लिए होगी मारामारी Badal’s advice to feuding Chautalas ahead of polls may be too late पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल पहली बार हुई लिखित परीक्षा ताे मास्टर बन गए एचसीएस, 18 में से 16 पदों पर ग्रुप सी के शिक्षकाें ने जमाया कब्जा घग्गर नदी में पानी के तेज बहाव से हर्बल पार्क से लेकर खाली एरिया की जमीन नदी में बही पंचकूला एक्सटेंशन सेक्टरों के लोगों ने पिछले साल सेफ्टी वॉल टूटने की दी थी कंप्लेंट, नहीं हुई कार्रवाई एचएसवीपी ड्राफ्ट की एन्हांसमेंट पॉलिसी पर तीन जजों की रिपोर्ट होगी लागू...