Sunday, August 25, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
जन्माष्टमी मे विशेष अतिथि बने राजीव ड़िंपलविधायक व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री सुभाष बराला ने भी दिवंगत श्री अरूण जेटली को श्रद्धांजलि दीअरूण जेटली को कैलाश कालोनी (नई दिल्ली) स्थित उनके निवास पर पहुँचकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने श्रद्धांजलि दीराजकीय सम्मान के साथ आज होगा अरुण जेटली का अंतिम संस्कारबहरीन में आज श्रीनाथ मंदिर में दर्शन के लिए जाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीनिगम बोध घाट पर आज दोपहर 2 बजे होगा अरुण जेटली का अंतिम संस्कारहिमाचल प्रदेश के कई जिलों में बारिश का अलर्टअरुण जेटली का निधन राष्ट्र के लिए बड़ी क्षतिः लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला
 
Haryana

मोदी मैजिक के साथ जाट-गैर जाट के मुद्दे से फतह किया हरियाणा

May 24, 2019 06:43 AM

courtesy  NBT MAY 24

मोदी मैजिक के साथ जाट-गैर जाट के मुद्दे से फतह किया हरियाणा


हाथ मरोड़ा• पूर्व सीएम हुड्डा के अलावा, पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा, हुड्डा सरकार में मंत्री अजय यादव से लेकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर को भी हार देखनी पड़ी
बीजेपी की इस जीत में मोदी सरकार के कामकाज के अलावा खट्टर सरकार के कामकाज को भी अहम माना जा रहा है। खट्टर सरकार ने पिछले कुछ अर्से में जिस तरह से सरकारी नौकरियों में निष्पक्षता दिखाई, उसका सीधा असर जमीन पर दिखाई दिया। लोगों में भरोसा जागा कि बिना जेब गर्म किए भी प्रतिभा और मेरिट के आधार पर नौकरी मिल सकती है।
Manjari.Chaturvedi@timesgroup.com• नई दिल्ली : हरियाणा में पिछली बार बीजेपी को राज्य की दस में से नौ सीटें मिली थीं, इस बार भी बीजेपी अपनी वही टैली दोहराती दिख रही है। जबकि एक सीट पर कांटे की टक्कर दिखाई दी। पूरे देश की तरह हरियाणा में मोदी मैजिक दिखाई दिया। हालांकि पिछले पांच सालों में जिस तरह से जाट और गैरजाट की भावना गहराती दिखाई दी, उसने राज्य में बीजेपी को यह प्रचंड जीत दिलााई है।

चुनाव में कांग्रेस के तमाम बड़े नेता भी धराशायी होते दिखाई दिए। पूर्व सीएम हुड्डा के अलावा, पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा, हुड्डा सरकार में मंत्री अजय यादव से लेकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर को भी हार देखनी पड़ी। हरियाणा एक ऐसा राज्य है, जहां इस बार लगभग हर सीट पर पारिवारिक विरासत को आगे बढ़ाते उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन बीजेपी की इस एकतरफा जीत में सभी बड़े-बड़े नाम अपना साख बचाते दिखे। जहां प्रदेश में जाट नेताओं में सबसे बड़ा नाम और प्रदेश के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा हार गए, वहीं देवीलाल के परिवार के चौटाला परिवार के तमाम चेहरे दुष्यंत सिंह चौटाला, दिग्विजय सिंह चौटाला, अर्जुन चौटाला को हार का मुंह देखना पड़ा। वहीं दूसरी ओर पूर्व सीएम भजनलाल के पोते और कुलदीप विश्नोई के बेटे भव्य शर्मा को भी अपने ही गढ़ हिसार में हार का सामना करना पड़ा। जबकि पूर्व सीएम बंसीलाल के गढ़ भिवानी में उनकी अपनी पोती लीडर श्रुति चौधरी हार गईं।

हरियाणा में बीजेपी की इस जीत के पीछे कहीं न कहीं समाज में जाट बनाम गैर जाट भाव का भीतर तक उतरना रहा। पंद्रह सालों तक लगातार जाट राज में रहे हरियाणा ने डेढ़ दशक तक जाटों का बाहुबल और उनका आतंक देखा था। भजनलाल के रूप में उन्हें कहीं न कहीं उस राज से मुक्ति मिली थी। लेकिन उसके बाद जब फिर से जाट राज आया तो गैर जाटों में यह भावना और तीव्र होती गई। उसके बाद जब सीएम मनोहरलाल खट्टर के रूप में उन्हें एक गैर जाट नेतृत्व मिला तो उन्होंने उन्हें हाथों हाथ लिया।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
जन्माष्टमी मे विशेष अतिथि बने राजीव ड़िंपल
हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड में 39 बड़े नेता बदल चुके हैं दल इन तीन राज्यों में चुनाव करीब, लेकिन वहां चल क्या रहा है? Former CM Hooda reiterates his newfound rebel image हरियाणा में अरूण जेटली के आकस्मिक निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया राज्य के सभी फार्मासिस्ट 26 को सामूहिक अवकाश पर , दवाइयों के लिए होगी मारामारी Badal’s advice to feuding Chautalas ahead of polls may be too late पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल पहली बार हुई लिखित परीक्षा ताे मास्टर बन गए एचसीएस, 18 में से 16 पदों पर ग्रुप सी के शिक्षकाें ने जमाया कब्जा घग्गर नदी में पानी के तेज बहाव से हर्बल पार्क से लेकर खाली एरिया की जमीन नदी में बही पंचकूला एक्सटेंशन सेक्टरों के लोगों ने पिछले साल सेफ्टी वॉल टूटने की दी थी कंप्लेंट, नहीं हुई कार्रवाई एचएसवीपी ड्राफ्ट की एन्हांसमेंट पॉलिसी पर तीन जजों की रिपोर्ट होगी लागू...