Saturday, May 25, 2019
Follow us on
Haryana

कर्मचारियों के कोप का भाजन बनेगी भाजपा : महासंघ

April 25, 2019 06:43 PM
वर्तमान भाजपा के सत्तारूढ़ होने के बाद से आम चुनाव से पहले तक हरियाणा के कर्मचारी का सरकार के प्रति काफी आक्रामक रूख रहा। प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले हरियाणा कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय महासचिव वीरेन्द्र सिंह धनखड़, उप महासचिव कुलदीप शर्मा ने सरकार के प्रति कर्मचारी वर्ग की पूरी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि वैसे तो किसी भी सरकार का कर्मचारी वर्ग अभिन्न अंग होता है तथा सरकार की सभी विकासात्मक योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में अपना विशेष योगदान देता है। परन्तु विडम्बना है कि अपनी जायज मांगे यहां तक कि सरकार के साथ वार्ता की मेज पर सैद्धांतिक सहमति बनी मांगों की कार्यवाही रिर्पोट जारी करने के बाद भी उन्हें लागू नहीं किया। वैसे भी हरियाणा का कर्मचारी जिन मांगों को लेकर पूर्ववर्ती सरकार के समय से ही आंदोलनरत है वो प्रथम दृष्टया सीधे जनता के हितों से सरोकार रखती है। मुख्यत: सरकारी विभागों का आकार बढ़ाना या फिर सरकारी विभागों में निजीकरण पर रोक लगाना हो या काफी लंबे अरसे से कच्चे चले आ रहे कर्मियों को पक्का करने की मांग करना, पुरानी पैंशन व एक्सग्रेशिया नीति बहाल करना, जनवरी 2016 से देय सातवें वेतन आयोग का मकान किराया भत्ता लागू करना तथा पंजाब के समान वेतनमान जैसी प्रमुख मांगें हैं जो आज तक लागू नहीं की गई। 
कर्मचारी नेताओं ने कहा कि जहां तक पंजाब के समान वेतनमान की मांग है हरियाणा का कर्मचारी पंजाब के कर्मचारियों से प्रतिमाह काफी कम वेतन ले रहा है। इसके विपरीत प्रदेश का मुख्यमंत्री, मंत्री व सभी विधायक पंजाब के मुख्यमंत्री, मंत्री व विधायकों से काफी ज्यादा वेतन व भत्ते ले रहे हैं। महंगाई की दर सभी पर समान रूप से लागू होती है तो प्रदेश के कर्मचारियों के साथ इतना भेदभाव क्यों। निश्चित रूप से आने वाले आम चुनावों में सरकार को प्रदेश के कर्मचारी वर्ग की भारी नाराजगी का सामना करना पड़ेगा।
 
Have something to say? Post your comment