Wednesday, July 17, 2019
Follow us on
 
Haryana

PANIPAT- बिना टोल टैक्स दिए जा रहे संजय भाटिया के काफिले को रोका तो हुआ विवाद, प्रमोद विज ने 2 हजार रुपए दिए, तब निकलीं गाड़ियां

April 21, 2019 09:13 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR APRIL 21

बिना टोल टैक्स दिए जा रहे संजय भाटिया के काफिले को रोका तो हुआ विवाद, प्रमोद विज ने 2 हजार रुपए दिए, तब निकलीं गाड़ियां
विपक्ष में थे तब संजय टाेल का विरोध करते थे, खुद की पार्टी की सरकार बनी तो नहीं हटवा पाए, अब उसी टोल पर रोका गया काफिला
करनाल लोकसभा से भाजपा के प्रत्याशी भाटिया बोले- मैं खुद टोल भरकर गया, हम नियम को मानते हैं
भास्कर न्यूज | पानीपत
विपक्ष में रहते टाेल टैक्स के विरोध में प्रदर्शन करने वाले भाजपा नेता संजय भाटिया केंद्र आैर राज्य में अपनी पार्टी की सरकार हाेने पर भी पानीपत टोल प्लाजा से टाेल नहीं हटवा पाए। शनिवार को उसी टोल प्रशासन ने टोल टैक्स नहीं देने पर नामांकन में भाटिया के साथ करनाल जा रहे भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं के काफिले को रोके रखा। इस पर भाजपाइयों ने विरोध कर दिया। भाजपा के जिला उपाध्यक्ष तरुण गांधी व अन्य कार्यकर्ताओं का एलएंडटी के प्रोजेक्ट हेड ज्ञानप्रकाश शर्मा से विवाद हो गया। प्रोजेक्ट हेड ने बिना टोल लिए गाड़ियों को जाने देने से इनकार कर दिया। कुछ देर में भाजपा के जिला अध्यक्ष प्रमोद विज पहुंचे। उन्होंने प्रोजेक्ट हेड को गाड़ियां छोड़ने को कहा, लेकिन एलएंडटी अफसरों ने मना कर दिया। ज्ञानप्रकाश ने प्रमोद विज से कहा कि अधिक से अधिक 50 गाड़ियों को जाने दिया जा सकता है। विवाद बढ़ता देख विज ने 2000 रुपए प्रोजेक्ट हेड को दिए। एक बार तो प्रोजेक्ट हेड ने पैसे लेने से इनकार कर दिया, फिर मान गए और वाहनों को टोल पार करने दिया। वहीं संजय भाटिया ने कहा कि हम नियम को मानते हैं और मैं खुद भी टोल टैक्स देकर ही निकला था।
पहले भी टोल पर सियासत तो खूब हुई, पर निदान नहीं हुआ

टोल टैक्स के प्रबंधकों के गाड़ी रोकते ही भाजपा नेताओं व वर्करों ने टोल अधिकारी से विवाद शुरू कर दिया।
टोल रेट दोगुने होने पर भी विरोध में खड़े नहीं हुए थे भाजपाई
यह वही भाजपाई हैं जो टोल टैक्स दोगुना होने पर भी शहर वासियों के साथ विरोध में खड़े नहीं हुए थे। विरोध प्रदर्शन करने वालों ने इसी संजय भाटिया और दोनों विधायकों रोहिता रेवड़ी और महीपाल ढांडा को ज्ञापन दिया, लेकिन कुछ नहीं हुआ। आज खुद टोलटैक्स देने की बारी आई तो विरोध पर उतर आए।
भाटिया ने कहा था, ज्ञापन दें तो हल कराएंगे टोल समस्या, करा नहीं पाए
अप्रैल 2018 में एलएंडटी ने अचानक से पानीपत वासियों के लिए टोल को बढ़ाकर 5 रुपए से 10 रुपए कर दिया था। इसका विरोध हुआ तो भाजपा के प्रदेश महामंत्री संजय भाटिया ने कहा था कि उन्हें अगर ज्ञापन मिलता है तो सीएम और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलकर समस्या हल कराएंगे। भाटिया को ज्ञापन दिया गया, लेकिन कहीं कोई प्रयास नहीं दिखा।
भाटिया का नामांकन; नेता हैं पर पेशा कृषि व समाज सेवा बताया
न घर, न जमीन है, न खेती करते हैं, फिर भी कृषि व समाज सेवा से 10 साल में 6.58 लाख कमाए
भास्कर न्यूज | पानीपत
करनाल लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी संजय भाटिया ने नामांकन में खुद का पेशा कृषि और समाज सेवा बताया है। नामांकन के एफिडेविट के मुताबिक 10 साल में इसी पेशे से उन्होंने 6.58 लाख रुपए अर्जित किए। भाटिया ने पेशा तो कृषि बताया है, लेकिन उनके पास कृषि योग्य जमीन नहीं है। यहां तक कि रहने के लिए अपना घर भी नहीं है।
एक और मजेदार बात कि भाटिया के पास कोई गाड़ी भी नहीं है। 2009 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने दो स्कूटर दिखाए थे। लोकसभा चुनाव में वे दो स्कूटर भी नहीं रहे। फिलहाल, 1,32,500 रुपए कैश सहित भाटिया ने 9.50 लाख रुपए की संपत्ति बताई है। भाटिया पर 2.50 लाख रुपए के लोन की देनदारी भी है। 2009 के विधानसभा चुनाव में पानीपत सिटी से नामांकन के वक्त संजय भाटिया ने 2.50 लाख कैश और 41285 रुपए बैंक जमा राशि दिखाई थी। लोकसभा चुनाव के नामांकन में रिटर्निंग ऑफिसर के पास जमा कराए एफिडेविट के मुताबिक उनसे ज्यादा धनी तो उनकी योगा टीचर पत्नी अंजू भाटिया हैं, जिसने 8 लाख के गहने सहित 12.94 लाख की संपत्ति दिखाई है। भाटिया की पत्नी के पास भी रहने के लिए अपना घर नहीं है।
पहले दो स्कूटर थे अब वे भी नहीं रहे
कृषि जमीन : कोई नहीं
रिहायशी बिल्डिंग : कोई नहीं
कॉमर्शियल बिल्डिंग : कोई नहीं
मोटर गाड़ी : कोई नहीं
पत्नी के पास पुराना स्कूटर
पत्नी अंजू भाटिया के पास भी गाड़ी नहीं है। विस चुनाव 2009 में पत्नी के नाम एक स्कूटर दिखाया था। 10 साल पुराना 2008 मॉडल का वह स्कूटर इस बार भी पत्नी के नाम दिखाया है जिसकी कीमत 45 हजार लिखी है।

Have something to say? Post your comment