Monday, June 24, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
उच्चतमन्यायालय ने बम्बई उच्च न्यायालय के उस आदेश के खिलाफ सुनवाई से इंकार कर दिया है जिसमें पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल और डेंटल पाठ्यक्रमों में मराठा छात्रों को 16 प्रतिशत आरक्षण के खिलाफ दायर याचिका नामंजूर कर दी गई थी।मायावती ने तोड़ा सपा के साथ गठबंधन, कहा- आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव बीएसपी अपने बूते लड़ेगी Nirmala Sitharaman, Minister of Finance, has been appointed as India’s Governor on the Board of Governors of the European Bank for Reconstruction and Development (EBRD)ढेसी की विदाई तय, मुख्य सचिव डी एस ढेसी की रिटायरमेंट पर हरियाणा आईएएस एसोसिएशन ने 30 जून को विदाई पार्टी का किया आयोजनराज्यसभा में AAP सांसद संजय सिंह ने कहा, दिल्ली में हत्या की घटनाएं बढ़ रही हैंलोकसभा में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के अभिभाषण पर चर्चा शुरू हुई उत्तराखंड के कुमाऊं रेंज में बारिश का येलो अलर्ट जारीSP-BSP गठबंधन टूटने पर अमर सिंह बोले, जो बाप का न हुआ वो 'बुआ' का क्या होगा
Haryana

सर्व कर्मचारी संघ ने किया आंदोलन का ऐलान

February 16, 2019 05:47 AM

COURTESY  NBT FEB 16

सर्व कर्मचारी संघ ने किया आंदोलन का ऐलान


एनबीटी न्यूज, जींद : पक्की नौकरी समेत अन्य मांगों को लेकर 5 फरवरी से हड़ताल पर चल रहे एनएचएम (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) कर्मचारियों पर सरकार सख्त हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने दो हजार हड़ताली कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। सरकार ने हडताली कर्मचारियों को बृहस्पतिवार दोपहर काम पर लौटने को कहा था। हड़ताल से सर्वाधिक प्रभावित फरीदाबाद, गुरुग्राम और मेवात में 1500 एनएचएम कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त की गई हैं। एनएचएम कर्मचारी दो साल में करीब दस बार हड़ताल कर चुके हैं। जींद में एनएचएम के 142 हड़ताली कर्मचारियों को शुक्रवार को टर्मिनेशन नोटिस जारी कर दिए गए। टर्मिनेशन नोटिस में हड़ताली कर्मचारियों को सोमवार तक डयूटी जॉइन करने का अल्टीमेटम देते हुए कहा गया है कि ऐसा नहीं करने पर उन्हें नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा। सिविल सर्जन डा. संजय दहिया के अनुसार स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव और एनएचएम की एमडी के आदेशों के अनुसार एनएचएम के हड़ताली कर्मचारियों को टर्मिनेशन नोटिस जारी किए गए हैं।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की निदेशक अमनीत पी कुमार और स्वास्थ्य सचिव राजीव अरोड़ा के साथ अलग-अलग समझौता वार्ताओं के बावजूद करीब साढ़े चार हजार हड़ताली कर्मचारी ड्यूटी ज्वाइन नहीं कर रहे। इससे स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही हैं। मिशन निदेशक ने बृहस्पतिवार को एनएचएम कर्मचारियों से हड़ताल का रास्ता छोड़कर काम पर लौटने का आह्वान किया।


कई हजारों की नौकरी पर लगाया ग्रहण, होगा प्रदर्शन•विशेष संवाददाता, चंडीगढ़ : हरियाणा में कर्मचारियों के एक बड़े वर्ग की अगुवाई कर रहे सर्व कर्मचारी संघ ने हड़ताली एनआरएचएम कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त करने की घोर निंदा की। सरकार के मनमाने फैसले के विरोध में 16 फरवरी को सभी जिलों में प्रदर्शन का ऐलान किया गयाके अलावा बजट सत्र में कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने के लिए विधेयक लाने, पुरानी पेंशन बहाल करने का प्रस्ताव पारित कर केंद्र को भेजने की मांग की है। 25 को जिला मुख्यालयों पर सामूहिक धरना दिया जाएगा।

संघ के प्रदेश महासचिव सुभाष लांबा ने बताया कि सरकार ने ग्रुप डी के के नए चुने गए कर्मचारियों की जॉइनिंग के बाद कई विभागों से हजारों कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। उन्होंने निकाले कर्मचारियों को वापस सेवा में लेने और प्री मैच्योर रिटायरमेंट के बारे में जारी नई गाइडलाइंस को भी वापस लेने की मांग सरकार से की।

उन्होंने बताया कि पुरानी पेंशन बहाल करने और अनुबंध कर्मियों को पक्का करने की मांग को लेकर देशभर के कर्मचारी 21 फरवरी को संसद कूच करेंगे। अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फैडरेशन के आह्वान पर आयोजित इस कूच में हरियाणा से दस हजार से ज्यादा कर्मचारी शामिल होंगे।

Have something to say? Post your comment