Thursday, April 25, 2019
Follow us on
Haryana

PANIPAT हैंडलूम एसो. चुनाव की लड़ाई पहुंची सड़क पर, दोनों गुटों में गाली-गलौज, हाथापाई की आई नौबत

January 20, 2019 06:17 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JAN 20

सरपरस्तों में फूट, तीन ने 3 दिन बाद ही इस्तीफा वापस लिया, चौथा पूर्व प्रधान नरूला के साथ, चुनाव टला
हैंडलूम एसो. चुनाव की लड़ाई पहुंची सड़क पर, दोनों गुटों में गाली-गलौज, हाथापाई की आई नौबत
सरपरस्तों को मनाने के लिए रखी थी बैठक, एक सदस्य ने विरोध में मैसेज चलाया तो शुरू हुआ विवाद

हैंडलूम सिटी की प्रतिष्ठित पानीपत हैंडलूम एसोसिएशन की लड़ाई अब सड़कों पर पहुंच गई है। शनिवार को मीटिंग में दोनों गुटों में गाली-गलौज के बाद मामला हाथापाई तक पहुंच गया। एक-दूसरे को बर्खास्त करने का दावा करने वाले सरपरस्तों व पूर्व प्रधान जोगिंद्र नरूला के समर्थक आपस में भिड़ गए। दुकानदारों ने बीच-बचाव करके मामला तो शांत तो कर दिया, लेकिन रविवार से शुरू होने वाली चुनावी प्रक्रिया रोक दी है। विवाद के बीच चार सरपरस्तों में भी फूट पड़ गई। एसोसिएशन में विवाद से दुखी होकर जिन चार सरपरस्तों ने इस्तीफा दिया था, उनमें से तीन राधेश्याम खुराना, चरणदास सेठी व अशोक बांगा ने शनिवार को इस्तीफा वापस ले लिया। पूर्व प्रधान जोगिंद्र नरूला गुट के चौथे सरपरस्त हरदयाल सरदाना बैठक में ही नहीं आए। अब चुनाव आगे होगा, लेकिन इन तीन सरपरस्तों और उनके समर्थकों की चली तो जोगेंद्र नरूला उसमें भाग नहीं ले सकेंगे। एसडीपीजी कॉलेज रोड क्षेत्र के दुकानदारों वाली पानीपत हैंडलूम एसोसिएशन में 180 सदस्य हैं। पूर्व प्रधान जोगिंद्र नरूला व 4 सरपरस्त एक दूसरे को बर्खास्त कर चुके हैं। सरपरस्तों ने नए प्रधान का चुनाव प्रक्रिया से कराने के लिए 20 जनवरी को आवेदन का समय रख दिया था। चुनाव को एसोसिएशन की बदनामी मानते हुए चारों सरपरस्तों ने 16 जनवरी को इस्तीफा देने की घोषणा कर दी।
सोनू का मैसेज 'बैठक से एसो. का कोई लेना-देना नहीं' पढ़कर दुकानदार पहुंचे तो हुआ बवाल
निमंत्रण की घोषणा के बाद सरपरस्त के बेटे ने चलाया मैसेज
सरपरस्तों को मनाने के लिए शनिवार को रविदास धर्मशाला में बैठक रखी गई थी। वाट्स एप, पत्र व बाजार में लगे लाउडस्पीकर के माध्यम से दुकानदारों को संदेश दिए। दोपहर 2:24 बजे लाउडस्पीकर से निमंत्रण की घोषणा हुई तो 5 मिनट बाद ही सरपरस्त हरदयाल सरदाना के बेटे सोनू सरदाना ने व्हाट्स एप पर संदेश चला दिया कि इस बैठक से एसोसिएशन का कोई लेना देना नहीं है। सभी दुकानदार अपने कामकाज पर ध्यान दें। इसे पढ़कर बैठक करने वाले दुकानदार सोनू सरदाना की दुकान पर बात करने गए तो दोनों पक्षाें में हुई गहमा गहमी गाली गलौज तक पहुंच गई। इससे पहले हाथापाई होती, अन्य दुकानदार मौके पर पहुंच गए।
बात करने गए थे अभद्रता पर उतरा सोनू : जयदयाल
दुकानदार जयदयाल व तरूण नागपाल ने कहा अन्य दुकानदारों को साथ लेकर साेनू से बात करने गए थे कि बैठक माहौल को शांत करने के लिए रखी है। आप लोग एसोसिएशन को बांटने की कोशिशें बंद कर दें। वह यह सुनते ही ताव में आ गया। आरोप है कि साेनू ने अभद्र भाषा का प्रयोग किया। गाली गलौज भी की। जो अपने पिता को बर्खास्त करने के लिए हस्ताक्षर करता सकता है, वह अन्य से कैसा व्यवहार करेगा, इससे ही पता चलता है।
तीन सरपरस्त माने : त्रिलोचन, तरूण नागपाल, गुलशन सेठी, जय दयाल, किशोर संदूजा व सुखदेव कालड़ा समेत अन्य 106 दुकानदारों ने हस्ताक्षर पत्र सौंप सरपरस्तों को त्यागपत्र वापस लेने का आग्रह किया। अशोक बांगा, चरण दास सेठी व राधेश्याम खुराना मान गए। हरदयाल बैठक में नहीं पहुंचे। तीनों सरपरस्त बोले- बाजार का माहौल शांत नहीं हो जाता, तब तक नया प्रधान नहीं चुना जाएगा।
शांति बनी रहे इसलिए बैठक का विरोध किया : सोनू
सोनू ने बताया कि वह भी एसो. में सचिव था। खुद इस्तीफा दिया था। एसोसिएशन के हित में ही मेेरे पिता समेत अन्य सरपरस्तों को बर्खास्त करने के लिए हस्ताक्षर किए थे। आज भी बाजार की शांति के लिए ही बैठक का विरोध किया था। दुकानदारों की मांग पर घोषणा करने के बाद मैंने व्यक्तिगत विचार भी व्हाट्स एप पर चला दिए। इसी कारण सरपरस्तों की पैरवी करने वाले दुकानदारों ने मेरी दुकान पर आ अभद्रता की।
शरारती लोग बाजार का माहौल बिगाड़ रहे : नरूला
पानीपत हैंडलूम एसोसिएशन के पूर्व प्रधान पूर्व प्रधान जोगिंद्र नरूला ने कहा कि कुछ शरारती लोग बाजार का माहौल खराब कर रहे हैं। उन्हें किसी भी प्रकार से पद का लालच नहीं है। वह तो सेवा भाव से ही आगे आए थे और बाजार के हित में ही प्रधान पद से इस्तीफा भी दे दिया। सरपरस्तों ने प्रधान चुनने के लिए चुनाव की घोषणा की थी। ऐसा एसोसिएशन के इतिहास में आज तक नहीं हुआ था।
साेनू की दुकान पर दुकानदारों के आने से मारपीट की स्थिति बनी तो अन्य दुकानदारों ने स्थिति संभाली।

 
Have something to say? Post your comment