Wednesday, January 16, 2019
Follow us on
Haryana

'गर्भवती महिलाओं की परफॉर्मेंस पर एम्प्लॉयर को रखनी चाहिए सहानुभूति'

December 13, 2018 06:21 AM

COURTESY NBT DEC 13

'गर्भवती महिलाओं की परफॉर्मेंस पर एम्प्लॉयर को रखनी चाहिए सहानुभूति'
• सीजेरियन डिलिवरी की वजह से वह दस्तावेजों की जांच के लिए देरी से पहुंची थी महिला• दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग को निर्देश दिया कि उसे गेस्ट टीचर्स के पैनल में शामिल करे
Prachi.Yadav@timesgroup.com

• नई दिल्ली : 'महिलाएं जो समाज की आधी आबादी हैं, उन्हें उन जगहों पर वाजिब तवज्जो और सम्मान मिलना ही चाहिए, जहां वे अपनी जीविका के लिए काम करती हैं। एक महिला के जीवन में उसका मां बनना प्राकृतिक है। सर्विस करने वाली महिलाओं के गर्भवती होने पर बच्चे के जन्म के लिए जरूरी हर चीज उपलब्ध कराने के बारे में एक इम्पलॉयर को सोचना चाहिए। उन्हें ऐसी महिलाओं के परफॉर्मेंस को लेकर सहानुभूति रखनी चाहिए, जो पेट में गर्भ लेकर अपने काम पर निकलती हैं।' एक कामकाजी महिला के प्रति यह विचार हाई कोर्ट के हैं, जिसने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया है कि वह उस महिला को अपने मौजूदा गेस्ट टीचर के पैनल में शामिल करे, जिसे देरी से आने की वजह से योग्य होने के बावजूद पैनल से हटा दिया गया। इस महिला का कहना था कि सीजेरियन डिलिवरी की वजह से वह दस्तावेजों की जांच के लिए देरी से पहुंची थी।

जस्टिस सुरेश कुमार कैत ने दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग को निर्देश दिया कि वह योगिता चौहान नाम की इस महिला को अपने मौजूदा अकैडेमिक सेशन के लिए गेस्ट टीचर्स के पैनल में शामिल करे। महिला की मेडिकल फिटनेस के आधार पर अपनी जरूरत के हिसाब से उसकी सेवाओं का लाभ ले। सरकार को इस संबंध में दो हफ्तों के भीतर आदेश जारी करने के लिए कहा गया है। फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने पाया कि 26 जुलाई 2017 में जारी पब्लिक नोटिस के आधार पर तैयार गेस्ट टीचर का पैनल अभी बरकरार है। लेकिन एलिजिबल होने के बावजूद इस महिला के नाम को उसमें शामिल नहीं किया गया। इस पर भी गौर किया कि गेस्ट टीचर्स से सरकारी कोष पर बोझ भी नहीं बढ़ता।

अवमानना याचिका दायर की थी

चौहान ने हाई कोर्ट में अवमानना याचिका दायर कोर्ट मांग की थी कि वह शिक्षा विभाग के 24 अप्रैल के आदेश को निरस्त करके जॉइनिंग लेटर जारी करने का निर्देश दे। महिला का दावा था कि मौजूद सत्र के लिए उसका सिलेक्शन हो गया था। लेकिन इसी बीच उसने सीजेरियन प्रक्रिया के तहत एक बच्चे को जन्म दिया, जिस वजह से वह दस्तावेजों की जांच के जिए तय तारीख की बजाए कुछ देरी से पहुंची। लेकिन इस आधार पर उसके सिलेक्शन को रिजेक्ट कर दिया गया, जबकि मौजूदा पैनल में गेस्ट टीचर्स के लिए अभी 11 वैकेंसी हैं।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
जींद में इनेलो को बड़ा झटका, जाट संस्था के प्रधान रहे दलबीर खरब ने इनेलो छोड़ जेजेपी का थामा हाथ Payment to farmers to continue through commission agents: Jat quota violence: No major breakthrough, reveals report Probe team tells court victims and complainants were not forthcoming BJP के रथ को ममता से ही ग्रीन सिग्नल मांगना होगा कोर्ट ने कहा, नए प्रस्ताव के साथ बंगाल सरकार से बात करें करनाल. ई-दिशा केंद्र में राशन कार्ड ऑनलाइन करवाने के लिए पहुंचे लोग। ऑनलाइन के फायदे, ताकि फर्जीवाड़ा न हो यूएलबी ने मांगी लैंड वाइज स्टेटस रिपोर्ट अधिकारी फोन पर पूछ रहे जमीन का स्टेटस HARYANA ROADWAYS-समय पर मेंटेनेंस नहीं, रोजाना करीब दो हजार किमी. हो रहे मिस, कई रूटों पर भी नहीं जा रही बसें JIND BY ELECTION-गुप्ता-बरवाला ने नहीं खोले पत्ते AMBALA-आईवॉश हेल्थ डिपार्टमेंट की टीम पहुंचने से पहले गायब किए मरीज बारात आने से एक दिन पहले पता चला शादीशुदा है दूल्हा, दो बच्चे भी हैं, रिश्ता तोड़ दूसरे युवक से कराए लड़की के फेरे