Monday, December 10, 2018
Follow us on
Haryana

HARYANA-सरकारी कर्मचारी करेंगे भाजपा के खिलाफ मतदान

December 05, 2018 05:16 AM

COURTESY DAINIK TRIBUNE DEC 5

सरकारी कर्मचारी करेंगे भाजपा के खिलाफ मतदान
चंडीगढ़, 4 दिसंबर (ट्रिन्यू)
हरियाणा रोडवेज संयुक्त कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष एवं रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा ने कहा कि नगर निगम के चुनाव में कर्मचारी भाजपा के खिलाफ मतदान करेंगे। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के पास अपने हित पहचान कर मतदान करने का यह सबसे अच्छा मौका है। किरमारा के अनुसार भाजपा सरकार ने 4 वर्षों के कार्यकाल में एक भी फैसला ऐसा नहीं लिया, जो कर्मचारियों के हित में हो। मंगलवार को चंडीगढ़ से जारी बयान में किरमारा ने कहा कि कर्मचारी वर्ग सरकार का महत्वपूर्ण अंग है और कर्मचारी वर्ग के सहारे ही सरकार की जनकल्याणकारी नीतियां जनता तक पहुंचती हैं। यही नहीं, सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों से कर्मचारी वर्ग ही सही रूप में जनता को लाभांवित करते हैं, लेकिन जिस सरकार की कोई जनकल्याण की नीति ही न हो, उससे जनता कैसे लाभांवित हो सकती है।
उन्होंने कहा कि प्रत्येक विभाग का कर्मचारी सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों से दुखी है। कर्मचारी वर्ग अपने फायदे, वेतन-भत्तों के लिए नहीं बल्कि रोडवेज व अन्य विभागों को बचाने की लड़ाई लड़ रहा है, लेकिन सरकार विभागों का निजीकरण करके पूरे प्रदेश को निजी माफिया के हाथों में देना चाहती है। उन्होंने कहा कि पहले तो राज्य की भाजपा सरकार ने परिवहन विभाग में 720 निजी बसें अपने चहेतों की शामिल करवाने की योजना बनाई, जिसके खिलाफ कर्मचारियों ने लंबी हड़ताल की, जो हाईकोर्ट के दखल के बाद ही खुली। हाईकोर्ट द्वारा दिए गए दखल से सरकार बौखला गई और अब सरकार ने पहले ओवरटाइम समाप्त करने के आदेश दिए। फिर गांवों की रात्रि सेवा बंद करने के आदेश दिए और अब 365 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के आदेश जारी कर दिए हैं।
इससे जनता परेशान हो रही है और विभाग को आए दिन लाखों का घाटा हो रहा है। किरमारा ने कहा कि सरकार द्वारा परिवहन विभाग व कर्मचारी वर्ग के खिलाफ लगातार लिये जा रहे फैसलों के खिलाफ 5 दिसंबर को रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी की बैठक होगी, जिसमें 365 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के मसले पर फिर से आंदोलन की रणनीति पर विचार किया जाएगा।
इसके अलावा नगर निगम चुनाव में सत्तारूढ़ दल के मेयर व अन्य पदों के उम्मीदवारों के खिलाफ मतदान की रणनीति पर भी चर्चा होगी ताकि सरकार को जवाब दिया जा सके। उन्होंने कहा कि कर्मचारी वर्ग के पास अब मौका है कि वे सरकार के प्रत्याशियों के विरोध में मतदान करके अपने साथ हुए अन्याय का बदला लें। कर्मचारी नेताओं के अनुसार यदि जनविरोधी सरकार के प्रत्याशी चुनाव में विजयी होते हैं तो सरकार के हौसले और बुलंद होंगे तथा सरकार हर विभाग पर कैंची चलाने का प्रयास करेगी

Have something to say? Post your comment