Thursday, December 13, 2018
Follow us on
Haryana

जो व्यक्ति स्वस्थ होता है उसकी कार्य क्षमता भी अधिक होती है:सत्यदेव नारायण आर्य

November 25, 2018 04:58 PM

हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने बच्चों को देश की नींव व कल का कर्णधार बताते हुए अभिभावकों का आह्वान किया है कि वे बच्चों की दिल लगाकर देखरेख करे व उनके स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखे।

श्री आर्य आज रोहतक में हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय बाल महोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

श्री आर्य ने कहा कि जो व्यक्ति स्वस्थ होता है उसकी कार्य क्षमता भी अधिक होती है और वह सभी कामों को अच्छे ढंग से कर सकता है। उन्होंने कहा कि अच्छी सेहत ही सबसे बड़ी पुंजी होती है। राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने बच्चों के विकास के लिए अनेक योजनाओं को क्रियान्वित किया है।

श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि बच्चों के कल्याण के लिए सरकार द्वारा मिशन इन्द्रधनुष, राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम, स्वस्थ भारत स्वच्छ भारत, पंडित दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल मिशन, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ व सबका साथ-सबका विकास आदि योजनाओं व कार्यक्रमों को क्रियान्वित किया गया। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लागू की गई योजनाओं को आगे बढ़ाने में अपना सहयोग दें।

राज्यपाल ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लागू की गई योजनाओं को प्रदेश में क्रियान्वित कर लोगों को लाभ पहुंचाने का काम कर रहे है। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश में अन व पशुधन की कोई कमी नहीं है। हरियाणा में कोई भी ऐसा घर नहीं है जहां शौचालय न हो।

लोगों से शिष्टाचार व अनुशासन में रहकर कार्य करने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि अनुशासन ही देश को महान बनाता है। उन्होंने कहा कि असंख्य लोगों की कुर्बानियों की वजह से ही देश को आजादी मिली है और आज हम सब पूर्ण आजादी के साथ अपना जीवन व्यापन कर रहे है। श्री आर्य ने कहा कि बिना ज्ञान के कुछ भी प्राप्त नहीं किया जा सकता और ज्ञान के लिए शिक्षा होना जरूरी है। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे अपने शिक्षिकों की शरण में रहकर ज्ञान की प्राप्ति करें। राज्यपाल ने लोगों से गरीबों का हमदर्द बनने की बात कहते हुए कहा कि बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर ने शिक्षित बनो, संगठित रहो व संघर्ष करो का नारा दिया था। पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने कहा था कि शिक्षा प्रत्येक व्यक्ति के लिए अनिवार्य होनी चाहिए और इसे व्यवसाय न बनाया जाये। उन्होंने कहा कि जब भारतवासियों ने संगठित होकर संघर्ष किया था तो तभी अंग्रेज देश छोड़कर भागे थे। राज्यपाल ने कार्यक्रम में प्रतिभावान बच्चों को भी सम्मानित किया।

हरियाणा बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव कृष्ण ढुल ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।

Have something to say? Post your comment