Friday, November 16, 2018
Follow us on
Haryana

गठबंधन की चिंता में दिवाली के बहाने मायावती से मिलने पहुंचे अभय चौटाला

November 07, 2018 08:44 AM

COURTESY NBT NOV 7

अभय सिंह चौटाला ने जब मायावती से मुलाकात की तो मायावती और उनकी कुर्सी के बीच खासा फासला था। जिस कमरे में मायावती मौजूद थी उस कमरे में प्रवेश से पहले अभय चौटाला ने जूते भी उतारे और फिर उनके साथ मुलाकात की।•एनबीटी न्यूज, जींद

इंडियन नेशनल लोकदल में मचे हंगामे से गठबंधन पर संकट के बादल छा गए हैं। बदले हुए हालात में मंगलवार को दीपावली की शुभकामनाएं देने के बहाने नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की। यह मुलाकात महज पांच से सात मिनट चली, जिसके कई मायने निकाले जा रहे हैं।

आईएनएलडी-बीएसपी गठबंधन के माध्यम से दलित वोट बैंक को अपने साथ जोड़ने की कवायद में लगे अभय चौटाला ने गोहाना रैली में बीएसपी रैली में मायावती के शामिल होने का दावा किया था। अभय के दावों की उस समय हवा निकल गई, जब मायावती गोहाना रैली में शामिल नहीं हुई। इस रैली में ओमप्रकाश चौटाला की ओर से बीएसपी अध्यक्ष की तरफ दी गई पगड़ी को अस्वीकार करने की चर्चाओं को एक तरफ कर दिया जाए तो भी दलित वोट बैंक की मजबूरी के चलते ओमप्रकाश चौटाला ने गोहाना रैली में मायावती को भावी प्रधानमंत्री करार दिया था।

अब बदले हुए हालातों में एक बार फिर से आईएनएलडी और बीएसपी के गठबंधन पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। अटकलें जोरों पर हैं कि मायवती आईएनएलडी के बीच छिड़े इस विवाद के चलते गठबंधन को जारी रखने के पक्ष में नहीं है। इसके बावजूद अभय चौटाला सबकुछ सामान्य होने की बात कर रहे हैं।

आम जनता और मीडिया में गठबंधन के प्रति फैली भ्रांतियों को दूर करने के चक्कर में आईएनएलडी के प्रवक्ता प्रवीण अत्रे ने मंगलवार को सोशल मीडिया में अभय चौटाला व बसपा अध्यक्ष की संयुक्त बैठकों का हरियाणा में कार्यक्रम भी घोषित किया। इस बीच अभय चौटाला ने बसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की। बताया जाता है कि दीपावली के अवसर पर हुई इस मुलाकात के दौरान मायावती ने अभय सिंह को मुलाकात के लिए अधिक समय नहीं दिया। बेहद संक्षिप्त मुलाकात के दौरान अभय ने इस पूरे विवाद पर मायावती को सफाई दी है। सूत्रों के अनुसार मायावती अब इस गठबंधन पर पुनर्विचार करने के मूड में है, जिसके चलते वह अगले सप्ताह बैठक बुला सकती हैं।

आईएनएलडी-बीएसपी गठबंधन में असल विवाद की जड़ विधानसभा में कांग्रेस विधायक करण दलाल और अभय सिंह चौटाला के बीच हुआ जूता प्रकरण है। इस विवाद के बाद करण दलाल ने मायावती को पूरे घटनाक्रम से अवगत करवाया था, बल्कि गठबंधन पर पुनर्विचार का भी आग्रह किया था। इसी के बाद मायावती गोहाना रैली में शामिल नहीं हुई।
गठबंधन की चिंता में दिवाली के बहाने मायावती से मिलने पहुंचे अभय चौटाला

Have something to say? Post your comment