Friday, November 16, 2018
Follow us on
Haryana

केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत से मिले दुष्यंत चौटाला

November 07, 2018 08:20 AM

COURTESY DAINIK TRIUBNENOV 7

 

केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत से मिले दुष्यंत चौटाला
दिनेश भारद्वाज/ट्रिन्यू
चंडीगढ़, 6 नवंबर
हरियाणा की सियासत में छोटी दिवाली के मौके पर एक और ‘बड़ा धमाका’ हुआ है। हिसार से सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने मंगलवार को नयी दिल्ली में केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह से मुलाकात की। इंद्रजीत की 6 लोधी रोड स्थित सरकारी कोठी पर 1 घंटा 35 मिनट तक चली इस मुलाकात से प्रदेश की राजनीति में नये समीकरण बनने के आसार दिख रहे हैं। इनेलो और चौटाला परिवार में चल रहे क्लेश और उठापटक के बीच इस मुलाकात को राजनीतिक हलकों में बड़ी गंभीरता से लिया जा रहा है। वैसे तो इंद्रजीत के अजय परिवार के साथ पुराने संबंध हैं, लेकिन पिछले चार-पांच महीनों के बीच दोनों के बीच नजदीकियां बहुत बढ़ी हैं।
दुष्यंत चौटाला और राव इंद्रजीत सिंह के बीच पहले भी कई बार बैठकें हो चुकी हैं, लेकिन उस समय इन्हें सामान्य मुलाकात के तौर पर देखा गया। ‘रामपुरा हाउस’ की दक्षिण हरियाणा में अच्छी पकड़ है। अहीरवाल की सियासत में इंद्रजीत के दबदबे और असर की वजह से ही 2014 के विधानसभा चुनावों में यहां की ज्यादातर सीटों पर भाजपा उम्मीदवार जीतने में सफल रहे। राव इंद्रजीत सिंह की दो बेटियां हैं। उनमें से आरती को राव अपनी राजनीतिक उत्तराधिकारी भी घोषित कर चुके हैं। वह आरती राव को राजनीति में सैटल करना चाहते हैं। 2014 के विधानसभा चुनावों के दौरान वह रेवाड़ी से आरती को भाजपा का टिकट दिलवाने की कोशिश भी कर चुके हैं।
वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले इंद्रजीत कांग्रेस को अलविदा कहकर भाजपा में शामिल हो गये थे। पिछले चार वर्षों के कार्यकाल में वह कई बार प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठा चुके हैं। इंद्रजीत की छवि मुखर और बेबाक नेता की है। सार्वजनिक मंचों पर सीएम मनोहर लाल खट्टर संग भी उनकी बेबाकी दिखी है। इधर, दुष्यंत चौटाला को इनेलो से निकाले जाने के बाद इस पार्टी में भी हालात बदले हुए हैं। दिल्ली से जुड़े सूत्रों का कहना है कि चौदह दिन की फरलो पर तिहाड़ जेल से बाहर आए पूर्व सांसद एवं इनेलो के प्रधान महासचिव डॉ़ अजय सिंह चौटाला और राव इंद्रजीत सिंह के बीच भी आने वाले दिनों में मुलाकात संभव है। बताते हैं कि दुष्यंत और राव के बीच राजनीतिक हालात पर लंबी चर्चा हुई।

Have something to say? Post your comment