Wednesday, November 21, 2018
Follow us on
Education

दीपालय स्कूल घुसपैठी के छात्रों ने जिला स्तर प्रतियोगिता में अन्य स्कूलों के प्रतियोगियों को पीछे छोड़ा

October 31, 2018 03:13 PM

नूह:हाल ही में, जिला शिक्षा विभाग, नुह और जिले के बाल कल्याण परिषद ने एक तीन-दिवसीय जिला स्तरीय कला और शिल्प प्रतियोगिता का आयोजन किया। प्रतियोगिता में रंगोली, पोस्टर मेकिंग, स्केचिंग, कार्ड मेकिंग, दीया सजावट, क्ले मॉडलिंग, नाटक, समूह नृत्य, इत्यादि शामिल थे।
दीपालय स्कूल, घुसपैठी के छात्रों ने जिले के अन्य ३५ स्कूलों के छात्रों के साथ प्रतियोगिता में भाग लिया। दीपालय स्कूल में विभिन्न कक्षाओं में पढ़नेवाले छात्रों ने प्रतियोगिता में पुरस्कार प्राप्त किये जिसमे शंकर, सरोज और नंदिनी (IXth, VIIth और VIIth कक्षा से) ने रंगोली, पोस्टर मेकिंग और स्केचिंग-ऑन-द-स्पॉट में पहला पुरस्कार जीता। स्कूल के अन्य छात्रों ने भी दूसरे और तीसरे पदों को जीतकर स्कूल का नाम रोशन किया।
दीपालय के छात्रों ने उन सभी श्रेणियों में उत्कृष्टता से प्रदर्शन किया। जजों ने छात्रों की योग्यता की सराहना की और कहा कि दीपालय के छात्रों ने प्रतियोगिता में अन्य सभी प्रतियोगियों को पीछे छोड़ दिया है।

दीपालय द्वारा संचालित दो औपचारिक विद्यालयों में से एक, दीपालय स्कूल घुसपैठी १९ साल पूरे कर चुका है और हरियाणा के मेवात जिले के जाने माने स्कूलों में से एक है। यह स्कूल पिछड़े ग्रामीण इलाको में गरिमा और भव्यता के साथ शिक्षा के माध्यम से ज्ञान का विस्तार कर रहा है। यह स्कूल हरियाणा बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (एचबीएसई) द्वारा मान्यता प्राप्त है और वर्तमान में नर्सरी से दसवीं तक कक्षाएं चला रहा है।


दीपालाय एक आईएसओ 9001:2008 प्रमाणित गैर-सरकारी संगठन है जो आत्मनिर्भरता को सक्षम करने में विश्वास करता है और महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ शहरी और ग्रामीण गरीबों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

गैर-सरकारी संगठन 16 जुलाई 1979 को सात संस्थापक सदस्यों द्वारा शुरू किया गया था और तीन से अधिक दशकों से निरक्षरता के विरूद्ध धर्मयुद्ध में योगदान दे रहा है। वर्षों से दीपालय ने शिक्षा (औपचारिक / गैर-औपचारिक / उपचारात्मक), महिला सशक्तिकरण (प्रजनन स्वास्थ्य, एसएचजी, माइक्रो-फाइनेंस), संस्थागत देखभाल, सामुदायिक स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण आदि के क्षेत्रों में कई परियोजनाएं चलायी हैं । हमारी परियोजनाएं दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, और उत्तराखंड में चल रही हैं।

 

 

 

 

Have something to say? Post your comment
 
More Education News
डी.एल.एड. प्रवेश वर्ष-2017 (प्रथम वर्ष नियमित) एवं डी.एड. द्वितीय/तृतीय/चतुर्थ सैमेस्टर (रि-अपीयर) परीक्षाएं जुलाई-2018 का परीक्षा परिणाम आज घोषित किया गया
ट्राई सिटी के छात्रों द्वारा बनाई गई लघु फिल्मों की हुई स्क्रीनिंग और आंकलन
थापर इंस्टीट्यूट की क्यूएस ब्रिक्स यूनिवर्सिटी में उच्च रैंकिंग पहली बार क्यूएस इंडिया रैंकिंग में 31 वें स्थान पर
Drive on SPR still tough after a year near Vatika Chowk वर्तमान में श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र से संबंधित सभी आयुर्वेदिक महाविद्यालायों के बीएएमएस तथा डी-फार्मा द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम वीरवार तक घोषित कर दिया जाएगा: कुलपति डॉ. ओपी कालरा 24 सितंबर को गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी ऑफ साईंस एंड टैक्नोलोजी, हिसार में ‘स्वच्छ भारत समर इंटर्नशीप स्कीम’ के तहत प्रदर्शनी लगाई जाएगी जिसमें इंटर्नस द्वारा बनाई गई पेंङ्क्षटग, स्लोगन, चार्ट व अन्य सामग्री प्रदर्शित की जाएगी प्राइमरी स्कूलों में 97 हजार टीचरों की जरूरत, मेरिट पर सिलेक्शन है प्रमुखता: योगी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत आवेदन नहीं कर पाए या पंजीकरण उपरांत आवेदन पूर्ण नहीं कर पाए, उन सभी छात्रों को 10 सितम्बर, 2018 तक विभागीय पोर्टल www.hryscbcschemes.in पर आवेदन करने का अंतिम अवसर प्रदान किया प्रदेश के प्राईवेट स्कूलों की अस्थाई मान्यता एक साल के लिए बढ़ी:राम बिलास शर्मा
Nursery admission: Testing times for parents