Saturday, May 25, 2019
Follow us on
Haryana

सरकार और विभाग कृषि क्षेत्र में निवेश के लिए हर तरह का सहयोग करेगी:धनखड

October 11, 2018 03:48 PM

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओमप्रकाश धनखड ने विभिन्न देशों के प्रतिनिधियों को हरियाणा में आकर कृषि क्षेत्र में काम करने का न्यौता दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार और विभाग कृषि क्षेत्र में निवेश के लिए हर तरह का सहयोग करेगी।

        कृषि मंत्री आज गुरुग्राम के वेस्टिन होटल में आयोजित 32वीं वल्र्ड यूनियन ऑफ हॉलसेल मार्केट कांफ्रेंस में नई तकनीक, आधुनिकीकरण एवं मार्केट नेटवर्किंग विषय को लेकर आयोजित विभिन्न देशों के प्रतिनिधियों के सेमीनार में बोल रहे थे। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि अब ग्लोबल विलेज कांसेप्ट आ गया है। ऐसे में सभी देशों को एक दूसरे के अनुभव सांझे करते हुए कृषि क्षेत्र को आगे बढऩे की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पांच राष्ट्रीय राजमार्ग हरियाणा से निकलते हैं और इस दृष्टि से कृषि क्षेत्र में निवेश की दृष्टि से हरियाणा बेहतरीन जगह है। इसलिए सभी देश व्यापार की दृष्टि से भी हरियाणा को चुन रहे हैं। हरियाणा में निवेशकों और उत्पादकों को नई दिल्ली और चंडीगढ़ के दो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों का लाभ भी मिलता है। हरियाणा के किसान अब मार्डन हो चले हैं। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में हरियाणा में निवेश करने वाले देशों को प्रदेश सरकार और कृषि विभाग बेहतर सहयोग को तत्पर है।

        उन्होंने कहा कि हरियाणा में कृषि क्षेत्र से संबंधित तीन विश्वविद्यालय हैं। करनाल में महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय खोला जा रहा है। हिसार में एशिया का सबसे बड़ा  कृषि विश्वविद्यालय और पशुपालन विश्वविद्यालय है। उन्होंने कहा कि हरियाणा अब कृषि क्षेत्र में आधुनिक विचार और तकनीक के साथ आगे बढ़ रहा है। ईज ऑफ डूईंग बिजनेस में हरियाणा देश में तीसरे और उत्तर भारत में पहले नंबर पर है। उन्होंने कहा कि आज का समय सभी देशों को एक साथ मिलकर अपने अनुभव सांझा करते हुए काम करने का है। उन्हें विश्वास है कि ऐसे कार्यक्रमों से न केवल कृषि क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि दुनिया के देश एक दूसरे से सीखकर खाद्य सुरक्षा और ताजा उत्पादकों के मामले में भी आगे बढ़ेंगे।

        सेमीनार में टयूनेशिया दूतावास के बौजडारिया जामेल ने कहा कि हरियाणा फल और सब्जी सहित कृषि क्षेत्र में जाना माना नाम है। कई ऐसे क्षेत्र और उत्पाद हैं, जिनकों लेकर टयूनिशिया और हरियाणा काम कर सकते हैं। उन्होंने चावल, गेंहू और चीनी का हरियाणा से आयात करने की ईच्छा जाहिर की। उन्होंने टयूनेशिया में ऑरगेनिक फार्मिंग के क्षेत्र में अपने गए तकनीकों सहित अन्य जानकारियां भी दी।

        फ्रांस दूतावास की फ्रनकुश मोरीन ने अपने प्रजेंटेशन में बताया कि फल व सब्जी के क्षेत्र में फ्रांस कैसे एक उत्पादक से लेकर उपभोक्ता तक ताजा उत्पाद पहुंचाया जाता है। उन्होंने बताया कि फ्रांस में फलों के लगभग 27500 और सब्जी के लगभग 30800 फार्म हैं। इन फार्मों से खरीददार सीधे उत्पाद खरीदतें हैं। सेमीनार में आस्टे्रलिया दूतावास के एनीरबन डेब ने बताया कि उनके देश में खाद्य सुरक्षा को लेकर किस प्रकार से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आस्ट्रेलिया और हरियाणा का मौसम लगभग एक जैसा ही है। आस्टे्रलिया में बहुत कम क्षेत्र में बागवानी होती है और चुनिंदा फल ही उगाए जाते हैं। ऐसे में आस्टे्रलिया जरूरत के हिसाब से फलों का आयात और निर्यात करता है। 

        सेमीनार में हरियाणा राज्य औधोगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम के मनोज कुमार ने प्रदेश में औधोगिक क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी और बताया कि प्रदेश में एकल सुविधा केन्द्र की स्थापना की गई है, जिसके माध्यम से निवेशक सिंगल विंडो पर औधोगिक विभाग से जुड़ी सारी सेवाएं उपलब्ध कर सकते हैं।

        सेमीनार में हरियाणा की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती नवराज संधु, कृषि विभाग के निदेशक श्री डी के बेहरा, कृषि विपणन बोर्ड के मुख्य प्रशासक श्री हरदीप सिंह व डॉ. आर एस ढिल्लो, मार्केटिंग बोर्ड की चेयरपर्सन श्रीमती कृष्णा गहलावत सहित इथोपिया, दक्षिण  अफ्रीका, स्पेन व इटली आदि देशों के प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
पंचकूला: मदनवाला गांव में LPG गैस सिलेंडर विस्फोट, परिवार के 5 लोग घायल हरियाणा में 203 उम्मीदवारों की जमानत जब्त- डॉ. इन्द्र जीत डीजीपी मनोज यादव ने जवानों की पीठ थपथपाई
हरियाणा के स्वास्थ्यमंत्री अनिल विज ने भाजपा को मिली अभूतपूर्व जीत पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह सब मोदी के सुदर्शन चक्र का कमाल है
हरियाणा INLD के अध्यक्ष अशोक अरोडा ने अपने पद से इस्तीफा दिया इनैलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक कुमार अरोड़ा का पद से इस्तीफा, HARYANA-तीसरी पीढ़ी नहीं बचा पाई तीनों लालों के गढ़; दुष्यंत, दिग्विजय, अर्जुन, भव्य व श्रुति को भाजपा प्रत्याशियों ने बड़े अंतर से हराया भाजपा कैप्टन-धनखड़ के हलकों में हारी तो कांग्रेसी दिग्गज भी अपने क्षेत्रों में नहीं दिला पाए अपने उम्मीदवारों को लीड HARYANA- 79 हलकों में भाजपा को लीड, 2014 में 52 पर थी बढ़त मोदी मैजिक के साथ जाट-गैर जाट के मुद्दे से फतह किया हरियाणा