Friday, July 19, 2019
Follow us on
 
National

शिकायत गुमनाम है तो क्या हुआ/ अफसर के खिलाफ जांच होगी ही शिकायत निबटारे की प्रगति से पीएम नाराज

October 10, 2018 06:21 AM

COURTESY NBT OCT 10

शिकायत गुमनाम है तो क्या हुआ/ अफसर के खिलाफ जांच होगी ही


शिकायत निबटारे की प्रगति से पीएम नाराज
मंत्रालयों को निर्देश, 15 दिन में जांच शुरू होनी चाहिए• पीएम मोदी कई मंत्रालयों और विभागों में आम लोगों से जुड़ी शिकायतों को दूर करने की दिशा में उठाए गए सुस्त कदमों से नाराज हैं। पीएमओ ने सभी मंत्रालयों से पूछा है कि उनके मंत्रालय में किस तरह की शिकायतें आती हैं और उन्हें दूर करने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार पीएमओ कुछ मंत्रालयों और विभागों से मिले इस फीडबैक से नाराज है कि वहां आम लोगों की शिकायतों का सही ढंग से निबटारा नहीं हो रहा है। साथ ही पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग मंत्रालयों की शिकायत भी सीधे पीएमओ पहुंच रही है।
Narendra.Mishra

@timesgroup.com

 

अब किसी मंत्रालय या विभाग को अपने अधिकारियों के खिलाफ आने वाली गुमनाम शिकायतों की भी जांच करनी होगी। यानी केवल इस कारण से शिकायतों को दबाया नहीं जा सकेगा कि शिकायत करने वाले के नाम का कोई पता-ठिकाना नहीं है या उसकी मंशा पर संदेह है। इस बारे में सरकार ने सभी मंत्रालयों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके अनुसार अगर गुमनाम शिकायतों में दम है और पुख्ता सबूत दिए गए हैं तो जांच करनी होगी। डीओपीटी (डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनेल एंड ट्रेनिंग) की ओर से 8 अक्टूबर को जारी लेटर में गुमनाम शिकायतों पर किस तरह कार्रवाई हो इस बारे में विस्तार से बताया गया है।

सूत्रों के अनुसार कई मंत्रालयों में गुमनाम शिकायतों को दबाने की जानकारी सामने आई थी। डीओपीटी की ओर से जारी निर्देश के अनुसार अगर गुमनाम शिकायत में दम है और उसमें लगे आरोप गंभीर हैं तो आरोपी अधिकारियों से 15 दिनों के अंदर जवाब मांगे जाएं। पंद्रह दिनों के अंदर अगर जवाब नहीं मिला या जवाब संतोषप्रद नहीं हुए तो मामले की औपचारिक जांच शुरू की जाए। अगर शिकायत सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी के खिलाफ है तो ऐसे मामले में जांच करने से पहले कैबिनेट सेक्रेटरी से अनुमति लेनी होगी

Have something to say? Post your comment