Wednesday, December 19, 2018
Follow us on
Dharam Karam

राम लीला के वो दिन

October 08, 2018 03:18 PM

महानगरो, बड़े शहरों, छोटे शहरों, कस्बों में, रामायण की नाट्य कला प्रस्तुति, टी.वी. के सीरियल ‘‘ रामायण‘‘ आने पूर्व एक चिर अपेक्षित उत्सव की तरह होती थी । क्या बच्चे, क्या जवान, क्या बुढ़े, स्त्री-पुरूष सब लोग मिलकर इसका आनंद उठाते थे । शारदीय नवरात्रों के आगमन से पूर्व ही इसकी शुरूआत गुली-नुक्कड़ से लेकर बड़ी-बड़ी डृमाटिक कम्पनियां, रामलीला समितियां, रामलीलाओं के आयेजन, प्रबन्धन तथा प्रस्तुतिकरण में संलग्न हो जाती थी। विशेषकर प्रातः उत्तर भारत में राम-राम के आपस में संबोधन से लेकर अन्तिम विदाई‘‘ राम नाम सत्य है‘‘। ‘‘ राम‘ जन-जन के नायक बने तथा संस्कृति व संस्कारों के संवाहक ‘‘राम‘ बने, इसका श्रेय इन्हीं रामलीलाओं को जाता है । रामायण की कथा बार्चना तथा नित्यकर्म में रामायण की चौपाइयों का गान भी महत्वपूर्ण था परन्तु रामलीला का अलग ही मजा होता था। इसके द्वारा महत्वपूर्ण संस्कार जैसे मार्यादा, त्याग व सेवा सहज ही समाज में प्रचार-प्रसार व व्याप्त हो जाते थे । प्रतिदिन के नाटक में अलग ही संदेश होता था । सबसे बड़ी बात ये राम लीलाएं समाजिक, सांस्कृतिक व पारिवारिक मेलजोल को बढ़ाती थी तथा कई प्रकार की कलाओं जैसे गाना-बजाना, अभिनय, हास्य, साज सज्जा के विकास के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध करवाती थी । स्थानीय स्तरों पर व्यक्तित्व के विकास, सहभागिता तथा समाजिक सरोकारों के प्रति सजगता पैदा करती थी । आज भी यदि किसी बूढ़े से पूछों कि राम नाम क्यूं लेना है, राम-राम क्यूं जपना है, तो वे आस्था का परिचय देते हुए कहेंगे कि ‘‘राम‘‘ नाम आराम देता है । राम तप-त्याग का प्रतीक है। उन्होंने स्वयं कष्ट सह कर सब को सुख देना चाहि । मार्यादा, स्व-अनुशासन, नैतिकता का पाठ जो पढ़ा शायद वहीं जीवन की द्युरी बन गया । उत्साह व उत्कण्ठा सामुहित होती थी शायद इसीलिए उस समय साधनों के सीमित होने पर भी निराशा व डिप्रेशन समाज में इस कदर नहीं फैली थी । आज तकनीक से सम्मोहित, टी.वी. तथा इंटरनेटों, फैसबुक,वाटसऐप के समय में, बच्चों को शायद वो यथार्थ के राम के चरित्र का नाटय मंचन ‘‘रामलीला‘‘ शब्द उतना उत्साहित न करता हो, पर हमारे समय में न केवल मनोरंजन अपितु ज्ञान रंजन का भी स्त्रोत था तथा आज भी उनकी अमिट छाप दिलो-दिमाग पर बनी हुई है । शाम के समय से ही अपनी बैठने की जगह घेरने के लिए बोरी व छोटी चारपाई उठाकर चले देते थे फिर मध्यरात्रि तक रामलीला का आनंद लते, उस दिन की प्रस्तुति पर टीका टिप्पणी कर घर को विदा लेते थे । छोटे दुकानदार जैसे कि रेहड़ी फड़ी वाले, खोमचे वालों को व्यवसाय करने का भी मौका मिलता था । इस 10 दिन से ज्यादा चलने वाले उत्सव में मेले का उत्साह तो होता ही था, ये रामलीलाएं सामाजिक व सांस्कृतिक जागरण तथा समरसता की संवाहक थी । मूल्यों तथा प्रतीकों की द्यरोहर सहज ही पुरानी पीढ़ी से नयी पीढ़ी को हस्तांतरण करने में इनका अपना योगदान है । लेकिन आज ये सब अतीत की बातें हो गयी है । जिंदगी से सुर व लय गायब है, इसीलिए भय चहूं और व्याप्त है । उत्साह और उमंग उधार लेकर जीते है । शायद इसीलिए वैयक्तिक स्तर पर तथा समुदाय के स्तर पर नैराश्य व उदासीनता का वातावरण है । अब समझ आया है परे श्रद्धा व सम्मान का दृष्टिकोण केवल रामलीला के लिए नहीं होता था, जीवन के लिए होता था । 

                    डा0 क0 कली

Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
कपाल मोचन-श्री आदि बद्री मेेले में इस वर्ष लगभग 7 लाख यात्रियों की आने की संभावना लोक आस्था का महापर्व छठ नहाय-खाय के साथ आज से उत्तराखंडः ठंड तक केदारनाथ मंदिर के कपाट आज से बंद दीपावली पर उपहार बने व्यापार, छा गया बाजार,कितनी बची चाह उल्लास की गणेश चतुर्थीः मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में आरती हुई पीएम मोदी ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की देश को दी शुभकामनाएं केरल के पद्मनाभस्वामी मंदिर में जन्माष्टमी के मद्देनजर पहुंच रहे श्रद्धालु कोलकाता: आज शाम 3 बजे शुरू होगी VHP की जन्माष्टमी शोभा यात्रा हैदराबाद: गणेश चतुर्थी के लिए बनाई जा रही गणेश भगवान की 57 फीट ऊंची मूर्ति HT EDIT-A considered electoral pitch Modi’s speech focused as much on achievements as on plans