Friday, July 19, 2019
Follow us on
 
Chandigarh

CHANDIGARH-60 हजार मकानों को राहत आज

October 05, 2018 06:55 AM

COURTESY DAINIK JAGRAN OCT 5

60 हजार मकानों को राहत आज

नीड बेस्ड चेंज को मंजूरी देने के लिए हाउसिंग बोर्ड की मीटिंग आज, बोर्ड लोगों को ज्यादा से ज्यादा राहत देने के पक्ष में
चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड के मकानों में रह रहे 5 लाख लोग सुकून और बिना डर रह सकेंगे

गरण संवाददाता, चंडीगढ़ : चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड के 60 हजार हाउस अलॉटियों के लिए आज बड़े फैसले का दिन है। 25 सालों से लंबित नीड बेस्ड चेंज पर बोर्ड मंजूरी की मुहर लगाकर 5 लाख लोगों को राहत देगा। बोर्ड के अधिकारियों ने शनिवार को मीटिंग कर कंपाउंडिंग फीस 500 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट तय की थी। जबकि न्यूनतम फीस प्रति मकान 50 हजार रुपये तय की है। लेकिन इस पर सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन और फॉसवेक के विरोध को देखते हुए अब इसमें कुछ राहत देने की उम्मीद बढ़ गई है। कंपाउंडिंग फीस आधी की जा सकती है। जबकि न्यूनतम फीस को खत्म किया जा सकता है। हालांकि यह सब शुक्रवार को होने वाली बोर्ड की मीटिंग के बाद ही स्पष्ट होगा। बोर्ड की मीटिंग में नीड बेस्ड चेंज कमेटी की रिपोर्ट रखी जाएगी। इस रिपोर्ट पर चर्चा के बाद बोर्ड मंजूरी देगा। बोर्ड के चेयरमैन एके सिन्हा और सीईओ हरीश नैय्यर नियमों में रहकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को फायदा देने के सिद्धांत पर काम कर रहे हैं।11इस पूरे मामले को सेटल करने के लिए सभी कमेटी मेंबर्स ने इस कदर संजीदा होकर य} किया है। लोगों के प्रति सभी मेंबर्स और अधिकारियों को सकारात्मक रवैया रहा है। यह पेचीदा समस्या है जो साल दर साल बढ़कर विराट रूप ले चुकी है। ना तो लोगों को रोका गया और न ही उनका मार्गदर्शन किया गया। जब पूरे शहर में नीट एंड क्लीन कंस्ट्रक्शन हुई है तो सीएचबी के मकानों में ही यह समस्या कैसे बन गई। जितने कवर्ड एरिया को मंजूरी दी जा रही है उससे तो ज्यादा कवर कर लोग रह रहे हैं। अब इसे तोड़ा नहीं जा सकता। इसे आम माफी देकर एक बार रेगुलर कर देना चाहिए। यह सिर्फ एक बार के लिए होगा। वह अधिकारियों को यह बात बता चुके हैं।1निर्मल दत्त, चेयरमैन, सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन।24 साल हो गए डर के साये में जीते हुए। अब उम्मीद यही है कि इस डर से बाहर निकल कर खुली हवा में सांस ले सकें। यह वायलेशन सालों से होती रही। मांग बहुत पुरानी है इसे बहुत पहले पूरा हो जाना चाहिए था। छोटी-छोटी चीजों के चार्ज नहीं लिए जाने चाहिए। बालकनी और छच्जों को निशुल्क रेगुलराइज किया जाए।1एमएस संधू, प्रेसिडेंट, आरडब्ल्यूए सेक्टर-44एचंडीगढ़: दैनिक जागरण कार्यालय पहुंचकर अपनी उम्मीदों पर चर्चा करते सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन और फॉसवेक के प्रतिनिधि ’जागरणहाउसिंग बोर्ड का मतलब अफोर्डेबल हाउसिंग उपलब्ध करवाना है। बोर्ड एक तरफ घर निशुल्क दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ इनसिडेंटल जमीन पर निर्माण कर लेने वाले छोटे मकान मालिकों से कलेक्टर रेट के हिसाब से पैसे वसूलने की तैयारी है। पैसा कमाने की बात छोड़कर लोगों को राहत देने की बात पर आना चाहिए। हेबिटेबल डाइमेंशन यानी एक तय पैरामीटर साइज के कमरे, शौचालय और किचन उन्हें बनाकर ही नहीं दिए गए। अब अगर उन्होंने जरूरत अनुसार 3 फुट के एरिया पर कुछ निर्माण कर भी लिया तो उसके बदले इतनी महंगी फीस नहीं लेनी चाहिए। यह 100 रुपये तक ही हो। हाउसिंग बोर्ड के मकान में रह रहे अलॉटी आज भी किरायेदार की तरह रह रहे।1बलजिंदर सिंह बिट्टू, चेयरमैन, फॉसवेकबोर्ड ने विभिन्न नोटिफिकेशन के जरिए जो राहत दी है उसके पैसे नहीं लिए जाने चाहिए। मरला कनाल हाउस से 100 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट ली है तो सीएचबी अलॉटियों से भी फीस इतनी ही ली जाए। बोर्ड को अपना फैसला उन 5 लाख लोगों को ध्यान में रख कर करना चाहिए। यह इन सभी के लिए एतिहासिक पल होगा।1अमरदीप सिंह, फॉसवेक में सीएचबी के लिए कनवीनर1हाउसिंग बोर्ड के मकानों में रह रहे लोग घुटन महसूस करते हैं। हर चिट्ठी नोटिस की तरह लगती है। अब इस डर से छुटकारा मिलना चाहिए। एक बार सभी लोगों को राहत देने के लिए कदम बढ़ाया जाना चाहिए। बोर्ड से बड़ी राहत की उम्मीद करते हैं।1केवल छाबड़ा, मेंबर कोर कमेटीफीस में इतना अंतर क्यों है। जब कोठियों में रह रहे लोगों से 100 रुपये फीस लेकर प्रापर्टी को रेगुलर किया गया तो उनसे 500 रुपये क्यों लिए जा रहे हैं। इसे कम कर 100 रुपये ही लिए जाने चाहिए। हाउसिंग बोर्ड के मकानों में कम आय वाले अलॉटी ही रह रहे हैं। जिस रेट में हाउस अलॉट किए गए थे उतनी तो ट्रांसफर फीस ली जा रही है। लाखों रुपये की ट्रांसफर फीस भी कम होनी चाहिए।1वीके निर्मल, प्रेसिडेंट, यूनाइटिड वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर-44डीहाउसिंग बोर्ड के मकानों में अधिकतर रिटायर्ड लोग रह रहे हैं। बहुत से बुजुर्ग पेंशन से गुजारा कर रहे हैं।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
Chandigarh Administration revises the minimum rate of wages
DGP Chandigarh today issued the transfer orders of one DSP and 5 Inspectors
चंडीगढ़ में सुबह से हो रही बारिश, मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटों में होगी अच्छी बारिश CHANDIGARH- शादी-पार्टियों में यूज नहीं कर सकेंगे पानी की छोटी बोतलें और गिलास एन्वायर्नमेंट बचाने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक पर लगाया बैन CHANDIGARH-Urinating in public costs UT cop his job CHB offers 3 BHK flat for ₹1.76cr & 1BHK for ₹99L Asks Applicants To Give Consent Within 21 Days
चंडीगढ़: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मोत्सव पर हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस की प्रभारी श्रीमती अनुपमा रावत और प्रदेश अध्यक्षा श्रीमती सुमित्रा चौहान ने केक काटकर बधाई दी
Bike-borne men loot ₹45,000 on PGI campus Court convicts, fines two for littering पंचकूला,चंडीगढ़ और मोहाली के आसपास के एरिया में रात तक धूल भरी आंधी के साथ छींटे पड़ने की संभावना