Saturday, October 20, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
पंजाब में सभी स्कूलों कॉलेजों में कल अवकाश रहेगा,दशहरे पर अमृतसर में हुई रेल ट्रेजिडी के बाद प्रदेश सरकार ने की घोषणाअमृतसर ट्रेन हादसाः हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य जताया दुखअमृतसर ट्रेन हादसाः58 लोगों की मौत हुई,तादाद बढ़ सकती है:पुलिस कमिश्नरमैं कल बताऊगा कितने लोग मरे है:कैप्टन अमरिंदर सिंहसिविल अस्पताल के SMO जतिन अरोड़ा ने कहा- अभी तक मोर्चरी में 40 शव पहुंचेआज लोग मर रहे है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल जाएंगेअमृतसर हादसे में घायल 60 से ज्यादा लोग सिविल हॉस्पिटल में भर्तीः डॉ. संदीपमनोज सिन्हा बोले- स्थानीय प्रशासन ने नहीं दी रावण दहन की जानकारी
Chandigarh

CHANDIGARH-60 हजार मकानों को राहत आज

October 05, 2018 06:55 AM

COURTESY DAINIK JAGRAN OCT 5

60 हजार मकानों को राहत आज

नीड बेस्ड चेंज को मंजूरी देने के लिए हाउसिंग बोर्ड की मीटिंग आज, बोर्ड लोगों को ज्यादा से ज्यादा राहत देने के पक्ष में
चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड के मकानों में रह रहे 5 लाख लोग सुकून और बिना डर रह सकेंगे

गरण संवाददाता, चंडीगढ़ : चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड के 60 हजार हाउस अलॉटियों के लिए आज बड़े फैसले का दिन है। 25 सालों से लंबित नीड बेस्ड चेंज पर बोर्ड मंजूरी की मुहर लगाकर 5 लाख लोगों को राहत देगा। बोर्ड के अधिकारियों ने शनिवार को मीटिंग कर कंपाउंडिंग फीस 500 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट तय की थी। जबकि न्यूनतम फीस प्रति मकान 50 हजार रुपये तय की है। लेकिन इस पर सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन और फॉसवेक के विरोध को देखते हुए अब इसमें कुछ राहत देने की उम्मीद बढ़ गई है। कंपाउंडिंग फीस आधी की जा सकती है। जबकि न्यूनतम फीस को खत्म किया जा सकता है। हालांकि यह सब शुक्रवार को होने वाली बोर्ड की मीटिंग के बाद ही स्पष्ट होगा। बोर्ड की मीटिंग में नीड बेस्ड चेंज कमेटी की रिपोर्ट रखी जाएगी। इस रिपोर्ट पर चर्चा के बाद बोर्ड मंजूरी देगा। बोर्ड के चेयरमैन एके सिन्हा और सीईओ हरीश नैय्यर नियमों में रहकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को फायदा देने के सिद्धांत पर काम कर रहे हैं।11इस पूरे मामले को सेटल करने के लिए सभी कमेटी मेंबर्स ने इस कदर संजीदा होकर य} किया है। लोगों के प्रति सभी मेंबर्स और अधिकारियों को सकारात्मक रवैया रहा है। यह पेचीदा समस्या है जो साल दर साल बढ़कर विराट रूप ले चुकी है। ना तो लोगों को रोका गया और न ही उनका मार्गदर्शन किया गया। जब पूरे शहर में नीट एंड क्लीन कंस्ट्रक्शन हुई है तो सीएचबी के मकानों में ही यह समस्या कैसे बन गई। जितने कवर्ड एरिया को मंजूरी दी जा रही है उससे तो ज्यादा कवर कर लोग रह रहे हैं। अब इसे तोड़ा नहीं जा सकता। इसे आम माफी देकर एक बार रेगुलर कर देना चाहिए। यह सिर्फ एक बार के लिए होगा। वह अधिकारियों को यह बात बता चुके हैं।1निर्मल दत्त, चेयरमैन, सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन।24 साल हो गए डर के साये में जीते हुए। अब उम्मीद यही है कि इस डर से बाहर निकल कर खुली हवा में सांस ले सकें। यह वायलेशन सालों से होती रही। मांग बहुत पुरानी है इसे बहुत पहले पूरा हो जाना चाहिए था। छोटी-छोटी चीजों के चार्ज नहीं लिए जाने चाहिए। बालकनी और छच्जों को निशुल्क रेगुलराइज किया जाए।1एमएस संधू, प्रेसिडेंट, आरडब्ल्यूए सेक्टर-44एचंडीगढ़: दैनिक जागरण कार्यालय पहुंचकर अपनी उम्मीदों पर चर्चा करते सीएचबी रेजिडेंट वेलफेयर फेडरेशन और फॉसवेक के प्रतिनिधि ’जागरणहाउसिंग बोर्ड का मतलब अफोर्डेबल हाउसिंग उपलब्ध करवाना है। बोर्ड एक तरफ घर निशुल्क दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ इनसिडेंटल जमीन पर निर्माण कर लेने वाले छोटे मकान मालिकों से कलेक्टर रेट के हिसाब से पैसे वसूलने की तैयारी है। पैसा कमाने की बात छोड़कर लोगों को राहत देने की बात पर आना चाहिए। हेबिटेबल डाइमेंशन यानी एक तय पैरामीटर साइज के कमरे, शौचालय और किचन उन्हें बनाकर ही नहीं दिए गए। अब अगर उन्होंने जरूरत अनुसार 3 फुट के एरिया पर कुछ निर्माण कर भी लिया तो उसके बदले इतनी महंगी फीस नहीं लेनी चाहिए। यह 100 रुपये तक ही हो। हाउसिंग बोर्ड के मकान में रह रहे अलॉटी आज भी किरायेदार की तरह रह रहे।1बलजिंदर सिंह बिट्टू, चेयरमैन, फॉसवेकबोर्ड ने विभिन्न नोटिफिकेशन के जरिए जो राहत दी है उसके पैसे नहीं लिए जाने चाहिए। मरला कनाल हाउस से 100 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट ली है तो सीएचबी अलॉटियों से भी फीस इतनी ही ली जाए। बोर्ड को अपना फैसला उन 5 लाख लोगों को ध्यान में रख कर करना चाहिए। यह इन सभी के लिए एतिहासिक पल होगा।1अमरदीप सिंह, फॉसवेक में सीएचबी के लिए कनवीनर1हाउसिंग बोर्ड के मकानों में रह रहे लोग घुटन महसूस करते हैं। हर चिट्ठी नोटिस की तरह लगती है। अब इस डर से छुटकारा मिलना चाहिए। एक बार सभी लोगों को राहत देने के लिए कदम बढ़ाया जाना चाहिए। बोर्ड से बड़ी राहत की उम्मीद करते हैं।1केवल छाबड़ा, मेंबर कोर कमेटीफीस में इतना अंतर क्यों है। जब कोठियों में रह रहे लोगों से 100 रुपये फीस लेकर प्रापर्टी को रेगुलर किया गया तो उनसे 500 रुपये क्यों लिए जा रहे हैं। इसे कम कर 100 रुपये ही लिए जाने चाहिए। हाउसिंग बोर्ड के मकानों में कम आय वाले अलॉटी ही रह रहे हैं। जिस रेट में हाउस अलॉट किए गए थे उतनी तो ट्रांसफर फीस ली जा रही है। लाखों रुपये की ट्रांसफर फीस भी कम होनी चाहिए।1वीके निर्मल, प्रेसिडेंट, यूनाइटिड वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर-44डीहाउसिंग बोर्ड के मकानों में अधिकतर रिटायर्ड लोग रह रहे हैं। बहुत से बुजुर्ग पेंशन से गुजारा कर रहे हैं।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
चंडीगढ़ के डीएसपी का अब अंडेमान निकोबार सहित अन्य यूटी में नहीं होगा ट्रांसफर एचसीएस सुधांशु गौतम बने डीपीआर यूटी चंडीगढ़
आदर्श पब्लिक (स्मार्ट) स्कूल में आयोजित हुई हैल्दी टिफिन प्रतियोगिता
राम बिलास शर्मा ने हरियाणा उर्दू अकादमी के डायरेक्टर डॉक्टर नरेंद्र कुमार उपमन्यु द्वारा लिखित एवं संपादित दो किताबों हरियाणा के प्रमुख तीर्थ स्थल एवं हिंदुस्तान की महान हस्तियां का चंडीगढ़ में अपने निवास पर विमोचन किया। चंडीगढ़ में आज हरियाणा उर्दू अकादमी के डायरेक्टर डॉ नरेंद्र उपमन्यु ने हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य से शिष्टाचार भेंट की सियेट ने लांच किये ग्रिप्प एक्स थ्री टायर्स
श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण हेतु केंद्र सरकार संसद में क़ानून बनाकर मार्ग प्रशस्त करे: विहिप
गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू आफ यूनिटी के अनावरण 1 नवंबर के बाद लोग दर्शन के लिए जाये:रामबिलास शर्मा स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी के निर्माण में हरियाणा-पंजाब के किसानों का भी अमूल्य योगदान है: भूपेंद्रसिंह चुडासमा
गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू आफ यूनिटी के अनावरण के बारे में जानकारी देते हुए गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्रसिन्ह चूड़ास्मा