Sunday, February 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
सोनीपत:गन्नौर में इंडिया इंटरनेशनल हार्टिकल्चर मार्केट में चौथी एग्रीलीडरशीप समिट में हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद को शॉल भेंट कीसोनीपत:गन्नौर में इंडिया इंटरनेशनल हार्टिकल्चर मार्केट में चौथी एग्रीलीडरशीप समिट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पगड़ी भेंट करके उनका स्वागत कियासोनीपत:गन्नौर में इंडिया इंटरनेशनल हार्टिकल्चर मार्केट में चौथी एग्रीलीडरशीप समिट में मुख्य अतिथि राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद कार्यक्रम में पहुंचेसोनीपत:गन्नौर में इंडिया इंटरनेशनल हार्टिकल्चर मार्केट में चौथी एग्रीलीडरशीप समिट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहुँचेबैडमिंटन : सायना का खिताब बरकरार, सौरभ तीसरी बार बने विजेतापुलवामा हमले के सबूत साझा करने पर भारत के साथ सहयोग को तैयार-पाकपंजाब में 11 आईएएस अधिकारी, 66 पीसीएस अधिकारियों का तबादलाअर्जेंटीना के राष्ट्रपति मॉरिशियो मैक्री अपने 3 दिवसीय दौरे पर आज भारत आएंगे
Editorial

NBT EDIT -बंद गली में लड़कियां

September 14, 2018 05:33 AM

COURTESY NBT SEPT 14

बंद गली में लड़कियां
महिलाओं की खुदकुशी पर आई लैंसेट पब्लिक हेल्थ जर्नल की रिपोर्ट खास तौर पर भारत के लिए चिंता पैदा करने वाली है। इसके मुताबिक पूरी दुनिया में आत्महत्या करने वाली 1000 महिलाओं में 366 भारतीय होती हैं। हालांकि आंकड़ों के मुताबिक 1990 से लेकर 2016 के बीच भारत में आत्महत्या करने वाली महिलाओं की तादाद घटी है, बावजूद इसके, वैश्विक स्तर पर महिला खुदकुशी के आंकड़ों में हमारा योगदान अप्रत्याशित रूप से बढ़ा है। साफ है कि दुनिया ने इस समस्या को सुलझाने में जितनी तेजी दिखाई है, उसके मुकाबले हम फिसड्डी रहे हैं। मगर यह समस्या का सिर्फ एक पहलू है। अगर अपने यहां इसकी प्रकृति को समझने की कोशिश करें तो इसकी गंभीरता के साथ-साथ जटिलता का भी अहसास होता है। देश में आत्महत्या का रास्ता पकड़ने वाली महिलाओं में 71.2 फीसदी हिस्सा 15 से 39 साल के आयु वर्ग का होता है। रिपोर्ट इस तथ्य को खास तौर पर रेखांकित करती है कि खुदकुशी करने वाली महिलाओं में ज्यादातर शादीशुदा होती हैं। ध्यान देने की बात है कि 1990 से 2016 के बीच की जो अवधि अध्ययन के लिए चुनी गई है, भारत में उस दौरान लड़कियां न केवल शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में आगे बढ़ीं बल्कि स्त्री-पुरुष संबंधों के ढांचे में भी अहम बदलाव देखने को मिले। बड़े शहरों में लिव-इन जैसे रिश्ते आम होते गए, तो छोटे शहरों में भी रिश्तों का खुलापन आया। परिवार के अंदर घुटन भरे माहौल से लड़कियां निकलीं, लेकिन आगे जॉब और रिलेशनशिप की जटिलताओं से उपजे अलग तरह के तनाव उनका इंतजार कर रहे थे। भारतीय महिलाओं के लिए यह बिल्कुल नए तरह का तनाव है, सो इससे उबरने और इसके लिए अभ्यस्त होने में वक्त लगना लाजिमी है। लेकिन इस कठिन मोर्चे पर महिलाओं को अकेले जूझने के लिए नहीं छोड़ा जा सकता। अन्य देशों का अनुभव बताता है कि जरा सी मदद और सही समय पर थोड़ी सी हौसला अफजाई उनकी मुश्किल आसान कर सकती है। बस इसी जरा सी मदद का इंतजाम सरकार और समाज को करना है।

Have something to say? Post your comment