Saturday, November 17, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
अभय चौटाला की बैठक शुरू, काफी संख्या में पंहुचे कार्यकर्ताक्या एक वर्ष के कार्यकाल से पूर्व आई.जी. एवं एस.पी. का तबादला न्यायोचित – एडवोकेट हेमंतहरियाणा डीजीपी संधू आज पहुंचेंगे पलवल ,CIA पुलिस स्टेशन के नए भवन का करेंगे उद्घाटनतमिलनाडु: एमके स्टालिन आज कर सकते हैं तूफान गाजा से प्रभावित इलाकों का दौराकोच्चि से मुंबई पहुंची तृप्ति देसाई, हो रहा जबरदस्त विरोध50 की उम्र पार करने के बाद सबरीमाला मंदिर जाएं तृप्ति: प्रदर्शनकारी, मुंबईअगली बार सबरीमाला जाने के लिए गुरिल्ला रणनीति अपनाएंगे: तृप्ति देसाईसबरीमाला: केरल में हिंदू एक्यावेदी ने आज किया हड़ताल का ऐलान
Chandigarh

महंगाई के मुद्दे पर कब तक चुप रहेंगे?

September 08, 2018 03:47 PM
बढ़ती कीमतें, बढ़ती महंगाई किसी भी राष्ट्र के लिए सबसे बड़ा आंतरिक खतरा होती हैं। देश में हर दिन पैट्रोल और डीजल की कीमतें आकाश की तरफ रूख किए बढ़ती जा रही हैं। सरकार इस मुद्दे पर आंख मूंद कर बैठी है कि ये तो कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमतें बढऩे से, कीमतें बढ़ रही हैं या ओपीईसी संघ कच्चे तेल की पूर्ति पर प्रतिबंध लगाए बैठे हैं। एक तकनीकी सर्वेक्षण के अनुसार पैट्रोल व डीजल की कीमतों में लगभग 85 प्रतिशत अंश दोनों केन्द्र तथा राज्य सरकारों द्वारा लगाए गए विभिन्न करों के रूप में एकत्रित किया जाता है। बात ग्राहक, उपभोक्ता या सामान्य नागरिक की हो रही है। वह हर तरफ से चक्की के दो पाटों में पिसता नजर आ रहा है। व्यापार-व्यवसाय-रोजगार के अवसर निरंतर कम हो रहे हैं। एक तरफ आय के स्रोत सूख रहे हैं, तो दूसरी तरफ मांग पक्ष पर बढ़ती कीमतें अपना जबरदस्त दबाव डाल रही हैं। पैट्रोल व डीजल कीमतें, बाकी सारे उत्पादों की कीमतों को बढ़ा देते हैं, क्योंकि ट्रांसपोर्ट-व्यापार और वाणिज्य का मूलभूत तत्व है, व्यक्तियों तथा वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाना, स्थान तुष्टिगुण उत्पन्न करना व्यवसाय की आत्मा तथा प्राण होते हैं। प्रजातांत्रिक सरकारें अगर इस मुद्दे पर चुप रहती हैं तो वह अपने लिए बहुत बड़ा खतरा मोल लेती हैं। लोगों के कल्याण का आधार लिए, जनकल्याण- सर्व का हित साधने के उद्देश्य से नाना प्रकार की योजनाएं तथा कार्यक्रम बनाती हैं, पर बढ़ती कीमतें, इन सबके ऊपर पानी फेर देती है। ‘‘न्यूनतम सरकार तथा अधिकतम सुशासन’’ के नारे से आयी यह सरकार कीमतों को लगाम लगाने के पूर्णतय: असफल रही है। देश की आर्थिकी बेहद नाजुक स्थिति से गुजर रही है, लेकिन सरकारें अपने अनुत्पादकीय खर्चों में कोई कटौती करने को तैयार नहीं है। सुरसा के मुंह की तरफ बढ़ते सरकारी- जरूरी व गैर-जरूरी सभी खर्चों को पूरा करने के लिए सरकारें कर लगाती हैं, कर कैसे कम हो? जब खर्च वाले पहलू में निरंतर वृद्धि की जा रही है। ‘‘डॉलर तूं तो सुझ रहा है, रुपया मैं रो रहा हूँ’’ वाले जोक्स पुराने जोक्स की ‘‘थैलों में रुपये भरकर ले जाते हैं, मुट्ठी में चीजें आती हैं’’ का स्थान ले रहे हैं। बढ़ती आत्महत्याएं, डिप्रैशन तथा कुंठा, ये सब बिगड़ती आर्थिक स्थिति को इंगित कर रहे हैं। सामाजिक ताना-बाना अस्त-व्यस्त हो रहा है। समय रहते चेतना जरूरी है, अन्यथा कब हिंसा, लूटपाट- अपराध ही युवा भारत के पास केवल मात्र हथियार न बन जाए। राजनेताओं तथा सरकार को शर्म आनी चाहिए कि इस मुद्दे पर वह पूरी तरह से विफल है तथा मौन कोई समस्याओं का हल नहीं है। अंत में, ‘‘महंगाई हुई सयानी, भ्रष्टाचार हुआ जवान, इसलिए जोर से, गर्व से कहो मेरा भारत महान।’’
 
डॉ. क. कली
Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
आदर्श पब्लिक स्कूल में फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता आयोजित टी-टॉयज रिटेल चेन ने चंडीगढ़ में खोला अपना पहला खिलौना स्टोर Ministry okays plan for city’s first flyover मिसेज चंडीगढ़ - ए वुमैन ऑफ सब्सटेंस के ऑडिशन चंडीगढ़ और पंचकूला में 11 व 18 नवंबर को होंगे
अगर आप अपने उपर विश्वास करते हैं तो सब कुछ संभव:मीनाक्षी चौधरी
कला, टेक्सटाइल और संस्कृति की शानदार प्रदर्शनी ‘दस्तकारी हाट क्राफ्ट बाजार’ 5 नवंबर, 2018 तक
जीप रैंगलर ने 9वां सेमा '4&4 /एसयूवी ऑफ द ईयरÓ पुरस्कार जीता
ट्रम्प प्रशासन का ईबी 5 वीजा निवेश राशि में बढ़ोतरी का फैसला
फर्स्ट फ्राइडे फोरम में आठ प्रोफेशनल्स को सम्मानित किया गया
चंडीगढ़ फेयर 2018 का पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने किया उद्घाटन