Sunday, January 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अमेरिका के प्रांत केनटुकी के गर्वनर मैटबेविन की अध्यक्षता में 25 सदस्यीय विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों के एक समूह ने अहमदाबाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात कीहरियाणवी उद्यमियों के बीच आकर उन्हें जो प्रसन्नता हो रही है वे उसे शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकते:मनोहरलाल हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ग्रुप डी HSSC Group D के 18218 पदों पर भर्ती के लिए फाइनल रिजल्ट घोषित किया कन्हैया पर चार्जशीट बिना मंजूरी क्यों अखाड़ों ने दरवाजे खोले तो संन्यास के लिए लगीं दलितों की कतारें दलित महामंडलेश्वर चुनने से उत्साह, 50 से ज्यादा साधु बनने जुटेVadodara:Protests mar foundation laying ceremony of Haryana Bhavanबिहार: आज नीतीश कुमार संग पार्टी नेताओं की बैठक, चुनावी रणनीति पर मंथनमुंबई: वर्ली से निकली 16वीं मुंबई मैराथन, बड़ी तादाद में पहुंचे लोग
Haryana

अगस्त, 1999 में हरियाणा में सभी महिलाओं के लिए हेलमेट पहनना हुआ अनिवार्य

September 05, 2018 01:14 PM

सरकार ने दुपहिया वाहन चलाने वाली या उस वाहन के पीछे सवार हर महिला के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया था. इस आशय सम्बन्धी जानकारी आज पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमन्त कुमार ने देते हुए  बताया कि उन्होंने बीते कल राज्य सरकार के पुराने गजटो की गहन जांच कर पाया  कि  16 अगस्त,1999 को हरियाणा के परिवहन विभाग ने अपने गजट में एक विधिवत अधिसूचना जारी कर उक्त हरियाणा मोटरयान नियमावली,1993में संशोधन करते हुए तत्कालीन विधमान नियम संख्या  185 में उपयुक्त संशोधन कर महिलाओं को तब प्राप्त हुई पूरी तरह की छूट को समाप्त कर दिया था. ज्ञात रहे कि अभी पिछले दिनों ही हेमंत ने इस  बाबत मुद्दा उठाया था कि हरियाणा सरकार ने आज तक गैर-सिख  महिलाओ द्वारा अनिवार्य हेलमेट पहनने सम्बन्धी उक्त नियमावली में कोई संशोधन नहीं किया है. इस सारी विसंगति की स्थिति उत्पन्न होने के बारे उन्होंने स्पष्ट किया कि दो माह पूर्व हरियाणा ट्रांसपोर्ट(परिवहन) विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड किये गए हरियाणा मोटरयान नियमावली, 1993 में वर्णित नियम185 को जब उन्होंने पढा तो उनमें साफ़ तौर पर वर्णित है कि ऐसे किसे व्यक्ति को जिसे मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सी.एम.ओ) द्वारा मेडिकल आधार पर हेलमेट  न डालने की सलाह दी गयी हो और सिख धर्म से सम्बंधित व्यक्ति और महिला के लिए हेलमेट पहनना आवश्यक नहीं होगा. दूसरे शब्दों में कहा जाए तो परिवहन विभागे ने अपनी वेबसाइट पर 16 अगस्त,1999 कों इस नियम 185 में हुए  संशोधन का उल्लेख नहीं कर रखा  है जिसके कारण यह सारी भ्रम की स्थिति उत्पन्न हुई.  अत: इसी कारण उन्होंने  इस बारे में गत जुलाई माह में तत्कालीन महामहिम राज्यपाल हरियाणा, मुख्यमंत्री हरियाणा एवं परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पवार को उनके आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट कर एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव, परिवहन विभाग,धनपत सिंह को ईमेल की मार्फ़त  पत्र लिखकर हरियाणा  मोटर यान नियम संख्या 185  में उपयुक्त  संशोधन करने की गुहार की थी  जिससे हरियाणा में भी महिलाओं के लिए कानूनी तौर पर हेलमेट पहनना अनिवार्य किया जा सके. दुर्भाग्यवश, आज तक हरियाणा के परिवहन विभाग ने आज तक अपनी वेबसाइट को इस सम्बन्ध में  अपडेट नहीं दिया.  बहरहाल, यहाँ लिखने योग्य है कि हालाकि पड़ोसी राज्य पंजाब में गैर-सिख महिलाओ के लिए हेलमेट पहनना पहले से ही अनिवार्य है जबकि चंडीगढ़ में दो माह पहले 6 जुलाई, 2018 को इस बाबत अपने मोटरयान नियमावली में  नियम  193 को संशोधित कर गजट अधिसूचना जारी कर दी थी एवं अब से इस सम्बन्ध में चालान काटने भी आरम्भ कर दिए है.  बहरहाल, एडवोकेट हेमंत ने मांग की है कि सिख पुरूषों के साथ साथ पंजाब एवं चंडीगढ़ के मोटरयान नियमो की तर्ज़ पर हरियाणा मोटरयान नियमावली, 1993 के नियम 185 में भी उन  सिख महिलाओं, जिन्होंने अपने सिर पर दस्तार / पगड़ी बाँध  रखी हो, का भी विभाग की वेबसाइट पर स्पष्ट सन्दर्भ डालकर उन्हें हेलमेट पहनने की अनिवार्यता से  छूट प्रदान की जानी चाहिए। 

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ग्रुप डी HSSC Group D के 18218 पदों पर भर्ती के लिए फाइनल रिजल्ट घोषित किया Vadodara:Protests mar foundation laying ceremony of Haryana Bhavan Haryana govt to send its list of 10 to UPSC, soon Punjab-Stage set for Kejriwal’s event in Malwa today JIND - घर पहुंचे विपुल-कविता को मांगेराम ने दुलार किया, समर्थन पर चुप PANIPAT हैंडलूम एसो. चुनाव की लड़ाई पहुंची सड़क पर, दोनों गुटों में गाली-गलौज, हाथापाई की आई नौबत HARYANA-प्रति एकड़ 30500 रु. का निकल रहा आलू, लागत मूल्य है 40 हजार HR CM CITY KARNAL-बदमाश नहीं पकड़े तो तेरहवीं को जीटी रोड जाम की धमकी, विधायकों के हस्तक्षेप पर माने परिजन 'रोडवेज बेड़ा बढ़ाने की बजाय सरकार 700 निजी बसों को लाने पर दे रही जोर' हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी 24 को रोडवेज बचाओ, रोजगार बचाओ सम्मेलन करेगी JIND- धर्मशाला और होटल फुल, कई दिसंबर में हुए थे बुक जींद उप चुनाव का असर : होटलों और धर्मशालाओं में रुकने के लिए कोई कमरा खाली नहीं, कुछ होटलों ने बढ़ाए रेट