Tuesday, April 23, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
कांग्रेस ने दिल्ली की साउथ दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से बॉक्सर विजेंदर सिंह को उम्मीदवार किया घोषित72 घंटे प्रचार नहीं कर पाएंगे नवोजत सिंह सिद्धू पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के उम्मीदवार होंगे गौतम गंभीर बीजेपी ने पूर्वी दिल्ली से गौतम गंभीर-नई दिल्ली से मीनाक्षी लेखी को मैदान में उताराअम्बाला: विश्वकर्मा चैक के निकट लेनदेन के झगड़े में मारी गोलीअम्बाला से भाजपा प्रत्याशी कटारिया द्वारा दायर ताज़ा हलफनामे और पिछले 2014 एफिडेविट में दर्शाए अपने पैन कार्ड नंबर में अंतरकांग्रेस ने UP से 3 कैंडिडेट के नाम घोषित किएश्रीलंका में आतंकी हमले में लापता लोगों को लेकर देवगौड़ा ने सुषमा स्वराज से बात की
National

सितंबर के पहले हफ्ते बनेंगे नोटबंदी जैसे हालात

August 29, 2018 03:43 PM

नई दिल्ली : सितंबर के पहले हफ्ते में देश को कैश की भारी किल्लत झेलनी पड़ सकती है। सितंबर के पहले हफ्ते में बैंक दो दिनों के लिए बंद रहेंगे तो वहीं दो दिन भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के कर्मचारियों की हड़ताल है। ऐसे में एटीएम से लेकर बैंक तक में कैश की किल्लत की पूरी संभावना है। हालांकि इस बात के लिए जब बैंक के अधिकारियों से बत की गयी तो उन्होंने बताया कि वैकल्पिक व्यवस्था कर ली गयी है लेकिन जानकार सूत्रों का कहना है कि दो-तीन दिनों के लिए नोटबंदी जैसे हालात संभव हैं। 
दरअसल 2 और 3 तारीख को बैंकों की छुट्टी है तो वहीं 4 और 5 सितंबर को आरबीआई के कर्मचारी हड़ताल पर जा रहे हैं, जिसकी वजह से आपको कैश की किल्लत होगी। दो दिन छुट्टी और दो दिन हड़ताल की वजह से कैश की किल्लत होगी, क्योंकि इस दौरान कैश की सप्लाई नहीं होगी, जिसकी वजह से एटीएम खाली हो जाएंगे। इतना ही नहीं पहले हफ्ते की वजह से लोग बैंकों से अपनी सैलरी निकालने पहुंचेंगे, लेकिन उन्हें इस हड़ताल की वजह से मुश्किल आ सकती है।
सितंबर के पहले हफ्ते में आपको कैश की किल्लत हो सकती है। जहां दो दिन बैंकों की छुट्टी हैं तो वहीं अगले दो दिन बैंकों की हड़ताल है। 2 सितंबर को रविवार की छुट्टी है तो वहीं 3 सितंबर को जन्माष्टमी की छुट्टी है। जबकि 4 और 5 सितंबर को रिजर्व बैंक के कर्मचारी अवकाश पर जा रहे हैं। अधिकारियों और कर्मचारी यूनियन के संयुक्त मंच ने सोमवार को कहा कि उसके सदस्य पेंशन से संबंधित लंबे समय से चली आ रही अपनी मांगों को लेकर 4 और 5 सितंबर को सामूहिक रुप से अवकाश लेंगे। 
इसके कारण लगातार 4 दिनों तक बैंकों के कामकाज प्रभावित होंगे। आरबीआई की हड़ताल की वजह से कैश सप्लाई प्रभावित होगी और एटीएम में कैश खाली होने की संभावना अधिक है। आरबीआई के कर्मचारी मोदी सरकार से नाराज हैं। पेंशन आदि मुद्दों को लेकर ये कर्मचारी 4 और 5 सितंबर को मौन विरोध प्रदर्शन करेंगे। जिसकी वजह से कामकाज पूरी तरह से ठप होगा। कर्मचारियों की मांग में अंशदान आधारित भविष्य निधि के दायरे में आने वालों के लिए पेंशन का अद्यतना करना और 2012 के बाद नियुक्त कर्मचारियों के लिये सीपीएफ/अतिरिक्त भविष्य निधि का लाभ देने जैसी मांगें शामिल है।
अधिकारियों का कहना है कि दो दिन बाद बैंक खुलने से बैकलॉग भी रहेगा लेकिन आरबीआई की हड़ताल की वजह से लेन-देन के अलावा चेक क्लीयरेंस आदि बैंकिंग काम में देरी हो सकती है। हड़ताल से करेंसी की सप्लाई और किसी भी तरह का भुगतान नहीं हो सकेगी। जिसकी वजह से एटीएम से पैसे निकालने वालों को परेशानी होगी। अधिकांश एटीएम खाली होने की संभावना है। हालांकि बैंकों का कहना है कि इस हड़ताल का लोगों को प्रत्यक्ष तौर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। बैंक इसके लिए पहले से तैयार हैं। बैंक भले ही दावा कर रहे हो, लेकिन बेहतर होगा कि आप अपने लिए पहले से ही कैश का इंतजाम कर लें।

 
Have something to say? Post your comment
 
More National News
श्रीलंका में आतंकी हमले में लापता लोगों को लेकर देवगौड़ा ने सुषमा स्वराज से बात की पश्चिम बंगाल: तीसरे चरण के मतदान से पहले EC ने किया 7 पुलिस अधिकारियों का तबादला BJP को खुशी है कि राहुल गांधी के स्टैंड का पर्दाफाश हो गया, वे लगातार झूठ बोल रहे थे: जावड़ेकर ममता दी आपको आतंकियों से इलू-इलू करना है तो करिये लेकिन ये BJP सरकार है: शाह महाराष्ट्र: मुंबई के क्रॉफोर्ड मार्केट में लगी आग, मौके पर दमकल की 4 गाड़ियां राहुल गांधी ने SC में दिया जवाब-बोले- चुनाव प्रचार की उत्तेजना में दिया बयान अवमानना मामले में आज राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट में दायर करेंगे जवाब आज भी मोदी की धुआंधार रैली- नासिक, नंदुरबार और उदयपुर में करेंगे सभाएं तमिलनाडु: त्रिची जिले में करूपू स्वामी मंदिर के बाहर भगदड़, 7 मरे, 10 घायल AAP उम्मीदवार आज भरेंगे पर्चा, कांग्रेस के खिलाफ पोल-खोल अभियान की तैयारी