Tuesday, October 16, 2018
Follow us on
Haryana

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हरियाणावासियों को विभिन्न सौंगातों के तोहफे दिए

August 15, 2018 04:56 PM
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर विभिन्न घोषणाएं कर हरियाणावासियों को विभिन्न सौंगातों के तोहफे दिए, जिनमें स्वस्थ हरियाणा के तहत सभी 22 जिलों के नागरिक अस्पतालों में आयुष्मान भारत स्वास्थ्य सुरक्षा योजना, म्हारा गांव जगमग गांव योजना के तहत 507 ओर गांवों में 24 घंटे बिजली की आपूर्ति, शहीदों के आश्रितों के लिए ग्रुप बी की भर्तियों में आरक्षण का प्रावधान, सरकारी कर्मचारियों को अन्य विभागों में उच्च पद पर आवेदन के लिए आगे से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना आवश्यक नहीं होगा जैसे घोषणाएं प्रमुख रूप से शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने आज प्रदेश में एक नवंबर 2018 से सभी सामाजिक सुरक्षा पैंशन 1800 से बढ़ाकर 2000 रुपये करने की घोषणा भी की।मुख्यमंत्री बुधवार को 72वें स्वतंत्रता दिवस पर ऐतिहासिक नगर हिसार के महाबीर स्टेडियम में राष्ट्रीय ध्वज फहराने तथा परेड का निरीक्षण करने उपरांत हरियाणा के लोगों को स्वतंत्रता दिवस का अपना संदेश दे रहे थे।
 
उन्होंने कहा कि राष्टï्रहित व जनहित के फैसले क्षेत्रवाद, परिवारवाद व राजनीतिक लाभ से ऊपर उठकर लेकर ही हम देश की आजादी की लड़ाई लडऩे वाले स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को पूरा कर लोगों को भय, भूख, निरक्षरता, असुरक्षा की भावना, सामाजिक व आर्थिक विषमता से मुक्ति दिलाकर आजादी का पूर्ण आभास करवा सकते हैं। यही प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी राष्टï्रहित में फैसले लेकर विश्व को एक बार पुन भारत को सोने की चिडिय़ा व विश्वगुरू बनाने का अहसास करवा रहे हैं।   
एसवाईएल बदहालती व इसे राजनीतिक मुद्ïदे के रूप में उपयोग करने के लिए प्रदेश की राजनीतिक पार्टियों को जिम्मेवार ठहराते हुए मुख्यमंत्री ने रावी-ब्यास से हरियाणा के हिस्से का पानी इसी वर्ष लेने का संकल्प लिया और कहा कि 11 वर्षों तक राष्टï्रपति संदर्भ के लिए एसवाईएल का मुद्ïदा सर्वोच्च न्यायालय में लटका रहा परंतु हमने आते ही इस पर न्यायालय में नियमित सुनवाई करवाई और हरियाण के हक में फैसला आया।  
 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों व उनके आश्रितों तथा सेवारत व भूतपूर्व सैनिकों व उनके आश्रितों के प्रति अपना फर्ज निभाने में हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं। अलग से सैनिक व अर्थ सैनिक कल्याण विभाग खोलने के साथ-साथ राज्य सरकार ने शहीदों के 221 आश्रितों को विभिन्न विभागों में नौकरी दी है जबकि पिछली सरकारों में केवल दो ही शहीदों के आश्रितों को नौकरी दी गई थी। उन्होंने कहा कि 1971 के युद्घ तक के उन शहीदों को भी जिनका कोई पुत्र नहीं था, उनकी पुत्री को तथा दत्तक पुत्रों को भी नौकरी दी है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल उपस्थित सभी नागरिकों और स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों का हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा के वीरों का सदा से ही यह संकल्प रहा है कि वे देश के लिए सब कुछ न्योछावर करने में प्रदेश के वीर सदा आगे रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि नेता जी सुभास चन्द्र बोस की ‘आजाद हिन्द फौज’ में सबसे ज्यादा सैनिक हरियाणा से ही थे। आज भी भारतीय सेनाओं में औसतन हर दसवां जवान इसी हरियाणा से है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने पिछले 45 महीनों में 488 स्वतंत्रता सेनानियों की पोतियों को 2 करोड़ 48 लाख रुपये से अधिक की राशि कन्यादान के रूप में दी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी भूतपूर्व सैनिकों की ‘वन रैंक-वन पेंशन’ की सालों से लम्बित मांग को पूरा किया है। देश की रक्षा के लिए प्रदेश के शहीद होने वाले सैनिकों के आश्रित परिवारों को दी जाने वाली एक्सग्रेशिया ग्रांट 50 लाख रुपये कर दी है, जबकि पहले की सरकारों में केवल 20 लाख रुपये ही मिलते थे। 
 
उन्होंने कहा कि वे प्रदेश में एक ऐसी व्यवस्था बनाने के पक्षधर हैं, जिसमें हर हरियाणवी को बराबर फलने-फूलने का मौका मिले। उन्होंने जब मुख्यमंत्री का कार्यभार सम्भाला तो कई चुनौती थी। सिस्टम बदलने का रास्ता कठिन था, लेकिन लक्ष्य साफ  था। हम उस रास्ते पर चले, जिसके परिणाम हमारे सामने हैं। आज हरियाणा आर्थिक तरक्की की रफ्तार पकड़ चुका है। प्रदेश में हर नागरिक को आज अपना हक लेने के लिए किसी के आगे गिड़गिड़ाना नहीं पड़ता। प्रदेश का कमजोर, गरीब व आम आदमी भी आज तरक्की की रफ्तार में शामिल होने का सपना देख सकता है। पहले सरकार का फायदा केवल दबंग लोग ही उठाते थे, इस कल्चर का प्रदेष में अब नामोनिशान मिट चुका है। 
सिस्टम में बदलाव करना जितना मुश्किल होता है, उससे ज्यादा मुष्किल होता है बदले हुए माहौल को स्वीकार करना। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी का यह वर्ष अच्छी बरसात का संदेश भी लाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 4 जुलाई 2018 को 14 खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्यों में 200 रुपये से 1800 रुपये प्रति क्विंटल की भारी वृद्धि करके अन्नदाताओं पर धन की वर्षा की है। यह 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के उनके लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में एक ऐतिहासिक कदम है। उन्होंने कहा कि इजरायल दौरे पर उन्होंने देखा कि वहां पर कैसे कम पानी से बागवानी व दूसरी फसलों की खेती की जा रही है। सरकार इजरायल की उन्नत कृषि एवं बागवानी तकनीकों का प्रदेश में प्रयोग करने पर बल दे रहे हैं। आगामी तीन वर्षो में प्रदेश के हर जिले में बागवानी फसलों के उत्कृष्टïता केन्द्र स्थापित करने की योजना है। करनाल में महाराणा प्रताप के नाम पर एक बागवानी विश्वविद्यालय स्थापित किया जा रहा है।   उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन की शुरूआत करते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की 150वीं जन्म शताब्दी  2 अक्तूबर, 2019 तक भारत को खुले में शौच से मुक्त बनाने का आह्वान किया था। इस दिशा में हरियाणा देश का पहला राज्य है, जिसने हर गांव एवं हर शहर को पिछले वर्ष ही खुले में शौच मुक्त बना दिया। उन्होंने कहा कि हमने हरियाणा को देश का पहला कैरोसीन फ्री प्रदेश बनाया है। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत लगभग 5 लाख गैस कनैक्शन गरीब परिवारों को दिए हैं और 2 अक्तूबर गांधी जयंती तक ऐसा कोई भी परिवार हरियाणा में नहीं होगा जिसके पास गैस कनैक्शन न हो।
 खेलों की तरफ  युवाओं का रुझान बढ़ाने के लिए हमने नई खेल नीति लागू की है। पुरस्कार राशि में भारी बढ़ोतरी की गई है। गांव स्तर पर योग, व्यायामशालाएं तथा आधुनिक खेल इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित किया जा रहा है। अब तक 628 व्यायामशालाएं एवं योगशालाएं स्थापित की जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा के खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मैडल जीतकर हरियाणा का नाम रोशन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने 18 अगस्त से इण्डोनेशिया में आयोजित होने जा रहे 18वें एशियाई खेलों में भाग लेने वाले भारत, विषेशकर हरियाणा के खिलाडिय़ों को शुुभकामनाएं देते हुए आशा व्यक्त की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता सेनानियों, शहीदों के परिजनों व विभिन्न क्षेत्र में कार्य करने वालों के साथ-साथ प्रतिभावान खिलाडिय़ों को भी सम्मानित किया। 
Have something to say? Post your comment