Tuesday, December 18, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
18 हजार छात्रों ने किया अष्टादश श्लोकी गीता पाठ श्रीमद्भगवद् गीता हमारी प्राचीन संस्कृति की अमूल्य धरोहर है, जोकि ज्ञान, कर्म और भक्ति का बेजोड़ संगम:मंत्री नायब सिंह सैनी आयुष्मान भारत योजना के तहत अभी तक प्रदेश के 1505 मरीजों को करीब 1.90 करोड़ रुपए की चिकित्सा सहायता उपलब्ध करवाई गई:विजठाणे में बोले PM मोदी-परिवहन विकास की चाबी है दिल्लीः सुनंदा पुष्कर केस में सुनवाई 20 दिसंबर तक स्थगित राहुल का ट्वीट-हमने जो कहा, वो कर दिखाया, PM को सीख लेनी चाहिएगीता से बडा कोई ग्रन्थ नहीं -डॉ बनवारी लाल गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन सायंकालीन सत्र का शुभारंभ मुख्य कार्यकारी अधिकारी कुशल कटारिया ने दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया
National

अब हिंसक भीड़ की खैर नहीं

August 12, 2018 07:27 PM

डॉ.वेदप्रताप: वैदिकअपनी मांगों के लिए देश में दंगे और तोड़-फोड़ करनेवालों की अब खैर नहीं है, क्योंकि भारत का सर्वोच्च न्यायालय और केंद्र सरकार, दोनों ही उन पर लगाम लगाने के लिए कटिबद्ध हो गए हैं। भारत के एटार्नी जनरल ने अदालत में मांग की है कि हर जिले के सरकारी अधिकारियों को जिम्मेदार बनाकर दंगों और तोड़-फोड़ को रोका जाए। और अदालत ने भी कहा है कि जिस तरह से अवैध निर्माण-कार्यों को रोकने के लिए संबंधित जिला-अधिकारियों को जवाबदेह बनाया गया है, वैसे ही किसी भी प्रदर्शन, धरने या जुलूस के हिंसक होने पर उसे रोकने की जिम्मेदारी स्थानीय अधिकारियों पर डाली जाए। यदि वे अपनी जिम्मेदारी में असफल हों तो उन्हें उसका दंड भुगतना पड़े। पिछले दिनों पद्मावती फिल्म को लेकर कर्णी सेना ने कितना उत्पात मचाया था। उन्होंने दीपिका पादुकोण की नाक काटने की घोषणा कर दी थी और सिनेमाघरों को जलाने की धमकियां दे दी थीं। मैंने जब उस फिल्म को देखकर अपनी राय प्रकट की तो मुझे हत्या की धमकियां आने लगीं लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। इस प्रकार मराठा प्रदर्शनकारियों और अनुसूचितों ने जो भयंकर उत्पात मचाया, उसमें कावड़ियों ने और अधिक मिर्च-मसाला मिला दिया। जब तक इन हिंसक प्रदर्शनों या सामूहिक हिंसा के खिलाफ तत्काल और ठोस कार्रवाई नहीं होगी, हमारा लोकतंत्र मजाक बनकर रह जाएगा। इसका अर्थ यह नहीं कि विरोध-प्रदर्शन के लोकतांत्रिक अधिकार से जनता को वंचित कर दिया जाए। जन-आक्रोश और जन-असंतोष को फूटकर बह निकलने का सबसे अच्छा रास्ता यही है लेकिन राज्य का यह धर्म है कि उसे वह हिंसक, अश्लील और फूहड़ न होने दे। जो भी इस तरह के हिंसक आयोजन करें, चाहे वे कोई संगठन हों या राजनीतिक दल हों या व्यक्ति हों, उन्हें उसकी सजा जरुर मिलनी चाहिए। उन्हें जेल हो और उन्हें जुर्माना भी भरना पड़ा तो वे इस कुकर्म से जरुर बाज आएंगे। भारतीय लोकतंत्र का स्तर ऊंचा उठेगा और देश का आम नागरिक अपने आपको अधिक सुरक्षित समझेगा।

Have something to say? Post your comment
More National News
ठाणे में बोले PM मोदी-परिवहन विकास की चाबी है राहुल का ट्वीट-हमने जो कहा, वो कर दिखाया, PM को सीख लेनी चाहिए मुंबई: कल्याण में PM ने मेट्रो परियोजना का शिलान्यास किया दुनिया के 10 शीर्ष विकासशील शहर भारत में हैं- PM मोदी CBI केस में राकेश अस्थाना के लिए घूस लेने के आरोपी मनोज प्रसाद को जमानत आंध्र प्रदेश: पेथाई तूफान ने मचाई तबाही, 14000 हेक्टेयर्स में फसल खराब राफेल पर चर्चा से भाग रही कांग्रेस, उसके पुराने पाप सामने आ जाएंगे: रविशंकर मुंबई के अस्पताल में लगी आग में CM देवेंद्र फडणवीस ने दिए जांच के आदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने संसद में अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया : जयंत सिन्हा पिछली सरकार में साढ़े 8 लाख करोड़ एनपीए हुए: अरुण जेटली