Monday, December 10, 2018
Follow us on
Haryana

पीएम मोदी से समय नहीं ले सके तीन भाजपा सांसदसुप्रीम कोर्ट द्वारा एसवाईएल के मुद्दे पर-2 साल में सीएम को भी नहीं मिला समय

August 11, 2018 06:58 AM

COURSTEY DAINIK TRIBUNE AUG 11

पीएम मोदी से समय नहीं ले सके तीन भाजपा सांसद
ट्रिब्यून न्यूज सर्विस
चंडीगढ़, 10 अगस्त
हरियाणा में एक बार फिर से जहां एसवाईएल के मुद्दे पर राजनीति गरमाने लगी है वहीं पार्टी लाइन को क्रास करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे पर समय मांगने वाले प्रदेश के तीन भाजपा सांसदों को निराशा मिली है। करीब 20 दिन बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के तीन सांसदों को मुलाकात के लिए समय नहीं दिया है। इस मामले में पार्टी संगठन तथा सीएमओ की भूमिका को अहम माना जा रहा है।
केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत पिछले कुछ समय से मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कार्यशैली पर सवाल उठाते रहे हैं। हालांकि राव इंद्रजीत शुरू से ही दक्षिण हरियाणा की राजनीति कर रहे हैं, लेकिन कुछ समय पहले उन्होंने झज्जर के गांव मुंडाहेड़ा में रैली के माध्यम से शक्ति प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कार्यशैली पर सार्वजनिक मंच से सवाल उठाया था। राव इंद्रजीत ने मुंडाहेड़ा की रैली में ऐलान किया था कि वे एसवाईएल के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। राव को इस मामले में भाजपा सांसद धर्मबीर तथा रमेश कौशिक का भी साथ मिल गया था। जिसके चलते तीनों सांसद बकायदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय में गए और एसवाईएल के मुद्दे पर मुलाकात का समय मांगा। प्रधानमंत्री कार्यालय से आने के बाद राव इंद्रजीत ने दावा किया था कि उन्होंने इस ममाले में सांसद दुष्यंत चौटाला से भी बात की है और हरियाणा के सभी 10 सांसदों को एसवाईएल का मुद्दा सुलझाने के लिए एक प्लेटफार्म पर आने का भी आह्वान किया था।
भाजपा सांसदों की इस तिकड़ी को अभी तक प्रधानमंत्री कार्यालय से मुलाकात के लिए समय नहीं मिल सका है। सूत्रों के अनुसार भाजपा नेतृत्व ऐसे नेताओं को ज्यादा त्वज्जो देने के पक्ष में नहीं है जो मुख्यमंत्री और शीर्ष नेतृत्व की कार्यशैली पर अंगुली उठाते रहे हैं। माना जा रहा है कि राव इंद्रजीत सिंह दक्षिण हरियाणा में रैली करने के बाद एसवाईएल के मुद्दे पर सांसदों का नेतृत्व करने की तैयारी में है। ऐसे में अगर प्रधानमंत्री मोदी उक्त सांसदों से मुलाकात कर लेते हैं तो इसका बड़ा संदेश जाएगा। भाजपा हाईकमान ऐसा कोई संदेश नहीं देना चाहती है जिससे यह पता लगे कि पार्टी में समानांतर नेतृत्व खड़ा हो। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा समय नहीं दिए जाने के मामले को लेकर तीनों सांसदों की फजीहत हो रही है।

2 साल में सीएम को भी नहीं मिला समय
सुप्रीम कोर्ट द्वारा एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के पक्ष में फैसला दिए जाने के बाद जब पंजाब ने इस मामले में अड़ंगा लगाया तो हरियाणा के सभी राजनीतिक दलों ने बैठक करके मुख्यमंत्री मनोहर लाल को यह अधिकार दिया था कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के लिए समय लेंगे और सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि उनके नेतृत्व में प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे लेकिन सर्वदलीय बैठक के दो साल बाद भी मुख्यमंत्री मनोहर लाल प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के लिए समय नहीं ले पाए हैं।

Have something to say? Post your comment