Saturday, December 15, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
पीएम ने जो पैसे चोरी किए वो किसानों को देंगे- राहुल गांधीकर्नाटक- चमराजनगर में जहरीला प्रसाद खाने से 5 लोगों की मौत, 72 बीमारराजस्‍थान: अशोक गहलोत और सचिन पायलट राजभवन पहुंचेचुनाव में मतदाता को लुभाने बारे यदि कोई व्यक्ति या असामाजिक तत्व शराब या अन्य नशीली वस्तुओं का वितरण नहीं कर सकता:: पुलिस अधीक्षक शिव चरण हरियाणाः निकाय चुनावों के दौरान सुरक्षा के पुख्ता प्रबंधहरियाणा पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन विभाग द्वारा आगामी 17 से 19 दिसम्बर तक ‘जलवायु परिवर्तन अनुकूलन और कमी’ विषय पर 3 दिवसीय राइटशॉप का आयोजन किया जाएगासंसद में राफेल डील पर चर्चा की मांग करेंगे:अरुण जेटलीराफेल पर SC का फैसला सरकार की जीत- सीतारमण
Delhi

आपके बच्चे को बीमार बना रहे प्राइवेट स्कूल

August 10, 2018 06:17 AM

COURTEY NBT AUG 10

आपके बच्चे को बीमार बना रहे प्राइवेट स्कूल


बच्चों की सर्जरी की गई मोटापे की वजह से
123
फीसदी बच्चों की नींद की बीमारी ठीक हो गई
93
फीसदी बच्चों का हाइपरटेंशन ठीक हो गया या कंट्रोल में आ गया
76
फीसदी की डायबिटीज ठीक हो गई, सभी को टाइप-2 डायबिटीज थी
85
फीसदी तक वजह कम हो गया था सर्जरी के एक साल बाद
81• मोटापे से परेशान ज्यादातर बच्चों को डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और नींद की बीमारी जैसी परेशानी थी• डायबिटीज के नए मरीजों में 10 पर्सेंट 10-18 साल के थे • कई स्कूल अपने बच्चों की अनहेल्दी फूड हैबिट के बारे में नहीं जानते थे। • स्कूल कैंटीन में हाई कैलोरी ड्रिंक्स, ट्रांस फैट वाले स्नैक्स बिक रहे थे।• तेल कई बार गर्म करके यूज किया जा रहा था। • स्कूल व्यवस्था सुधारना तो चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं कर पा रहे थे।
Rahul.Anand@timesgroup.com

 

दिल्ली के प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले 30 फीसदी बच्चे मोटापे की चपेट में हैं। एक स्टडी में यह खुलासा हुआ है। इसमें चिंता जताई गई है कि खाने की गलत आदत की वजह से बच्चे मोटापे का शिकार हो रहे हैं। स्कूलों की कैंटीन में बीमार करने वाले फूड प्रॉडक्ट्स बेचे जा रहे हैं। कई स्कूलों की कैंटीन में तो एक ही तेल बार-बार गर्म करके इस्तेमाल होते देखा गया। यह ट्रांसफैट बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है। यह स्टडी गंगाराम अस्पताल की डॉक्टर लतिका भल्ला और उनकी टीम ने की। बच्चों में मोटापा किस तरह बढ़ रहा है, यह इस बात से समझा जा सकता है कि बीते 8 साल में 123 बच्चों की सर्जरी की गई है। इनकी उम्र 15 से 21 साल के बीच थी। बेरिएट्रिक सर्जरी विभाग के चेयरमैन डॉक्टर सुधीर कलहन ने कहा कि 2010 से 2018 के बीच वजन घटाने के लिए कुल 1078 सर्जरी की गईं। इनमें से 23 पर्सेंट मरीज वह थे, जो बचपन या किशोरावस्था में मोटापे की चपेट में आए थे। बाद में सभी डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, नींद की बीमारी और बांझपन जैसी परेशानियों की गिरफ्त में आ गए थे। डॉक्टर विवेक बिंदल ने कहा कि जिन 123 स्कूली बच्चों के मोटापे की सर्जरी की गई, वे भी डायबिटीज, हाइपरटेंशन और नींद की बीमारी से परेशान थे। उनमें से कई भाई-बहन थे, जिनका मोटापा जीन के साथ-साथ भोजन की आदतों से जुड़ा था। गुरुवार को मोटापे के प्रति बच्चों को जागरूक करने के लिए संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें 300 स्कूली बच्चे शामिल हुए। इस दौरान बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर, क्रिकेटर गौतम गंभीर, ए एम वट्टल, अनुराधा जोशी भी उपस्थित थीं।

Have something to say? Post your comment
More Delhi News