Friday, December 14, 2018
Follow us on
Delhi

HARYANA-किसानों के 395 करोड़ पर चीनी मिलों की कुंडली

July 12, 2018 07:01 AM

COURSTEY DAINIK JAGRAN  JULY 12

किसानों के 395 करोड़ पर चीनी मिलों की कुंडली

किसानों को ब्याज सहित भुगतान करें मिलें : चढूनी1भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी और प्रवक्ता राकेश बैंस ने कहा कि गन्ना किसानों को भुगतान समय से कराने के लिए पारदर्शी सिस्टम बनाया जाए। गन्ना किसानों को ब्याज के साथ पूरी बकाया राशि का भुगतान किया जाए। जल्द ही सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया तो यूनियन आंदोलन से पीछे नहीं हटेगी।
497.96
40
10
25
38
तीन हजार हेक्टेयर बढ़ेगा रकबा, असमंजस में किसान1सरकार ने 2018-19 के सीजन में 1.17 लाख हेक्टेयर जमीन पर गन्ने की बुआई और 88.29 लाख टन गन्ना उत्पादन का लक्ष्य रखा है। बुआई का यह लक्ष्य बीते सीजन से तीन हजार हेक्टेयर अधिक है। मिलों में फंसी बकाया राशि से आक्रोशित किसान संशय में है कि वह गन्ना लगाएं या नहीं।
लाख क्विंटल गन्ना पिराई के लिए 10 सहकारी मिलों में पहुंचा1
मिलों की दौड़ लगा रहे किसान तो कभी सरकार से फरियाद, नहीं मिला पैसा
हजार किसानों ने इस बार 1.14 लाख हेक्टेयर में गन्ना बोया था
हजार गन्ना किसानों को पेमेंट नहीं मिली अब तक
से 40 फीसद तक राशि बकाया है मिलों पर

Click here to enlarge image
राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़ : हरियाणा में इस बार रिकॉर्ड पिराई और बंपर चीनी उत्पादन के बावजूद सहकारी चीनी मिलें किसानों की बकाया राशि के भुगतान का नाम ले रहीं। सहकारी मिलों पर किसानों का करीब 395 करोड़ रुपये बकाया है। सभी गन्ना मिलों पर किसानों का से फीसद तक भुगतान बकाया है। हालांकि मंत्रिमंडल की बैठक में किसानों के बकाये का भुगतान कराने के लिए चीनी मिलों को पैसे देने का निर्णय लिया जा चुका है, लेकिन फाइल अभी तक अफसरों के पास अटकी है। 1प्रदेश के छह लाख किसानों में से करीब हजार किसान परिवारों ने इस बार 1.14 लाख हेक्टेयर में गन्ना बोया था। प्रति हेक्टेयर 76 हजार क्विंटल गन्ने की दर से उत्पादन भी करीब 87 लाख टन से अधिक हुआ। इसमें से लाख क्विंटल गन्ना पिराई के लिए सहकारी चीनी मिलों में पहुंचा। चीनी के रिकॉर्ड 49.26 लाख क्विंटल उत्पादन और .01 फीसद की रिकवरी के साथ सहकारी चीनी मिलों ने काफी हद तक घाटे की भरपाई करने में सफलता पाई। इसके बावजूद करीब दस हजार गन्ना उत्पादक किसानों का 395 करोड़ रुपया चीनी मिलों में अटका है। 1किसान यूनियनों के दबाव में हालांकि चीनी मिलों ने अरसे से बकाया पड़े करीब 200 करोड़ रुपये का पिछले दिनों भुगतान कर दिया। मगर चालू सीजन में किसानों को भुगतान कब होगा, यह बताने को कोई तैयार नहीं।अप्रैल तक बकाया 200 करोड़ का भुगतान किया जा चुका। 75 फीसद किसानों की पेमेंट उनके खाते में डाल दी गई है। शेष बचे 395 करोड़ रुपये का भुगतान भी जल्द करा दिया जाएगा। आगामी सीजन के लिए चीनी मिलों की क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। 1मनीष कुमार ग्रोवर, सहकारिता मंत्री

 

 

Have something to say? Post your comment
More Delhi News
राजस्थान में कौन होगा मुख्यमंत्री, इसे लेकर 10.30 बजे राहुल के घर होगी बैठक राहुल गांधी से फिर मिल सकते हैं सचिन पायलट मुख्यमंत्री के लिए अपनी दावेदारी पर अड़े सचिन पायलट दिल्ली से भोपाल जा रहे हैं कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सचिन पायलट और अशोक गहलोत को दिल्ली में रोका गया दिल्लीः राजस्थान के CM पर हो गया फैसला, शाम 4 बजे होगा ऐलान दिल्लीः गहलोत ने सचिन पायलट समर्थकों की नारेबाजी पर जताई आपत्ति दिल्ली: राहुल से मुलाकात के बाद गहलोत और पायलट जयपुर रवाना दिल्लीः राहुल गांधी से मिलने के लिए आवास से निकले सचिन पायलट दिल्ली में भी कांग्रेस ऑफिस में सचिन पायलट के समर्थकों की नारेबाजी