Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
National

अहीरवाल से निकलकर राव इंद्रजीत की जाट लैंड में एंट्री

July 11, 2018 06:38 AM

COURSTEY DAINIK JAGRAN JUL 11

अहीरवाल से निकलकर राव इंद्रजीत की जाट लैंड में एंट्री

भाजपा में अपने विरोधियों से असहज महसूस कर रहे केंद्रीय मंत्री ने बनाई नई रणनीति, अब झज्जर के मुंडाहेड़ा में शक्ति प्रदर्शन 1


अनुराग अग्रवाल ’ चंडीगढ़ 1मोदी सरकार में हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर रहे केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत ने एकाएक अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। 2014 के चुनाव में दक्षिण हरियाणा से भाजपा को उम्मीद से अधिक सीटें दिलाने वाले राव ने महेंद्रगढ़ के दोगड़ा अहीर में अपनी राजनीतिक ताकत को टटोलकर अहीरवाल से बाहर का रुख किया है। राव 15 जुलाई को झज्जर जिले के गांव मुंडाहेड़ा में बड़ी रैली करने जा रहे हैं। जाटलैंड में राव की इस रैली को जहां पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के लिए चुनौती माना जा रहा है, वहीं भाजपा के शीर्ष नेताओं को यह संदेश देने की कोशिश भी है कि राव का राजनीतिक कद सिर्फ अहीरवाल तक ही सिमटा हुआ नहीं है। जाटलैंड के बाद राव उत्तर हरियाणा में भी एक रैली करने की रणनीति बना रहे हैं। 1पिछले चुनाव से पहले राव इंद्रजीत कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। तब भाजपा को राव की एंट्री का पूरा लाभ मिला था। भाजपा उम्मीदवार को जिताने के लिए राव ने कोसली से अपने भाई व कांग्रेस प्रत्याशी राव यादुवेंद्र तक को पराजित करा दिया था। अहीरवाल में राव हालांकि करीब 12 विधायकों को जितवाने में कामयाब रहे, लेकिन उनके नाम के ठप्पे से बचने के लिए आधे विधायक ही राव के साथ मंच पर नजर आते हैं। भाजपा में एंट्री के बाद राव काफी दिनों तक सहज रहे, लेकिन अब राव विरोधी खेमा पूरी तरह से सक्रिय और पावरफुल स्थिति में नजर आ रहा है। राव दोगड़ा अहीर की रैली में अपनी बेटी आरती राव को अपना सियासी उत्तराधिकारी ही घोषित कर चुके हैं। 1भाजपा में अंदरूनी विरोध, हुड्डा से मुलाकात और इनेलो-बसपा गठबंधन के प्रति नरमी इस बात का स्पष्ट संकेत है कि राव अगले चुनाव तक कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं।केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह।

Have something to say? Post your comment