Friday, December 14, 2018
Follow us on
Haryana

FARIDABAD-घरों में नहीं पहुंच रहा पानी, जनता सड़कों पर कर रही प्रदर्शन, नगर निगम पानी बेचने की तैयारी में

July 11, 2018 05:24 AM

COURTEY DAINIK BHASKAR JULY 11
घरों में नहीं पहुंच रहा पानी, जनता सड़कों पर कर रही प्रदर्शन, नगर निगम पानी बेचने की तैयारी में

नगर निगम की बेइंसाफी

भास्कर न्यूज|फरीदाबाद

 

नगर निगम की नाइंसाफी तो देखिए। इस भीषण गर्मी में लोगों के घरों तक पानी नहीं पहुंच रहा है। इससे हर दिन कहीं न कहीं जनता सड़कों पर उतर कर धरने-प्रदर्शन कर जाम लगा रही है। इसके बावजूद नगर निगम इन्हें पानी उपलब्ध कराने के बजाय पानी बेचकर अपनी जेब भरने की तैयारी में है। जबकि ये लोग पानी का बिल देते हैं, लेिकन इन्हें पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा। आलम यह है कि कभी पानी आता तो कभी नहीं। कभी गंदा पानी आता है। नगर निगम ने अपने 1411 ट्यूबवेलों से पानी बेचने का फरमान संबंधित क्षेत्र के एक्सईएन को दे दिया गया है। निगम के अफसरों का दावा है कि इससे पानी मािफयाओं पर रोक लगेगी और निगम की आय बढ़ेगी।
सरकार ने ये रेट किए हैं निर्धारित : नगर निगम के 3 हजार लीटर की क्षमता वाले टैंकर से पानी लेने पर आधे दिन के लिए 500 रुपए देना होगा। यदि टैंकर पूरे दिन के लिए लेता है तो उसे 750 रुपए देने होंगे। यदि 5 हजार लीटर क्षमता वाले टैंकर से पानी लेगा तो 835 रुपए लगेंगे। इसमें भी शर्त यह है कि यदि नगर निगम का टैंकर अगर 5 किमी के अंदर जाता है तो कोई शुल्क नहीं लगेगा। 5 किमी से बाहर जाने पर 5 रुपए प्रति किमी की दर से अतिरिक्त चार्ज देना होगा।
पानी से निगम इनकम बढ़ाने का कर रहा दावा, निगम सीमा क्षेत्र में लगे 1411 ट्यूबवेलों से बिकेगा पानी
कई कॉलोनियांें में पेयजल संकट, पानी मािफया का निगम के ट्यूबवेलों और बूस्टरों से फ्री में पानी का व्यापार
1411 ट्यूबवेलों से पानी बेचने का फरमान संबंधित क्षेत्र के एक्सईएन को दे दिया गया है, इससे पानी मािफयाओं पर रोक लगेगी
फरीदाबाद. शहर के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं लोगों को प्राइवेट टैंकरों से पानी भरना पड़ रहा है। टैंकरों से पानी भरते लोग। (इनसेट में)
भास्कर ने कालाबाजारी का किया था खुलासा
दैनिक भास्कर ने 20 जून के अंक में खुलासा किया था कि पानी मािफया नगर निगम के ट्यूबवेलों और बूस्टरों से फ्री में पानी का व्यापार कर रहे हैं। खुद वार्ड नंबर 14 के पार्षद जसवंत िसंह ने मेयर से मिलकर इस समस्या को उजागर किया था। पानी मािफया नगर निगम के ट्यूबवेलों से फ्री में पानी भरकर कॉलोिनयों और सेक्टरों में 900 से 1000 रुपए प्रति टैंकर की दर से बेच रहे थे। खुलासा होने के बाद नगर िनगम के अधिकारी हरकत में आए और ट्यूबवेलों की निगरानी शुरू की।
निगम के लिए पानी चोरी रोकना आसान नहीं
नगर निगम के अधिकारी खुद इस बात को स्वीकार करते हैं कि पानी मािफयाओं की चाेरी रोकना आसान नहीं है। अभी तक वह फ्री में पानी भरकर व्यापार करते थे। सरकार के निर्देशानुसार अब उन्हें नगर निगम के ट्यूबवेलों व बूस्टरों से पानी भरने के लिए पैसे देने होंगे। सीसीटीवी कैमरे से इसकी निगरानी की जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि पानी का शुल्क निर्धारित करने पर कम से कम नगर निगम के खाते में पैसे तो आएंगे।
नगर निगम सीमाक्षेत्र 207.8 वर्ग किलोमीटर
नगर निगम सीमाक्षेत्र की जनसंख्या 17.25 लाख
एनआईटी जोन में पानी की मांग 116 एमएलडी
ओल्ड फरीदाबाद में 69 एमएलडी
बल्ल्भगढ़ जोन में 47 एमएलडी
शहरवािसयों ने पानी का कनेक्शन ले रखा है। इसके बदले नगर निगम को टैक्स देते हैं। फिर भी उन्हें पानी नहीं मिल रहा है। इससे पानी के लिए लोगों को सड़कों पर उतरना पड़ रहा है। शहरवासी पानी के लिए तरस रहे हैं और नगर िनगम पानी बेचकर अपनी जेब भरने जा रहा है। यह व्यवस्था पूरी तरह से अनुचित है। -एसपी सेठ, निवासी सेक्टर 21 डी।
फाइल फैक्ट
नगर निगम लूट का अड्‌डा है। शहरवासी पानी के लिए तरस रहे हैं और निगम को पानी बेचने की चिंता है। बेहतर होगा कि पहले शहरवािसयों को पानी उपलब्ध कराया जाए। अवैध आरओ बंद कराए जाएं। रही बात पानी मािफयाओं पर लगाम लगाने की तो इतना आसान नहीं है। यदि नगर निगम पानी का व्यापार करता है तो इससे पानी की और कालाबाजारी होगी। -रवींद्र चावला, निवासी जे ब्लाॅक एनआईटी-5
शहर के इन क्षेत्रों में है पानी का गंभीर संकट
जवाहर कॉलोनी, पर्वतीय कॉलोनी, जवाहर कॉलोनी खंड बी, संजय कॉलोनी सेक्टर-23 प्रेस कॉलोनी, जनता कॉलोनी, ग्रीन फील्ड कॉलोनी, दयालबाग, शिवदुर्गा विहार, सैनिक कॉलोनी, संत नगर, एसजीएम नगर, हाउसिंग बोर्ड सेक्टर-21 डी, सुभाष कॉलोनी, ित्रखा कॉलोनी, सराय ख्वाजा आदि।
नगर निगम के ट्यूबवेलों की संख्या 1411, क्षमता 80 एमएलडी
रैनीवेल की संख्या 10,क्षमता 100 एमएलडी
हुडा के ट्यूबवेलों की संख्या 38, क्षमता 40 एमएलडी
निगम सीमाक्षेत्र में पानी की मांग 232 एमएलडी
हर दिन पानी की उपलब्धता 220 एमएलडी
नगर िनगम की पहली प्राथमिकता शहरवािसयों को भरपूर पानी उपलब्ध कराना है। इसके लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। फिर भी यदि कोई व्यक्तिगत पानी लेना चाहता है तो उसे सस्ते दर पर पानी दिया जाएगा। इस योजना का मेन मकसद फ्री में पानी भरकर बेचने वाले मािफयाओं पर रोक लगाना है। -डीआर भास्कर, चीफ इंजीनियर नगर निगम।
शहर में 12 लाख लीटर पानी की है समस्या
नगर निगम सीमा क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में प्रतिदिन करीब 12 एमएलडी (मिलियन लीटर पर-डे) पानी की समस्या है। एक एमएलडी अर्थात 10 लाख लीटर होता है। ऐसे में 12 एमएलडी की कमी पर 12 लाख लीटर पानी की समस्या है। हर दिन शहर के अलग अलग हिस्सों में पानी समस्या काे लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
उन्होंने और युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियों पर चलने का निर्णय लिया:दिग्विजय चौटाला प्रदेश के 44 खिलाडिय़ों को नौकरी देने की प्रक्रिया शीघ्र पूरी की जाएगी:विज हरियाणा पुलिस ने चलाया एंटी-ड्रग अभियान, भारी मात्रा में नशीला पदार्थ बरामद ,286 आरोपी गिरफ्तार कुरुक्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव का शुभारंभ पांच राज्यों की हार का गीता जयंती महोत्सव पर पड़ा असर, बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कुरुक्षेत्र दौरा किया रद्द If new house is in wife or kid’s name, no tax benefit’ Jats get maximum seats in House followed by Rajputs Jats got 37 seats in the state assembly followed by Raputs with 17 seats 'गर्भवती महिलाओं की परफॉर्मेंस पर एम्प्लॉयर को रखनी चाहिए सहानुभूति' Cong accuses state poll panel of delaying probe against Grover Birender rules out simultaneous LS, assembly polls in Haryana