Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
Haryana

ई-स्टांप पेपर से हुआ कार्य आसान-उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा

July 10, 2018 03:03 PM
हरियाणा राज्य में अब लोगों को स्टाम्प पेपर के लिए किसी भी कार्यालय, स्टांप वैंडर या बैंक के चक्कर नहीं काटने पड़ते। सरकार द्वारा इस प्रक्रिया को ऑनलाइन करते हुए इसे सरल बनाया है और इसे ई-स्टाम्पिंग का नाम दिया गया है।
यह जानकारी देते हुए उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि यह प्रणाली इतनी सरल है कि इसका इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति अपने घर बैठकर भी कर सकता है और स्टांप पेपर से संबंधित गर्वनमेंट रिसिप्ट जमा करवाकर स्टांप पेपर ऑनलाईन प्राप्त कर सकता है। ई-स्टाम्पिंग उन लोगों के लिए किसी वरदान से कम नही है जिन्हें दूसरे राज्यों से रजिस्ट्री के लिए आना पड़ता है। यदि व्यक्ति ई-स्टाम्पिंग का इस्तेमाल करके स्टाम्प पेपर प्राप्त कर लेता है तो वह कम समय में ही रजिस्ट्री करवा सकता है।
उपायुक्त ने बताया कि ई-स्टाम्पिंग प्रणाली में सबसे पहले यूजर ई-ग्रास यानि (त्रश1द्गह्म्ठ्ठद्वद्गठ्ठह्ल क्रद्गष्द्गद्बश्चह्ल ्रष्ष्शह्वठ्ठह्लद्बठ्ठद्द स्4ह्यह्लद्गद्व) पर मैनुअल, नेट बैकिंग, डेबिट या क्रेडिट कार्ड द्वारा स्टाम्प पेपर से संबंधित गर्वनमेंट रिस्पिट्स जमा करवाएगा। इसके लिए यूजर गाइड पहले ही ई-ग्रास के लोगिन पेज पर दिया हुआ है। इसके लिए यूजर खजाना एवं लेखा विभाग की वेबसाईट 222.द्धह्म्ह्लह्म्द्गड्डह्यह्वह्म्द्बद्गह्य.द्दश1.द्बठ्ठ पर जाकर ई-चालान (ई-ग्रास) पर जाएगा। ई-ग्रास सिस्टम में चालान जनरेट करने के लिए द्धह्लह्लश्चह्य://द्गद्दह्म्ड्डह्यद्धह्म्4.ठ्ठद्बष्.द्बठ्ठ वेबसाईट पर जाना होगा और यूजर नेम व पासवर्ड में द्दह्वद्गह्यह्ल टाइप करना होगा। इसके बाद अगले पेज पर यूजर चुनाव कैटेगरी कॉलम मे नॉन ज्यूडिशियल स्टाम्प एंड डॉक्यूमेंट रजिस्ट्रेशन फीस सिलेक्ट करेगा और चयनित कैटेगरी के अनुसार पर्पज ऑफ पैमेंट कॉलम में स्ह्लड्डद्वश्च द्घद्गद्ग द्घशह्म् द्यद्गड्डह्यद्ग/ह्लद्गठ्ठड्डठ्ठष्4/स्द्धड्डह्म्द्ग आदि भी सिलेक्ट करेगा और इसके बाद यूजर सावधानीपूर्वक सबमिट बटन क्लिक करेगा। इसके बाद यूजर के कम्प्यूटर स्क्रीन पर चालान विवरण का पेज खुलेगा जिसमें चालान से संबंधित विवरण एंटर करते समय यूजर को जिला का नाम, ट्रेजरी नाम, ऑफिस नाम कॉलम में यूजर संबंधित तहसील कार्यालय या उपमंडल कार्यालय के डीडीओ को सिलेक्ट करना होगा। इसके बाद यूजर पीरियड कॉलम में वन टाइम और जिस राशि का यूजर को स्टाम्प पेपर प्राप्त करना है, उसका अमाऊंट कॉलम में एंटर करना होगा। इसमें यूजर को टाइप ऑफ पेमेंट में मैनुअल या ई-बैंकिंग ऑपशन सिलेक्ट करना होगा।
 उन्होंने बताया कि यदि यूजर मैनुअल ऑपशन क्लिक करता है तो उसके चालान की प्रति का प्रिंट आऊट लेकर यूजर को सिलेक्टड बैंक में प्रस्तुत करना होगा और यदि यूजर ई-बैंकिंग ऑप्शन क्लिक करता है तो यूजर लिस्टिड बैंको के द्वारा नेट बैंकिंग, डेबिट या क्रेडिट कार्ड द्वारा सीधे ही गर्वमेंट रिस्पिट में पैमेंट जमा करवा सकता है। इसके लिए उसे किसी बैंक में जाने की आवश्यकता नहीं होगी। प्रत्येक चालान के ऊपर बाई ओर एक जीआरएन नंबर होता है। इसी नंबर के द्वारा यूजर अपने से संबंधित चालान को वैरिफाइ कर सकता है। इसलिए यूजर को चाहिए कि वे संबंधित चालान का जीआरएन नंबर अवश्य नोट कर लें।
ई-स्टांप के माध्यम से रजिस्ट्री करवाने वाली बाबडौली निवासी राजकलां धर्मपत्नी बलवान सिंह का कहना है कि इस तरीके के माध्यम से उनके समय की बचत हुई है तथा सरकार का यह प्रयास सराहनीय है।
Have something to say? Post your comment