Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
National

पहली बार अस्पताल में होगा टूटते रिश्तों का इलाज; पति-पत्नी, सास-बहू झगड़े तो सीआईयू में होंगे भर्ती

July 10, 2018 05:50 AM


COURSTEY DAINIK BHASKAR JULY 10

पहली बार अस्पताल में होगा टूटते रिश्तों का इलाज; पति-पत्नी, सास-बहू झगड़े तो सीआईयू में होंगे भर्ती

आशु मिश्रा | नई दिल्ली

देश में पहली बार किसी अस्पताल में टूटते रिश्तों का इलाज किया जाएगा। मां-बेटा, पति-पत्नी, सास-बहू या कोई भी रिश्ता अगर बीमार है, तो उसे यहां भला-चंगा किया जाएगा। दिल्ली के इंस्टिट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड अलायड साइंसेज (इबहास) में क्राइसिस इंटरवेंशन यूनिट (सीआईयू) खोली जाएगी। डॉक्टरों ने इसकी पूरी योजना तैयार कर ली है। इस यूनिट को पहले 3 महीने के ट्रायल प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया जाएगा। ट्रायल सफल रहा तो इसे आगे भी जारी रखा जाएगा। इबहास में अब तक मानसिक रोगियों का इलाज होता है। लेकिन टूटते रिश्तों के इलाज का ये प्रयोग अनूठा है। शेष | पेज 11 पर
जिनके रिश्ते खराब हुए हैं, उन्हें मनोवैज्ञानिक व सामाजिक कार्यकर्ता भावनात्मक मदद देंगे
साइकैट्रिक यूनिट से अलग होगा सीआईयू
इबहास के डायरेक्टर डॉ. निमेश ने बताया कि- 'हमारे पास पहले से ही एक साइकैट्रिक आईसीयू है, जहां बहुत आक्रामक या हिंसात्मक प्रवृत्ति के लोगों का इलाज किया जाता है। लेकिन क्राइसिस इंटरवेंशन यूनिट का काम साइकैट्रिक यूनिट से अलग होगा। ऐसे लोग जो मानसिक रूप से बीमार नहीं हैं लेकिन उन्हें भावनात्मक रूप से मदद की जरूरत है, उनके इलाज के लिए सीआईयू मदद करेगी। इबहास में पहले ही मानसिक रोगियों के लिए तमाम रिहैबलिटेशन प्रोजेक्ट चल रहे हैं। सीआईयू को भी उसी कड़ी में शामिल किया गया है

Have something to say? Post your comment