Monday, September 24, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
हिमाचल प्रदेश: भूस्खलन के चलते वांगटू और तापती के रास्ते बंदकेरल में अगले 5 दिन भारी बारिश की चेतावनी: मौसम विभागदिल्‍ली : इस सीजन में 343 हुई डेंगू मरीजों की संख्‍या हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश जारी, 24 घंटे के लिए मौसम विभाग का रेड अलर्टहरियाणा पुलिस ने ऐप को लेकर विश्वविद्यालय में चलाया जागरूकता अभियानडॉ. बनवारी लाल ने हिसार में सरकारी जमीनों पर अवैध रूप से चलने वाले रोटी बैंक या इस प्रकार की अन्य गतिविधियों को बंद करवाकर सरकारी जमीन से कब्जा छुड़वाने के निर्देश दिएहरियाणा सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्तूबर, 2018 को राष्टï्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लियाजीवन में बढ़ता उतावलापन
Entertainment

मेकअप आर्टिस्ट एंव लेखक परवेश सेठी का निधन

June 30, 2018 03:36 PM

रंगमंच का प्रयायवाची बन चुके दिग्ग्ज रंगकर्मी, मेकअप आर्टिस्ट एंव लेखकश्री परवेश सेठी जी का शुक्रवार देर रात आकस्मिक निधन हो गया। वे 75 वर्ष के थे। सन्2 अगस्त, 1943 में पाकिस्तान के गुजरावालां में जन्मंे श्री परवेश सेठी जी ने अपनीशुरूआती स्कूली शिक्षा 1956 में हाई स्कूल, रोहतक की। हांलाकि उन्होनें रंगमंच कीशुरूआत केवल सात साल की उम्र में शिमला में बिताये अपने बचपन के दिनों में ही करदी थी पर अपनी कालेज शिक्षा पूरी करने के बाद वो 1960 में चण्डीगढ़ आकर प्रोफेशनलरंगमंच से जुड़ गये।

रंगमंच में उन्होनें बतौर मेकअप आर्टिस्ट शुरूआत की और धीरे-धीरे अभिनय के गुर सीखकर उत्तर भारत के सबसे बेहतरीन अदाकारों में अपना नाम दर्ज कराया। रंगमंच के अलावा श्री परवेश सेठी जी ने कई साल हरियाणा फाइनेंशल कोरपोरेशन में बतौर असिटेंट जरनल मैनेजर अपनी सेवाएं दीं। मगर रंगमंच हमेशा से ही उनकी प्राथमिकता रही। संगीत नाटक अकादमी और फक्र-ए-हरियाणा जैसे सम्मान अपने नाम करने के बाद उन्हें यू.के. और कनाडा में भी थियेटर में अपने योगदान के लिए अनेक सम्मानों से नवाजा गया।

 

देशों और विदेशों में थियेटर और फिल्म से जुड़े लगभग 20 से ज्यादा सम्मानहासिल करने के बाद भी उनकी शख्सियत हमेशा जमीन से जुड़ी रही और हार्ट अटैक जैसीगंभीर बीमारी को दो बार मात देकर वो फिर रंगमंच की सेवा में जुट जाते। उनके जाने सेउनके प्रंशसक और चण्डीगढ़ के लगभग सभी थियेटर ग्रुपस का माहौल गमगीन हैक्योंकि उन्होनें सभी थियेटर ग्रुपस को अपनी सेवांए दी थी। लगभग सात दशक देखने केबाद भी उनमें एक युवा की सी स्फूर्ति थी जिसके चलते उन्होनें आज तक हर शो औररिहर्सल पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई।

अपना आधे से ज्यादा जीवन रंगमंच के नाम कर वो लगभग 500 प्रस्तुतियोंका हिस्सा बने। उन्होनें अंधे हैं हम] दो परछाईयां] लहू का दाग और दूल्हा भट्टी जैसेनाटकों में प्रमुख भूमिकाएं निभाई पर उन्हें सबसे ज्यादा पहचान मिली थियेटर फारथियेटर द्वारा श्री सुदेश शर्मा जी के निर्देशन में 450 से ज्यादा बार हुई प्रस्तुति कोर्टमार्शल द्वारा जिसमें उनके द्वारा निभाये किरदार कर्नल सूरत सिंह’ को खूब वाहवाहीमिली और उस किरदार को उनके जाने के बाद भी ताउम्र याद किया जायेगा।

शहीद उधम सिंह] दस कहानियां] भाग मिल्खा भाग और जब वी मेट जैसीपंजाबी और बालीवुड फिल्मों में समय समय पर अपनी अदाकारी का लोहा मनवाया] जिसके चलते फिल्म जगत में भी उनके निधन की खबर पाकर शोक की लहर दौड़ गई।जिसके चलते कई दिग्गज फिल्मकारों और अदाकारों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

श्री परवेश सेठी जी का अंतिम संस्कार चण्डीगढ़ के सैक्टर 25 स्थित शमशान घाटपर रविवार को पांच बजे किया जायेगा।

 

Have something to say? Post your comment