Monday, September 24, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
हिमाचल प्रदेश: भूस्खलन के चलते वांगटू और तापती के रास्ते बंदकेरल में अगले 5 दिन भारी बारिश की चेतावनी: मौसम विभागदिल्‍ली : इस सीजन में 343 हुई डेंगू मरीजों की संख्‍या हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश जारी, 24 घंटे के लिए मौसम विभाग का रेड अलर्टहरियाणा पुलिस ने ऐप को लेकर विश्वविद्यालय में चलाया जागरूकता अभियानडॉ. बनवारी लाल ने हिसार में सरकारी जमीनों पर अवैध रूप से चलने वाले रोटी बैंक या इस प्रकार की अन्य गतिविधियों को बंद करवाकर सरकारी जमीन से कब्जा छुड़वाने के निर्देश दिएहरियाणा सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्तूबर, 2018 को राष्टï्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लियाजीवन में बढ़ता उतावलापन
Haryana

सिविल अस्पताल अम्बाला छावनी की कैथ लैब में शरीर के अन्य अंगो में सफलतापूर्वक डाले जा रहे हैं स्टैंट

June 27, 2018 05:20 PM
स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के प्रयासों से सिविल अस्पताल अम्बाला छावनी में स्थापित की गई कैथ लैब जहां हृदय रोगियों के लिए वरदान साबित हो रही है,वहीं इस लैब के माध्यम से शरीर के अन्य अंगो में भी सफलतापूर्वक स्टैंट डाले जा रहे हैं। शहर में यह सुविधा न होने के कारण इस कार्य के लिए मरीजों को पीजीआई चंडीगढ़ अथवा दिल्ली जाना पड़ता था। 
गांव बोह के रहने वाले राजेश शर्मा ब्लड प्रैशर व शूगर रोग से पीडि़त हैं और उन्होंने कुछ वर्ष पूर्व ही पीजीआई चंडीगढ़ से हर्ट में स्टैंट डलवाया था। वह सिविल अस्पताल में अपनी निष्क्रिय टांग का उपचार करवाने और सांस फूलने की समस्या के इलाज के लिए आए थे। इसके अलावा उनके दांए पैर में ऐस जख्म था जो न तो ठीक हो रहा था और न ही उससे बहने वाली मवाद बंद हो रही थी। सिटी स्कैन करने पर पता चला कि राजेश की दाईं टांग की नाडिय़ों में रूकावट है और उन्हें स्टैंट डालने की सलाह दी गई। कैथ लैब के प्रभारी डा0 राघव शर्मा ने मरीज की टांग में सफलतापूर्वक तीन स्थानों पर स्टैंट डाले। इस इलाज के उपरांत नाडियों में खून का प्रवाह सामान्य हो गया है और चिकित्सकों के मुताबिक निष्क्रिय नाडियों के कारण ठीक न होने वाले जख्म भी जल्द ही ठीक हो जाएंगे। रोगी के इस इलाज पर मात्र एक लाख रुपए खर्च हुआ है और निजी क्षेत्र के अस्पतालों द्वारा इस तरह के इलाज के लिए 4 से 5 लाख रुपए की राशि वसूल की जाती है।
रोगी राजेश शर्मा ने बताया कि उसकी टांग में शिथिलता की समस्या नही है और कोई भी चीज छूने पर उसे महसूस किया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने चिकित्सकों की इस सफलता पर उन्हें मुबारकबाद देते हुए कहा कि अब ऐसे रोगियों को दिल्ली या चंडीगढ़ जाने की आवश्यकता नही रहेगी। इससे न केवल रोगियों को बाहर आने-जाने की परेशानी व किराए की बचत होगी बल्कि निजी क्षेत्र की तुलना में उन्हें स्थानीय अस्पताल में ही 3 से 4 गुणा कम खर्च में बेहतर इलाज मिल सकेगा। 
Have something to say? Post your comment