Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
Haryana

हरियाणा रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण, पंचकूला ने गुरुग्राम जिले को छोडक़र, प्रदेश में स्थित चालू रियल एस्टेट परियोजनाओं के ऐसे डेवलपर्स को नोटिस जारी करने का निर्णय लिया

June 22, 2018 04:51 PM
हरियाणा रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण, पंचकूला ने गुरुग्राम जिले को छोडक़र, प्रदेश में स्थित चालू रियल एस्टेट परियोजनाओं के ऐसे डेवलपर्स को नोटिस जारी करने का निर्णय लिया है, जिन्होंने तीन सप्ताह के अंदर अपनी परियोजनाओं के पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं किया। 
प्राधिकरण के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा में बड़ी संख्या में चालू रियल एस्टेट परियोजनाओं के प्रमोटरों ने अपनी परियोजनाओं के पंजीकरण हेतु प्राधिकरण को आवेदन नहीं किया है जोकि अधिनियम की धारा 3 का उल्लंघन है। ऐसा करने से इस तरह की परियोजनाओं के प्रमोटरों के खिलाफ अधिनियम की धारा 59 के तहत कार्यवाही की जा सकती है। 
उन्होंने बताया कि प्रमोटरों को संशोधित प्रोफार्मा आरईपी-1 (पार्ट ए से पार्ट एच तक) में आवेदन करना होगा, जो प्राधिकरण की वेबसाइट http://rerapkl.gov.in से डाउनलोड किया जा सकता है। फार्म आरईपी-1 (पार्ट ए से पार्ट एच तक) ‘‘हरियाणा रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण, पंचकूला (परियोजनाओं का पंजीकरण) विनियमन, 2018’’ लिंक से भी डाउनलोड किया जा सकता है। 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
Cleanliness drive in ‘smart city’ Faridabad goes down the drain HARYANA-Video of woman’s woes goes viral, panel orders probe Engineer poses as judge, IAS officer to con people Rains flatten paddy in Hry, growers anxious Gurugram’s rain plan called into question हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक में स्टांप की दरों में कटौती सहित एक दर्जन से अधिक मुद्दों पर चर्चा की संभावना हरियाणा सरकार ने पहली जुलाई, 2018 से संशोधित वेतनमान (सातवें राज्य वेतन आयोग) पर अपने कर्मचारियों के लिए मंहगाई भत्ते में 2 प्रतिशत की वृद्घि करने की घोषणा की प्रदेश के स्वतंत्रता सेनानी व आश्रितों अपनी समस्याओं को लेकर हाईकोर्ट इनेलो की 25 सितम्बर को गोहाना में होने वाली रैली स्थल में पानी भरने की वजह से अब 7 अक्तूबर को गोहाना में ही होगी - अभय चौटाला कैप्टन अभिमन्यु ने अधिकारियों को प्रदेश में सोमवार को हुई तेज़ बरसात से हुए नुकसान का आकलन कर अगले चार दिनों में रिपोर्ट तैयार करने के आदेश दि