Monday, September 24, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
हिमाचल प्रदेश: भूस्खलन के चलते वांगटू और तापती के रास्ते बंदकेरल में अगले 5 दिन भारी बारिश की चेतावनी: मौसम विभागदिल्‍ली : इस सीजन में 343 हुई डेंगू मरीजों की संख्‍या हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश जारी, 24 घंटे के लिए मौसम विभाग का रेड अलर्टहरियाणा पुलिस ने ऐप को लेकर विश्वविद्यालय में चलाया जागरूकता अभियानडॉ. बनवारी लाल ने हिसार में सरकारी जमीनों पर अवैध रूप से चलने वाले रोटी बैंक या इस प्रकार की अन्य गतिविधियों को बंद करवाकर सरकारी जमीन से कब्जा छुड़वाने के निर्देश दिएहरियाणा सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्तूबर, 2018 को राष्टï्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लियाजीवन में बढ़ता उतावलापन
Chandigarh

योग फॉर एवरीडे

June 19, 2018 07:22 PM

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के नजदीक आते ही चहुं ओर योग की चर्चा हो रही है। योग शब्द इतना व्यापक शब्द है कि इसे केवल शारीरिक व्यायाम या मानसिक स्तर या भावनात्मक स्तर तक सीमित नहीं रखा जा सकता। कहीं पर ‘योग में प्रयोग’ तो कहीं पर ‘योग में रोजगार व कैरियर के अवसर’, ‘योग शारीरिक नहीं अध्यात्मिक  प्रक्रिया’ ऐसे अनन्त विषयों पर गोष्ठियां तथा वार्तालाप जारी हैं। वैश्विक स्तर पर भी योग विषय को पापुलर बनाने तथा इसे मार्केटिंग दृष्टि से मनाया जा रहा है। पर भारत के योगी तो प्राचीनकाल से ही विश्व प्रसिद्ध रहे हैं तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त रहे हैं। भारत जैसे मानव संसाधन बहुल्य देश में विकास के रास्ते अगर खुलते हैं तो मानवीय पूंजी के विकास के द्वार से ही खुलेंगे। शिक्षा तथा स्वास्थ्य दो ऐसे विषय हैं, जिस पर सारा विकास का दारोमदार टिका है। योग इन दोनों को जोड़ता भी है तथा योग की इन दोनों क्षेत्र में अनन्त सम्भावनाएं छिपी हैं। शारीरिक व मानसिक विकास दोनों को ही योग से साधा जा सकता है, पर योग, जोकि योगा का पर्याय बन चुका है अर्थात केवल शारीरिक क्रियाएं या श्वास सम्बन्धी क्रियाएं तक सीमित न कर, इसे व्यापक अर्थ में समझना चाहिए। गीता के हर अध्याय के नाम में योग शब्द जोड़ा गया है। वहां तो ‘विषाद’ को भी योग से जोड़ ‘विषाद योग’ अर्थात अर्जुन की अन्यमन्सकता, जिसे शैक्सपीयर के ‘हेमलेट की दुविधा या आमजन की, क्या करें क्या न करें’, की मानसिकता को भी योग से जोड़ ऊंची स्थिति पर स्थापित किया गया है। आवश्यकता है कि योग केवल वर्ष में एक दिन 21 जून ‘योग दिवस’ के अलावा प्रतिदिन जीवन में जीवन का आवश्यक अंग बने, तभी इसका भरपूर फायदा उठाया जा सकता है। इसे राजनेताओं तथा धर्मनेताओं की परिधि से निकाल कर सामाजिक तथा सांस्कृतिक उत्थान के लिए प्रयोग करना चाहिए। इस दृष्टि से ‘योग’ खालिस देसी उपकरण के रूप में देखा जाना चाहिए न कि विदेशों से आयतित श्रद्धा के रूप में, क्योंकि भारतीयों के लिए जिस भी चीज पर विदेशी ठप्पा लगता है तो वह मूल्यवान हो जाती है। भारत जैसे युवा देश के लिए, जिसके 65 प्रतिशत लोग 35 वर्ष से कम उम्र के हैं, उस मानवीय शक्ति में उत्साह, उमंग, कुशलता तथा जीवन्ता बढ़ाने के लिए योग बहुत कारगर सिद्घ हो सकता है। क्योंकि प्रसिद्ध कहावत है इस दुनिया में ‘पहला सुख - निरोगी काया, दूसरा सुख धन और माया’ पर योग जीवन का हिस्सा बने तो निरोगी काया, धन और माया सब पाया जा सकता है। आओ सब मिलकर योग करें व सब को करायें, जीवन सबल व सफल बनाएं।

डा० क कली

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
फेसबुक दोस्त ने छत्तीसगढ़ की महिला का चंडीगढ़ के होटल में किया रेप हरको बैंक के प्रबन्ध निदेशक मनोज कुमार बंसल ने बैंक मुख्यालय सैक्टर 17बी, चण्डीगढ में इस अभियान की शुरुआत की चंडीगढ़-अब नहीं करुंगा BJP के लिए प्रचार, मैं राजनीति से अलग हो चुका हूं- बाबा रामदेव चंडीगढ़-'अगर सरकार इजाजत दे तो मैं 35 से 40 रुपये प्रति लीटर में बेच सकता हूं पेट्रोल और डीजल': योग गुरु बाबा रामदेव हिसार में सीएम को घेरेंगे जाट
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज चंडीगढ़ में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के बारे में जानकारी देते हुए
महंगाई के मुद्दे पर कब तक चुप रहेंगे? Swaraj Bir Singh joins as Punjabi Tribune Editor
पाक दौरे पर कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की सफाई- मोदी जी भी लाहौर गए थे
पाक दौरे पर बोले सिद्धू- सेना चीफ बाजवा ने मुझसे शांति की बात कही