Thursday, November 15, 2018
Follow us on
Haryana

सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण

June 16, 2018 05:52 PM

ईश्वर धामु(भिवानी):हरियाणा के चर्चित आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी सेवानिवृति के बाद कांग्रेस में क्या शामिल हुए कि पार्टी के सैमीकरण ही बदलते नजर आने लगे है। कासनी के लिए सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कॉमेंट आ रहे हैं। क्योकि सर्विस में रहते हुए ही प्रदीप कासनी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिए रहे हैं। अब सेवा निवृति के बाद तो उनके लिखने में पैनापन आ गया है। सामयिक मुद्दे पर सटीक टिप्पणी और किसी भी मुद्दे पर साहित्यिक अंदाज में अभिव्यक्ति सोशल मीडिया में उनकी पहचान बन चुकी थी। सोशल मीडिया में बराबर आ रही टिप्पणियों से इतना तो आभास हो रहा था कि वें देर-सवेर से सक्रिए राजनीति में आयेंगे। सेवानिवृति के प्रारम्भ में लगता था कि वें इनेलो में जा सकते हैं। ऐसा उनके जातीय सैमीकरण के कारण भी कयास लगाए जा रहे थे। परन्तु उन्होने कांग्रेस में शामिल होकर चर्चाकारों का राजनैतिक गणित ही बिगाड़ दिया। इतना ही नहीं कांग्रेस में भी उन्होने प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर केे नेतृत्व में प्रवेश पाया। उन्होने कांग्रेस के सभी नेताओं को अपने कद का अहसास राहुल गांधी से मुलाकात करके करवा दिया। हालांकि कुछ चर्चाकार यह भी कह रहे हैं कि उनको भूपेन्द्र हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होना चाहिए था। पर अपने राजनैतिक ज्ञान और सुझबुझ से प्रदीप कासनी ने एक सही निर्णय लिया। क्योकि अब से पहले जो भी नेता कांग्रेस में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में शामिल हुए, उनकी एंट्री पर पार्टी में ही कई सवाल पैदा हो गए थे। निसंदेह एक विचारवान, साहित्यप्रेमी और राजनैतिक पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले इस अधिकारी का कांग्रेस में आने का पार्टी को बड़ा लाभ मिलेगा। यह आज चर्चा का विषय नहीं है कि कासनी चुनाव लड़ेंगे या नहीं? पर ऐसे समय में जब कांग्रेस में भंयकर गुटबंदी चल रही है और पार्टी का एक बड़ा व प्रभावी गुट अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का जम कर विरोध कर रहा है, तो निसंदेह ऐसे में पार्टी में नव आगंतुक प्रदीप कासनी की नैतिक जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वें अपने नेतृत्व को कैसे और क्या सहारा दे सकते हैं? क्योकि एक प्रशासनिक अधिकारी होने के कारण उनको सरकार के सम्पर्क तारों का ज्ञान है तो अपने समय के प्रखर और प्रभावी जननेता रहे धर्मसिंह कासनी का बेटा होने के कारण वें राजनैतिक दांव-पैचै की भी पूरी जानकारी रखते हैं। यही कारण है कि उनके अशोक तंवर के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होने से तंवर विरोधी खेमे में बचैनी पैदा हो गई है। तंवर विरोधी खेमे को यह थोड़ा भी आभास नहीं हो पाया कि प्रदीप कासनी कांग्रेस में आ रहे हैं। कासनी के आने से अशोक तंवर का जाटों द्वारा किए जाने वाले विरोध के तेवर ढ़ीले पड़ जायेंगे। इतना ही नहीं कासनी के अपने क्षेत्र के समर्थक अब निसंदेह तंवर के समर्थन में आयेगें। यह बताया गया है कि शीध्र ही कासनी को पार्टी में एक बड़ा और महत्वपूर्ण पद दिया जा रहा है। पद मिलने के बाद वें अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद ही राजनैतिक बदलाव की तस्वीर उभर कर सामने आयेगी। 

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
तिहाड़ जेल से इनैलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला का पत्र आया बाहर
प्रदेश की लड़कियों को दोपहिया वाहन चलाने व उनके बारे में तकनीकी कौशल की जानकारी देने का निर्णय लिया अनिल विज ने आज हरियाणा होम्योपैथिक कांऊसिल की वेबसाइट का शुभारम्भ किया राज्य प्रदर्शन एवं दृश्य कला विश्वविद्यालय, रोहतक’ का नाम बदलकर ‘पंडित लखमीचंद राज्य प्रदर्शन एवं दृश्य कला विश्वविद्यालय, रोहतक’ किए जाने से देश एवं दुनिया के लोगों को हरियाणवी कला एवं संस्कृति से और अधिक रूबरू होने का अवसर मिलेगा:राम बिलास शर्मा राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में पंजाब नई राजधानी (परिधि) नियंत्रण अधिनियम 1952 (1953 की अधिनियम संख्या 1) में संशोधन को मंजूरी दी गई सीमाओं (कोर सीमाओं के बाहर) के भीतर आने वाले क्षेत्र के लिए ‘सस्ती आवास नीति (पीएमएई) 2018’ को स्वीकृति प्रदान की गई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में राज्य के शहरी क्षेत्रों में समग्र एकीकृत डेयरी परिसरों के विकास के लिए ब्लूप्रिंट तैयार करने के लिए गठित की गई हिसार को हस्तांतरित करने के पशुपालन एवं डेयरी विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई मंत्रिमंडल की बैठक में इलैक्ट्रोनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग का नाम बदल कर सूचना प्रौद्योगिकी, इलैक्ट्रोनिक्स एवं संचार विभाग रखने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई मंत्रिमंडल की बैठक में हरियाणा खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग, अधीनस्थ कार्यालय (ग्रुप डी) सेवा नियम, 2018 को स्वीकृति प्रदान की गई।