Tuesday, April 23, 2019
Follow us on
Haryana

हरियाणा मत्स्य संसाधन विकास प्राधिकरण का गठन- धनखड़

June 15, 2018 06:17 PM
 हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण,पशुपालन व डेरिंग तथा मत्स्य पालन मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा है कि किसानों की आय कम से कम एक लाख प्रति एकड़ तक हो इस कड़ी में हरियाणा सरकार ने राष्टï्रीय राजधानी क्षेत्र में पैरी एग्रीचल्चर अवधारणा को लागू किया है, जिसके तहत मत्स्य उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा  मत्स्य  संसाधन विकास प्राधिकरण का गठन किया जाएगा। 
आज यहां जारी एक वक्तव्य में श्री धनखड़ ने कहा कि प्राधिकरण का मुख्य कार्य आरम्भ में झज्जर तथा चरखी-दादरी जिलों के जलभराव व ज्यादा खेतीबाड़ी की गतिविधियां न की जाने वाली लगभग 16000 एकड़ भूमि पर मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए एक पायलट परियोजना आरम्भ की जाएगी। उन्होंने कहा कि खाली पड़ी इस भूमि का सदुउपयोग हो सकेगा और किसानों रूझान मत्स्य पालन की ओर बढऩे से हरियाणा देश में नीली क्रांति लाने में अपना उल्लेखनीय योगदान दे सकेगा। उन्होंने बताया कि इस पायलट परियोजना के तहत राज्य में मत्स्य उत्पादन 64 हजार टन वार्षिक हो सकेगा जिसका मार्केट मूल्य 640 करोड़ रुपये अनुमानित है। 
श्री धनखड़ ने बताया कि हरियाणा मत्स्य  संसाधन विकास प्राधिकरण का प्रशासनीक नियंत्रण मत्स्य विभाग के पास रहेगा तथा अतिरिक्त मुख्य सचिव या प्रधान सचिव इस प्राधिकरण के अध्यक्ष होंगे। इसी प्रकार जिला स्तर पर सम्बन्धित उपायुक्त की अध्यक्षता में सब कमेटी का गठन किया जाएगा। यह प्राधिकरण भू-मालिकों से 10 वर्ष के पट्टïे पर भूमि लेगा। भू-मालिक की इच्छा अनुसार पटïï्टा अवधि 5 से 10 वर्ष और बढ़ाई जा सके गी। जिसे ई-बोली के माध्यम से मत्स्य उत्पादकों, मत्स्य सहकारी समितियों या प्राईवेट उद्यमियों को आगे पट्टïे पर दिया जा सकेगा।  उन्होंने बताया कि प्राधिकरण वैज्ञानिक तरीके से मत्स्य संसाधन के विकास, सहयोग व बढ़ावा देने के लिए कार्य करेगा। 
श्री धनखड़ ने बताया कि हरियाणा मत्स्य संसाधन विकास प्राधिकरण की मुख्य स्तर पर अप्रेक्स कमेटी ने  मत्स्य विभाग के प्रशासनिक सचिव अध्यक्ष होंगे जबकि मत्स्य विभाग के  संयुक्त सचिव/विशेष सचिव, विकास एवं पंचायत विभाग के निदेशक, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियन्ता, वित्त एवं राजस्व विभाग के प्रतिनिधि  तथा विभाग के संयुक्त निदेशक मुख्यालय इस कमेटी के सदस्य होंगे। इसके अलावा, दो मत्स्य पालक किसानों को भी सदस्य के रूप मेें मनोनीत किया जाएगा। उप-निदेशक मत्स्य विभाग मुख्यालय इसके कोषाध्यक्ष, जबकि विभाग के निदेशक इसके सदस्स सचिव होंगे। 
उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय उप समिति में सम्बन्धित उपायुक्त अध्यक्ष होंगे तथा सदस्यों में अतिरिक्त उपायुक्त, राजस्व विभाग के प्रतिनिधि, उपनिदेशक मत्स्य, उपनिदेशक कृषि, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के कार्यकारी अभियंता व मत्स्य अधिकारी शामिल होंगे, जबकि जिला मत्स्य अधिकारी इसके सदस्य सचिव होंगे। 
 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
14 साल बाद सावित्री जिंदल ने भजन के पोते भव्य काे दिया जीत का मंत्र हिसार| ROHTAK- नेताओं के शो से रोड रहा 3 घंटे जाम, एंबुलेंस और स्कूल बस भी फंसी HARYANA-Only 30% works announced by CM complete: RTI GURGAON-Banned diesel autos chosen form of public transport in city, finds survey 850 vending sites to come up in 8 sectors of Panchkula Parties fail women in Haryana again In Jatland, political parties turn into family fiefs HARYANA-नाम तय, नजारा दिलचस्प, नजर चुनावी समर पर अम्बाला से भाजपा प्रत्याशी कटारिया द्वारा दायर ताज़ा हलफनामे और पिछले 2014 एफिडेविट में दर्शाए अपने पैन कार्ड नंबर में अंतर दुष्यंत की पूर्व केंद्रीय मंत्री बिरेंद्र सिंह को चुनौती ‘मैं विपक्ष का सांसद और आप रहे मोदी सरकार में मंत्री रहे, आओ करें बहस, हिसार में किसने क्या करवाया’ - दुष्यंत चौटाला