Thursday, November 15, 2018
Follow us on
Haryana

हरियाणा मत्स्य संसाधन विकास प्राधिकरण का गठन- धनखड़

June 15, 2018 06:17 PM
 हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण,पशुपालन व डेरिंग तथा मत्स्य पालन मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा है कि किसानों की आय कम से कम एक लाख प्रति एकड़ तक हो इस कड़ी में हरियाणा सरकार ने राष्टï्रीय राजधानी क्षेत्र में पैरी एग्रीचल्चर अवधारणा को लागू किया है, जिसके तहत मत्स्य उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा  मत्स्य  संसाधन विकास प्राधिकरण का गठन किया जाएगा। 
आज यहां जारी एक वक्तव्य में श्री धनखड़ ने कहा कि प्राधिकरण का मुख्य कार्य आरम्भ में झज्जर तथा चरखी-दादरी जिलों के जलभराव व ज्यादा खेतीबाड़ी की गतिविधियां न की जाने वाली लगभग 16000 एकड़ भूमि पर मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए एक पायलट परियोजना आरम्भ की जाएगी। उन्होंने कहा कि खाली पड़ी इस भूमि का सदुउपयोग हो सकेगा और किसानों रूझान मत्स्य पालन की ओर बढऩे से हरियाणा देश में नीली क्रांति लाने में अपना उल्लेखनीय योगदान दे सकेगा। उन्होंने बताया कि इस पायलट परियोजना के तहत राज्य में मत्स्य उत्पादन 64 हजार टन वार्षिक हो सकेगा जिसका मार्केट मूल्य 640 करोड़ रुपये अनुमानित है। 
श्री धनखड़ ने बताया कि हरियाणा मत्स्य  संसाधन विकास प्राधिकरण का प्रशासनीक नियंत्रण मत्स्य विभाग के पास रहेगा तथा अतिरिक्त मुख्य सचिव या प्रधान सचिव इस प्राधिकरण के अध्यक्ष होंगे। इसी प्रकार जिला स्तर पर सम्बन्धित उपायुक्त की अध्यक्षता में सब कमेटी का गठन किया जाएगा। यह प्राधिकरण भू-मालिकों से 10 वर्ष के पट्टïे पर भूमि लेगा। भू-मालिक की इच्छा अनुसार पटïï्टा अवधि 5 से 10 वर्ष और बढ़ाई जा सके गी। जिसे ई-बोली के माध्यम से मत्स्य उत्पादकों, मत्स्य सहकारी समितियों या प्राईवेट उद्यमियों को आगे पट्टïे पर दिया जा सकेगा।  उन्होंने बताया कि प्राधिकरण वैज्ञानिक तरीके से मत्स्य संसाधन के विकास, सहयोग व बढ़ावा देने के लिए कार्य करेगा। 
श्री धनखड़ ने बताया कि हरियाणा मत्स्य संसाधन विकास प्राधिकरण की मुख्य स्तर पर अप्रेक्स कमेटी ने  मत्स्य विभाग के प्रशासनिक सचिव अध्यक्ष होंगे जबकि मत्स्य विभाग के  संयुक्त सचिव/विशेष सचिव, विकास एवं पंचायत विभाग के निदेशक, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियन्ता, वित्त एवं राजस्व विभाग के प्रतिनिधि  तथा विभाग के संयुक्त निदेशक मुख्यालय इस कमेटी के सदस्य होंगे। इसके अलावा, दो मत्स्य पालक किसानों को भी सदस्य के रूप मेें मनोनीत किया जाएगा। उप-निदेशक मत्स्य विभाग मुख्यालय इसके कोषाध्यक्ष, जबकि विभाग के निदेशक इसके सदस्स सचिव होंगे। 
उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय उप समिति में सम्बन्धित उपायुक्त अध्यक्ष होंगे तथा सदस्यों में अतिरिक्त उपायुक्त, राजस्व विभाग के प्रतिनिधि, उपनिदेशक मत्स्य, उपनिदेशक कृषि, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के कार्यकारी अभियंता व मत्स्य अधिकारी शामिल होंगे, जबकि जिला मत्स्य अधिकारी इसके सदस्य सचिव होंगे। 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
प्रदेश की लड़कियों को दोपहिया वाहन चलाने व उनके बारे में तकनीकी कौशल की जानकारी देने का निर्णय लिया अनिल विज ने आज हरियाणा होम्योपैथिक कांऊसिल की वेबसाइट का शुभारम्भ किया राज्य प्रदर्शन एवं दृश्य कला विश्वविद्यालय, रोहतक’ का नाम बदलकर ‘पंडित लखमीचंद राज्य प्रदर्शन एवं दृश्य कला विश्वविद्यालय, रोहतक’ किए जाने से देश एवं दुनिया के लोगों को हरियाणवी कला एवं संस्कृति से और अधिक रूबरू होने का अवसर मिलेगा:राम बिलास शर्मा राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में पंजाब नई राजधानी (परिधि) नियंत्रण अधिनियम 1952 (1953 की अधिनियम संख्या 1) में संशोधन को मंजूरी दी गई सीमाओं (कोर सीमाओं के बाहर) के भीतर आने वाले क्षेत्र के लिए ‘सस्ती आवास नीति (पीएमएई) 2018’ को स्वीकृति प्रदान की गई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में राज्य के शहरी क्षेत्रों में समग्र एकीकृत डेयरी परिसरों के विकास के लिए ब्लूप्रिंट तैयार करने के लिए गठित की गई हिसार को हस्तांतरित करने के पशुपालन एवं डेयरी विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई मंत्रिमंडल की बैठक में इलैक्ट्रोनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग का नाम बदल कर सूचना प्रौद्योगिकी, इलैक्ट्रोनिक्स एवं संचार विभाग रखने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई मंत्रिमंडल की बैठक में हरियाणा खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग, अधीनस्थ कार्यालय (ग्रुप डी) सेवा नियम, 2018 को स्वीकृति प्रदान की गई। राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में हरियाणा खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग, मुख्यालय (ग्रुप डी) सेवा नियम, 2018 को स्वीकृति प्रदान की गई