Saturday, August 18, 2018
Follow us on
Haryana

रेलूराम परिवार का हत्यारा दामाद अभी फरार

June 13, 2018 05:12 AM

courstey DAINIK BHASKAR JUNE 13

संजीव को जानते भी नहीं उसके जमानती

रेलूराम परिवार का हत्यारा दामाद अभी फरार

वकील ने जमानती तलाश खुद शिनाख्त की, 15 हजार रु. लिए, जमानतियों को 3500-3500 दिए

भास्कर न्यूज | यमुनानगर

पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 लोगों का हत्यारा दामाद संजीव अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। संजीव को पैरोल के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। संजीव को पैरोल दिलाने में कई तरह की गड़बड़ियां की गईं, जिन्हें किसी ने जांचा भी नहीं। संजीव को जिन्होंने पैरोल दिलाई, वे उसे जानते भी नहीं। वकील ने जमानती जुटाए और खुद शिनाख्त की। वकील से लेकर जमानतियों तक का कहना है कि उन्हें तो ये भी नहीं पता था कि संजीव ने किनकी हत्या की हुई है। उन्हें बताया गया था कि हत्या के केस में संजीव 16-17 साल की सजा काट चुका है। एक साल की सजा बची है। वह पहले 8 बार पैरोल ले चुका है। उसका रिकॉर्ड अच्छा है। इन बातों में वे आ गए और संजीव के जमानत बन गए। संजीव के लिए जमानती तलाशने वाले वकील मोहित ने बताया कि पैरोल दिलाने के लिए 15 हजार रु. फीस तय हुई थी। इसमें से 3500-3500 रुपए दोनों जमानतियों ने लिए। पैरोल के लिए संजीव के जेल में बने दोस्त चगनौली के पूर्व सरपंच के बेटे रिक्की ने भागदौड़ की। रिक्की के पिता बलदेव सिंह ने ही संजीव की मां के अपने घर में किराएदार होने का शपथपत्र दिया।अब रिक्की का भी कहना है कि उससे गलती हो गई। संजीव को एक-एक लाख के मुचलके पर जमानत मिली है। जमानतियों ने इसके लिए अपनी कृषि भूमि दिखाई है। शेष | पेज 7 पर
चगनौली के पूर्व सरपंच ने अपने घर में संजीव की मां के किराएदार होने का शपथपत्र दाखिल किया
परिवार दहशत में, सुरक्षा के लिए 2 गनमैन तैनात
हिसार | संजीव के फरार होने से पूर्व विधायक रेलूराम के परिवार के लोग दहशत में हैं। रेलूराम के भतीजे जितेंद्र ने जान को खतरा बताते हुए पुलिस प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई। डीएसपी लॉ एंड ऑर्डर जितेंद्र सिंह ने परिवार को दो गनमैन मुहैया कराए हैं। -पेज 2 भी पढ़िए
भास्कर न्यूज | यमुनानगर
पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 लोगों का हत्यारा दामाद संजीव अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। संजीव को पैरोल के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। संजीव को पैरोल दिलाने में कई तरह की गड़बड़ियां की गईं, जिन्हें किसी ने जांचा भी नहीं। संजीव को जिन्होंने पैरोल दिलाई, वे उसे जानते भी नहीं। वकील ने जमानती जुटाए और खुद शिनाख्त की। वकील से लेकर जमानतियों तक का कहना है कि उन्हें तो ये भी नहीं पता था कि संजीव ने किनकी हत्या की हुई है। उन्हें बताया गया था कि हत्या के केस में संजीव 16-17 साल की सजा काट चुका है। एक साल की सजा बची है। वह पहले 8 बार पैरोल ले चुका है। उसका रिकॉर्ड अच्छा है। इन बातों में वे आ गए और संजीव के जमानत बन गए। संजीव के लिए जमानती तलाशने वाले वकील मोहित ने बताया कि पैरोल दिलाने के लिए 15 हजार रु. फीस तय हुई थी। इसमें से 3500-3500 रुपए दोनों जमानतियों ने लिए। पैरोल के लिए संजीव के जेल में बने दोस्त चगनौली के पूर्व सरपंच के बेटे रिक्की ने भागदौड़ की। रिक्की के पिता बलदेव सिंह ने ही संजीव की मां के अपने घर में किराएदार होने का शपथपत्र दिया।अब रिक्की का भी कहना है कि उससे गलती हो गई। संजीव को एक-एक लाख के मुचलके पर जमानत मिली है। जमानतियों ने इसके लिए अपनी कृषि भूमि दिखाई है

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा सरकार ने फसल ई-सूचना वैब लिंक पर किसानों द्वारा बिजाई की गई फसलों और ई-गिरदावरी के उद्देश्य के लिए पटवारियों के प्रमाणीकरण करने की ऑनलाइन सूचना हेतु एक प्रणाली विकसित की हरियाणा मन्त्रिमण्डल की बैठक आज सायं सात बजे मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हरियाणा भवन दिल्ली में होगी शिक्षा मंत्री के संरक्षण में भाजपा पदाधिकारियों पर वक्फ बोर्ड की जमीन कब्जाने का आरोप फरीदाबाद और पलवल सेक्शन की 18 शटल ट्रेनों का टाइम टेबल बदला, दो से पांच मिनट तक का बदलाव AMBALA-प्ले-वे स्कूल के ड्राइवर ने 6 वर्षीय मासूम का किया यौन शोषण, बवाल पर एफआईआर दर्ज, गिरफ्तार HARYANA सरकार का सुप्रीम कोर्ट जाने का निर्णय कर्मियों को नामंजूर Hry govt to file special leave petition in Supreme Court against HC order प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी ने 17 अगस्त, 2018 को बाद दोपहर 2 बजे चण्डीगढ़ में हरियाणा विधानसभा भवन में आहूत किए गये अधिवेशन के आदेश को वापस ले लिया हरियाणा के सभी सरकारी कार्यालयों ,स्कूलों में कल शुक्रवार 17अगस्त को छुट्टी, वाजपेयी के निधन पर सरकार ने की घोषणा मनोहर लाल ने पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के दुखद निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उनके निधन को देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति बताया।