Tuesday, October 16, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू आफ यूनिटी के अनावरण 1 नवंबर के बाद लोग दर्शन के लिए जाये:रामबिलास शर्मास्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी के निर्माण में हरियाणा-पंजाब के किसानों का भी अमूल्य योगदान है: भूपेंद्रसिंह चुडासमागुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू आफ यूनिटी के अनावरण के बारे में जानकारी देते हुए गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्रसिन्ह चूड़ास्माप्रतिदिन 3000 पयर्टक लिफ़्ट के माध्यम से विजिटर गैलेरी में पहुँचेगे:भूपेंद्रसिंह चुडासमास्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी के दर्शन प्रतिदिन लगभग 15000 पयर्टक आने की संभावना:भूपेंद्रसिंह चुडासमा13 अक्टूबर 2013 को स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी का शिलान्यास मात्र पांच वर्ष में निर्माण का काम संपन्न हुआ: भूपेंद्रसिंह चुडासमान्यूयॉर्क के स्टेच्यू ऑफ़ लिबर्टी से दोगुनी ऊँचाई:भूपेंद्रसिंह चुडासमापवन पांडेः रॉबर्ट वाड्रा भी उस दिन उसी होटल में थे, वीडियो को वायरल कराया
Haryana

रेलूराम परिवार का हत्यारा दामाद अभी फरार

June 13, 2018 05:12 AM

courstey DAINIK BHASKAR JUNE 13

संजीव को जानते भी नहीं उसके जमानती

रेलूराम परिवार का हत्यारा दामाद अभी फरार

वकील ने जमानती तलाश खुद शिनाख्त की, 15 हजार रु. लिए, जमानतियों को 3500-3500 दिए

भास्कर न्यूज | यमुनानगर

पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 लोगों का हत्यारा दामाद संजीव अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। संजीव को पैरोल के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। संजीव को पैरोल दिलाने में कई तरह की गड़बड़ियां की गईं, जिन्हें किसी ने जांचा भी नहीं। संजीव को जिन्होंने पैरोल दिलाई, वे उसे जानते भी नहीं। वकील ने जमानती जुटाए और खुद शिनाख्त की। वकील से लेकर जमानतियों तक का कहना है कि उन्हें तो ये भी नहीं पता था कि संजीव ने किनकी हत्या की हुई है। उन्हें बताया गया था कि हत्या के केस में संजीव 16-17 साल की सजा काट चुका है। एक साल की सजा बची है। वह पहले 8 बार पैरोल ले चुका है। उसका रिकॉर्ड अच्छा है। इन बातों में वे आ गए और संजीव के जमानत बन गए। संजीव के लिए जमानती तलाशने वाले वकील मोहित ने बताया कि पैरोल दिलाने के लिए 15 हजार रु. फीस तय हुई थी। इसमें से 3500-3500 रुपए दोनों जमानतियों ने लिए। पैरोल के लिए संजीव के जेल में बने दोस्त चगनौली के पूर्व सरपंच के बेटे रिक्की ने भागदौड़ की। रिक्की के पिता बलदेव सिंह ने ही संजीव की मां के अपने घर में किराएदार होने का शपथपत्र दिया।अब रिक्की का भी कहना है कि उससे गलती हो गई। संजीव को एक-एक लाख के मुचलके पर जमानत मिली है। जमानतियों ने इसके लिए अपनी कृषि भूमि दिखाई है। शेष | पेज 7 पर
चगनौली के पूर्व सरपंच ने अपने घर में संजीव की मां के किराएदार होने का शपथपत्र दाखिल किया
परिवार दहशत में, सुरक्षा के लिए 2 गनमैन तैनात
हिसार | संजीव के फरार होने से पूर्व विधायक रेलूराम के परिवार के लोग दहशत में हैं। रेलूराम के भतीजे जितेंद्र ने जान को खतरा बताते हुए पुलिस प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई। डीएसपी लॉ एंड ऑर्डर जितेंद्र सिंह ने परिवार को दो गनमैन मुहैया कराए हैं। -पेज 2 भी पढ़िए
भास्कर न्यूज | यमुनानगर
पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 लोगों का हत्यारा दामाद संजीव अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। संजीव को पैरोल के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। संजीव को पैरोल दिलाने में कई तरह की गड़बड़ियां की गईं, जिन्हें किसी ने जांचा भी नहीं। संजीव को जिन्होंने पैरोल दिलाई, वे उसे जानते भी नहीं। वकील ने जमानती जुटाए और खुद शिनाख्त की। वकील से लेकर जमानतियों तक का कहना है कि उन्हें तो ये भी नहीं पता था कि संजीव ने किनकी हत्या की हुई है। उन्हें बताया गया था कि हत्या के केस में संजीव 16-17 साल की सजा काट चुका है। एक साल की सजा बची है। वह पहले 8 बार पैरोल ले चुका है। उसका रिकॉर्ड अच्छा है। इन बातों में वे आ गए और संजीव के जमानत बन गए। संजीव के लिए जमानती तलाशने वाले वकील मोहित ने बताया कि पैरोल दिलाने के लिए 15 हजार रु. फीस तय हुई थी। इसमें से 3500-3500 रुपए दोनों जमानतियों ने लिए। पैरोल के लिए संजीव के जेल में बने दोस्त चगनौली के पूर्व सरपंच के बेटे रिक्की ने भागदौड़ की। रिक्की के पिता बलदेव सिंह ने ही संजीव की मां के अपने घर में किराएदार होने का शपथपत्र दिया।अब रिक्की का भी कहना है कि उससे गलती हो गई। संजीव को एक-एक लाख के मुचलके पर जमानत मिली है। जमानतियों ने इसके लिए अपनी कृषि भूमि दिखाई है

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News