Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
25 die as final monsoon burst batters north Indiaहिमाचल प्रदेश: भारी बारिश की चेतावनी, कल कांगड़ा के सभी स्‍कूल रहेंगे बंद न्‍यूयॉर्क : सुषमा स्‍वराज ने नेपाल के विदेश मंत्री से की मुलाकातहरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक में स्टांप की दरों में कटौती सहित एक दर्जन से अधिक मुद्दों पर चर्चा की संभावनाहरियाणा सरकार ने पहली जुलाई, 2018 से संशोधित वेतनमान (सातवें राज्य वेतन आयोग) पर अपने कर्मचारियों के लिए मंहगाई भत्ते में 2 प्रतिशत की वृद्घि करने की घोषणा कीदिल्‍ली : बच्चों की मौत के मामले में DCW ने एमसीडी अस्पताल को भेजा नोटिस28 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह के कार्यक्रम में शामिल होंगे पीएम मोदी हिमाचल प्रदेश सरकार सरकारी और निजी बसों का किराया 24% बढ़ाएगी
Haryana

हिसार को विश्लेषणात्मक तकनीक शीर्षक ‘मक्खन/घी में बहु-अवशेष (मल्टी रेज़ड्यू)के आकलन की पद्घति’ के लिए पेटेंट प्रदान किया गया

June 12, 2018 03:58 PM
चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार को विश्लेषणात्मक तकनीक शीर्षक ‘मक्खन/घी में बहु-अवशेष (मल्टी रेज़ड्यू)के आकलन की पद्घति’ के लिए पेटेंट प्रदान किया गया है। केन्द्र सरकार के पेटेंट कार्यालय भारतीय बौद्घिक सम्पदा द्वारा यह पेटेंट 20 वर्षों के लिए दिया गया है। 
विश्वविद्यालय के एक प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि कुलपति प्रो. के.पी.सिंह ने इस तकनीक के विकास के लिए विश्वविद्यालय के कीटविज्ञान विभाग की सीनियर एनालेटिकल केमिस्ट (सेवानिवृत्त) डॉ. बीना कुमारी और उनकी टीम के रिसर्च एसोसिएट डॉ. शशि सिंह, डॉ. जगदीप सिंह और सीनियर पेस्टीसाइड केमिस्ट (सेवानिवृत्त) डॉ. टी.एस.कठपाल को बधाई दी है। 
उन्होंने बताया कि विशेषकर कृषि के मौजूदा परिदृश्य में पर्यावरण अवयवों और खाद्य वस्तुओं में कीटनाशक अवशेष एक गंभीर वैश्विक समस्या है और स्वास्थ्य के लिए चुनौती है। सभी श्रेणियों के कीटनाशकों के अवशेषों की पहचान के लिए केवल एक तरह के कीटनाशकों हेतु आकलन तकनीक का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। इसलिए, गैस लिक्विड क्रोमैटोग्राफी का इस्तेमाल करके मक्खन व घी में एक साथ ओर्गेनोक्लोरिन, सिंथेटिक, पाइरेथरॉइड्स, ओर्गेनोफास्फेट्स और कार्बामेटï्स से संबंधित कीटनाशकों के सभी चारों प्रमुख समूहों के दूषित पदार्थों के निर्धारण के लिए तीव्र, साधारण और प्रामाणिक तकनीक विकसित की गई है। 
उन्होंने बताया कि चूंकि यह तकनीक अति साधारण और संवेदनशील है तथा इसमें समय भी कम लगता है। इसलिए इसे राष्टï्रीय और अंतरराष्टï्रीय व्यवसाय में दूध के साथ-साथ मक्खन और घी बनाने वाले डेरी उद्योगों और दुग्ध संयंत्रों द्वारा अपनाया जा सकता है। इस तकनीक  को अपनाने से अवशेषों की मौजूदगी के साथ-साथ उनके स्तर का भी पता लगाया जा सकता है। इससे वे कीटनाशक अवशेषों को हटाने के लिए पहले से मौजूद परिशोधन प्रक्रिया का इस्तेमाल कर सकते हैं और उपभोक्ताओं को भारतीय खाद्य सुरक्षा मानक प्राधिकरण द्वारा निर्धारित अधिकतम अवशेष सीमा से कम अवशेषों के साथ या अवशेष मुक्त मक्खन या घी उपलब्ध करवा सकते हैं। 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
Gurugram’s rain plan called into question हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक में स्टांप की दरों में कटौती सहित एक दर्जन से अधिक मुद्दों पर चर्चा की संभावना हरियाणा सरकार ने पहली जुलाई, 2018 से संशोधित वेतनमान (सातवें राज्य वेतन आयोग) पर अपने कर्मचारियों के लिए मंहगाई भत्ते में 2 प्रतिशत की वृद्घि करने की घोषणा की प्रदेश के स्वतंत्रता सेनानी व आश्रितों अपनी समस्याओं को लेकर हाईकोर्ट इनेलो की 25 सितम्बर को गोहाना में होने वाली रैली स्थल में पानी भरने की वजह से अब 7 अक्तूबर को गोहाना में ही होगी - अभय चौटाला कैप्टन अभिमन्यु ने अधिकारियों को प्रदेश में सोमवार को हुई तेज़ बरसात से हुए नुकसान का आकलन कर अगले चार दिनों में रिपोर्ट तैयार करने के आदेश दि हरियाणा के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पीके महापात्रा को मिला तीन महीने का एक्सटेंशन मिलने की संभावना हरियाणा पुलिस ने ऐप को लेकर विश्वविद्यालय में चलाया जागरूकता अभियान डॉ. बनवारी लाल ने हिसार में सरकारी जमीनों पर अवैध रूप से चलने वाले रोटी बैंक या इस प्रकार की अन्य गतिविधियों को बंद करवाकर सरकारी जमीन से कब्जा छुड़वाने के निर्देश दिए हरियाणा सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्तूबर, 2018 को राष्टï्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया