Friday, August 17, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
अग्नि को समर्पित हुए अटल बिहारी वाजपेयी, बेटी नमिता ने दी मुखाग्निअनंत में लीन हो गए देश के प्यारे नेता अटल बिहारी वाजपेयी, नम आंखों से दी गई अंतिम विदाईशुरू हुई अटल के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया, कुछ देर में दी जाएगी मुखाग्निमंत्रोच्चार के बीच अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कारहरियाणा सरकार ने फसल ई-सूचना वैब लिंक पर किसानों द्वारा बिजाई की गई फसलों और ई-गिरदावरी के उद्देश्य के लिए पटवारियों के प्रमाणीकरण करने की ऑनलाइन सूचना हेतु एक प्रणाली विकसित कीस्मृति स्थल पर अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कारराष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी पूर्व पीएम वाजपेयी को श्रद्धांजल‍ितीनों सेनाओं ने दी अटल जी को अंतिम सलामी
Haryana

पहाड़ों से पानी कम आया, इसमें भी राजनीति तलाश रही है कांग्रेस

June 08, 2018 10:18 PM
हरियाणा के मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार, श्री राजीव जैन ने कहा है कि अबकी बार अप्रैल-मई में अधिक पश्चिम विक्षोभ आने की वजह से पहाड़ों में गर्मी कम पड़ी है और बर्फ भी कम पड़ी है। इस कारण भाखड़ा बांध व यमुना नदी में पानी का बहाव कम हो गया है। हरियाणा ही नहीं अन्य राज्य भी कम पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। वर्ष 1963 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि भाखड़ा बांध पर पानी का स्तर इतना नीचे गया है। उन्होंने कांग्रेसी नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के आरोप को निराधार बताया। उन्होंने कहा कि हुड्डा पहाड़ों से कम पानी नदियों में आने पर भी भाजपा को दोषी ठहारने की कोशिश कर रहे हैं। हथिनीकुंड बैराज से यमुना में जहां वर्ष 2017 में 4000 से 4500 क्यूसिक पानी छोड़ा गया था, वहीं वर्ष 2018 में पहाड़ों से कम पानी आने के कारण यह घटकर 2000 से 2200 क्यूसिक रह गया। खुद भारतीय मौसम विभाग ने माना है कि पहाड़ों पर पूर्व के मुकाबले कम बर्फ पिघली है, जिसकी बदौलत पानी की उपलब्धता प्रभावित हुई है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के प्रयासों से सभी जलघरों व तालाबों में अप्रैल-मई में पानी छोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में तालाब प्राधिकरण बनाकर साढ़े 14 हजार तालाबों में लगातार पानी रखने तथा पानी के दुरुपयोग को रोकते हुए रीयूज पर काम करने की रणनीति बनाई गई है। इसके लिए युवाओं का दल गांव-गांव जाकर खत्म होते तालाबों को जीवित रखने तथा उनमें पानी की उपलब्धता पर अपनी कार्य योजना तैयार करके देंगे। उन्होंने कहा कि श्री मनोहर लाल ने तो हरियाणा में अतिरिक्त पानी लेने के लिए पंजाब के सीएम से पत्र व्यवहार तक किया है, ताकि पाकिस्तान जाने वाले पानी को हरियाणा में लाया जा सके। पेयजल को लेकर किसी तरह की दिक्कत नहीं है। 
बीबीएमबी का सिंचाई सदस्य को लेकर उन्होंने कहा कि पिछली कई सालों से हरियाणा का सदस्य ही इस पद पर लगता रहा है। राजस्थान ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री के सामने यह प्रस्ताव रखा था कि यह रोटेशन से लगाया जाए, लेकिन मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने इसका विरोध किया था। अब यह सदस्य हरियाणा का ही लगेगा। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री सैद्धांतिक रुप से मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की इस बात से सहमत थे।  

हरियाणा के मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार, श्री राजीव जैन ने कहा है कि अबकी बार अप्रैल-मई में अधिक पश्चिम विक्षोभ आने की वजह से पहाड़ों में गर्मी कम पड़ी है और बर्फ भी कम पड़ी है। इस कारण भाखड़ा बांध व यमुना नदी में पानी का बहाव कम हो गया है। हरियाणा ही नहीं अन्य राज्य भी कम पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। वर्ष 1963 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि भाखड़ा बांध पर पानी का स्तर इतना नीचे गया है। उन्होंने कांग्रेसी नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के आरोप को निराधार बताया। उन्होंने कहा कि हुड्डा पहाड़ों से कम पानी नदियों में आने पर भी भाजपा को दोषी ठहारने की कोशिश कर रहे हैं। हथिनीकुंड बैराज से यमुना में जहां वर्ष 2017 में 4000 से 4500 क्यूसिक पानी छोड़ा गया था, वहीं वर्ष 2018 में पहाड़ों से कम पानी आने के कारण यह घटकर 2000 से 2200 क्यूसिक रह गया। खुद भारतीय मौसम विभाग ने माना है कि पहाड़ों पर पूर्व के मुकाबले कम बर्फ पिघली है, जिसकी बदौलत पानी की उपलब्धता प्रभावित हुई है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के प्रयासों से सभी जलघरों व तालाबों में अप्रैल-मई में पानी छोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में तालाब प्राधिकरण बनाकर साढ़े 14 हजार तालाबों में लगातार पानी रखने तथा पानी के दुरुपयोग को रोकते हुए रीयूज पर काम करने की रणनीति बनाई गई है। इसके लिए युवाओं का दल गांव-गांव जाकर खत्म होते तालाबों को जीवित रखने तथा उनमें पानी की उपलब्धता पर अपनी कार्य योजना तैयार करके देंगे। उन्होंने कहा कि श्री मनोहर लाल ने तो हरियाणा में अतिरिक्त पानी लेने के लिए पंजाब के सीएम से पत्र व्यवहार तक किया है, ताकि पाकिस्तान जाने वाले पानी को हरियाणा में लाया जा सके। पेयजल को लेकर किसी तरह की दिक्कत नहीं है। 
बीबीएमबी का सिंचाई सदस्य को लेकर उन्होंने कहा कि पिछली कई सालों से हरियाणा का सदस्य ही इस पद पर लगता रहा है। राजस्थान ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री के सामने यह प्रस्ताव रखा था कि यह रोटेशन से लगाया जाए, लेकिन मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने इसका विरोध किया था। अब यह सदस्य हरियाणा का ही लगेगा। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री सैद्धांतिक रुप से मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की इस बात से सहमत थे।  

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा सरकार ने फसल ई-सूचना वैब लिंक पर किसानों द्वारा बिजाई की गई फसलों और ई-गिरदावरी के उद्देश्य के लिए पटवारियों के प्रमाणीकरण करने की ऑनलाइन सूचना हेतु एक प्रणाली विकसित की हरियाणा मन्त्रिमण्डल की बैठक आज सायं सात बजे मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हरियाणा भवन दिल्ली में होगी शिक्षा मंत्री के संरक्षण में भाजपा पदाधिकारियों पर वक्फ बोर्ड की जमीन कब्जाने का आरोप फरीदाबाद और पलवल सेक्शन की 18 शटल ट्रेनों का टाइम टेबल बदला, दो से पांच मिनट तक का बदलाव AMBALA-प्ले-वे स्कूल के ड्राइवर ने 6 वर्षीय मासूम का किया यौन शोषण, बवाल पर एफआईआर दर्ज, गिरफ्तार HARYANA सरकार का सुप्रीम कोर्ट जाने का निर्णय कर्मियों को नामंजूर Hry govt to file special leave petition in Supreme Court against HC order प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी ने 17 अगस्त, 2018 को बाद दोपहर 2 बजे चण्डीगढ़ में हरियाणा विधानसभा भवन में आहूत किए गये अधिवेशन के आदेश को वापस ले लिया हरियाणा के सभी सरकारी कार्यालयों ,स्कूलों में कल शुक्रवार 17अगस्त को छुट्टी, वाजपेयी के निधन पर सरकार ने की घोषणा मनोहर लाल ने पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के दुखद निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उनके निधन को देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति बताया।