Thursday, July 19, 2018
Follow us on
Haryana

सोनीपत-सफाई कर्मियों ने निगम का गेट बंद कर दिया धरना, शहर में जगह-जगह लगे कचरे के ढेर

May 10, 2018 05:03 AM

COURSTEY DAINIK BHASKAR MAY 10

सफाई कर्मियों ने निगम का गेट बंद कर दिया धरना, शहर में जगह-जगह लगे कचरे के ढेर

हड़ताल में 350 कर्मी हुए शामिल, नारेबाजी कर सरकार पर लगाया अनदेखी का आरोप

भास्कर न्यूज | सोनीपत

 

अपनी मांगों की अनदेखी से नाराज सफाई कर्मचारियों ने बुधवार से हड़ताल शुरू कर दी। यही कारण रहा कि कर्मचारियों के हाथों में काम के लिए झाडू नहीं थी बल्कि अपनी मांगों के समर्थन वाले बैनर थे। शहर में अधिकांश जगह आज झाडू नहीं लगी। कचरे का उठान नहीं हुआ। कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर नगर निगम कार्यालय परिसर में धरना दिया। आमतौर पर चुनिंदा कर्मियों के प्रदर्शन में शामिल होते हैँ, लेकिन आज इस हड़ताल में करीब 350 कर्मी शामिल हुए। गेट को बंद कर दिया गया था, जिससे लाेगाें काे आवागमन में भी परेशानी हुई। निगम में अन्य कार्य के लिए पहुंचे लोगों को भी अपने वाहन बाहर ही खड़े करके निगम परिसर में दाखिल होना पड़ा।
सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप : सफाई कर्मचारियों ने निगम के गेट के सामने धरना देकर अपनी मांगों की अनदेखी पर रोष जताया। कर्मी नेता नरेश बोहत ने ने सरकार पर वादा खिलाफी करने का भी आरोप लगाया। कर्मचारियों का कहा कि यह प्रदर्शन 15 दिन से चल रहा है, लेकिन सरकार की ओर से इस दिशा में कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। यह हड़ताल तीन दिन चलेगी, इसके बाद भी अगर कर्मचारियों की मांगे पूरी नहीं होती है तो हड़ताल को अनिश्चितकाल के लिए बढ़ाया जाएगा। शीलकराम मलिक, आनंद शर्मा विभिन्न नेताओं ने सरकार से कर्मचारियों की ठेकेदारी प्रथा हटाने, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, 15000 न्यूनतम वेतन देने, कर्मचारियों के साथ किये गए वादे पूरे करने की मांग की।
सोनीपत . नगर निगम के गेट पर धरना देकर बैठे सफाई कर्मचारी।
शहर के मुख्य चौराहों पर भी नहीं हुई सफाई
शहर में सफाई कर्मचारियों की हड़ताल से सफाई व्यवस्था पटरी से उतरी हुई नजर आई। निगम में स्थाई एवं अनुबंध पर लगे करीब 421 कर्मी सफाई व्यवस्था संभाल रहे हैं। महत्वपूर्ण बात यह भी रही कि इस हड़ताल में विभिन्न एजेंसियों की ओर से नियुक्त सफाई कर्मी भी हड़ताल में शामिल रहे। हालांकि जेबीएम की ओर से लाइन पार क्षेत्र में कचरा उठान किया गया, लेकिन शहर के अन्य क्षेत्र में आज घरों के बाहर निगम की गाड़ी भी नहीं पहुंची, जिस कारण घर का कचरा घर में ही पड़ा रहा। शहर में जगह-जगह कचरे के ढेर लगे थे, फिर से विभिन्न वार्डो की गलिया हो या फिर मुख्य बाजारों के चौक चौराहे । जगह-जगह लगे कूड़े के ढेर बता रहे थे कि हड़ताल को लेकर प्रशासन की ओर से किसी स्तर पर की गई तैयार कितनी कमजोर साबित हुई है। क्योंकि कूड़े के ढेर किसी एक जगह विशेष पर नहीं बल्कि शहर के अधिकांश स्थानों पर देखे जा सकते हैं। फिर चाहे सुभाष चौक हो या फिर गणेश पार्क, सेक्टर 14- 15 मार्केट, गोहाना रोड, दयाल चौक, मुरथल रोड में भी सफाई आज नहीं हो सकी।
सफाई कर्मी बोले असुरक्षित है माहौल
शहरी प्रधान अजीत रिढलान ने कहा कि कर्मचारी असुरक्षा की भावना में कार्य कर रहे हैं। कर्मचारियों को अभी तक आवश्यक संसाधन भी उपलब्ध नहीं करवाए गए हैं, सीवर की सफाई करते समय कर्मचारियों की मौत भी हो चुकी है, बावजूद इसके कर्मचारियों को संसाधन अब तक उपलब्ध नहीं करवाए गए हैं। इसके अतिरिक्त सैकड़ों कर्मचारियों को ठेकेदारों की मनमर्जी का शिकार होना पड़ रहा है। उनके खाते से ही ईएसआई एवं पीएफ का भी पैसा खा रहे हैं। अभी उन्हें पिछला एरियर भी नहीं मिल सका है। जिसके खिलाफ शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हो रही है।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा के सभी विधानसभा हलकों में खोले जाएंगे पार्टी कार्यलय हरियाणा के मुख्य सचिव ने निर्देश दिये हैं कि चुनाव से जुड़े किसी भी अधिकारी या कर्मचारी को पहली सितम्बर, 2018 से फोटो मतदाता सूची के विशेष पुनर्रीक्षण का कार्य पूरा होने तक स्थानांतरित नहीं किया जाए। हरियाणा में चुनाव प्रक्रिया में निशक्तजनों की भागीदारी का निरीक्षण करने के लिए एक राज्य स्तरीय परामर्श समिति गठित की गई HARYANA-मोदी की मलोट रैली में भेजीं हरियाणा की 150 सरकारी बसें HARYANA-सवाल-सीएम कैसे लगते हैं, आवाज आई-‘अच्छे नहीं’ 55 गांवों के किसानों ने एसई कार्यालय को घेरा बोले, फ्लडी नहरों में मोगे लगाने में शर्तें मंजूर नहीं इनेलो विधायक के बाद कृष्ण पहलवान की करनी थी हत्या, दिचाउ गैंग के 4 बदमाश पकड़े कांग्रेस वर्किंग कमिटी की लिस्ट में हरियाणा के चार युवाओं को तवज्जो क्रिकेट मैच पर फंटरों को सट्टा खिलाने वाले बुकिज के खिलाफ देर रात सीआईए रेवाड़ी व धारूहेड़ी की टीम ने बड़ी कार्रवाई की हरियाणा सरकार ने निर्णय लिया है कि पांच जिलों के आंगनवाड़ी केन्द्रों में चल रही फोर्टिफाइड कोटनसीड और सोयाबीन तेल की पायलट आपूर्ति योजना को आगामी 1 सितम्बर, 2018 तक राज्य के सभी जिलों की सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में शुरू कर दिया जाएगा