Monday, May 27, 2019
Follow us on
Haryana

HARYANA-वेरिफिकेशन के बहाने राइस मिलर्स से ‌Rs.20 लाख रिश्वत मांगने का एक आरोपी गिरफ्तार, 4 फरार

May 10, 2018 04:55 AM

COURSTEY DAINIK BHASKAR MAY 10

वेरिफिकेशन के बहाने राइस मिलर्स से ‌Rs.20 लाख रिश्वत मांगने का एक आरोपी गिरफ्तार, 4 फरार

वेरिफिकेशन के नाम पर अधिकारी करते थे भ्रष्टाचार, पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी को लिया एक दिन के रिमांड पर

डीएसपी हैड क्वार्टर की सख्ती के बाद सिटी थाना पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार
भास्कर न्यूज | करनाल
वेरिफिकेशन के बहाने राइस मिलर्स से 20 लाख रुपए रिश्वत मांगने के आरोपी मार्केटिंग बोर्ड के पांच अधिकारियों में से एक अधिकारी को सीआईए टू पुलिस ने 4 माह के बाद गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी मंडी सुपरवाइजर अरविंद टाया को एक दिन के रिमांड पर लिया गया है। रिमांड के दौरान आरोपी से अन्य फरार चल रहे आरोपियों के बारे में पता लगाना है। पकड़े जाने पर भी ही विभाग में भ्रष्टाचार का पैसा कहां-कहां तक चलता है, इसका खुलासा हो सकता है। इस मामले में राइस मिलर्स राजेंद्र रहेजा की शिकायत पर सिटी थाना पुलिस ने कृषि विपणन बोर्ड के एमडीओ सुनील शर्मा, डीएमईओ पंचकूला सौरभ चौधरी, करनाल मार्केटिंग बोर्ड की सचिव आशा रानी, रायपुरानी के मंडी सुपरवाइजर सतबीर सिंह, करनाल के मंडी सुपरवाइजर अरविंद सिंह टाया के खिलाफ केस दर्ज किया गया और सरकार ने इन्हें तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया था।
कार्रवाई
ये हैं मामले में शामिल
सौरभ चौधरी, मंडी अधिकारी
खुलासा : दूसरे एरिया में जाकर भी अधिकारी करते थे वसूली
भ्रष्टाचार के मामले में जो इन अधिकारियों का नाम आया, वह सभी मंडी में महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत हैं। पुलिस की जांच में सामने आया कि भ्रष्टाचार वह अपने एरिया के अलावा दूसरे एरिया में जाकर भी करते थे। राइस मिलर्स को फिजिकल वेरिफिकेशन के नाम पर डराते थे और उन्हें रिपोर्ट गलत बनाकर भारी नुकसान की धमकी देते थे। आखिरकार राइस मिलर्स ने इनकी रिकॉर्डिंग कर पूरे मामले का पर्दाफाश किया।
कुटेल एरिया से 5 लाख और जिले के 20 लाख
राइस मिलर्स राजेंद्र रहेजा ने जो शिकायत दी थी उसमें उल्लेख है कि मार्केट कमेटी के अधिकारी ढाई माह से उन्हें परेशान कर रहे थे। कुटेल एरिया के राइस मिलर्स से 5 लाख में मांग रहे हैं और पूरे करनाल के राइस मिलर्स से 20 लाख रुपए मांगे जा रहे थे।
राइस मिलर्स ने अारोपियों की रिकॉर्डिंग कर पूरे मामले का किया पर्दाफाश
अरविंद सिंह, मंडी सुपरवाइजर
आशा रानी, मंडी सेक्रेटरी
सतबीर सिंह, मंडी सुपरवाइजर
चंडीगढ़ के अधिकारियों का दिखाते थे डर
मार्केटिंग कमेटी के सुपरवाइजर अरविंद टाया और सौरभ जहां पर भी भ्रष्टाचार करते थे, वहां पर चंडीगढ़ के अधिकारियों का डर दिखाते थे। चंडीगढ़ में कार्यरत अधिकारी सुनील भी इनकी गैंग में शामिल मिला। राइस मिलर्स ने बताया कि यह खुलासा परेशान हाेकर करना पड़ा है। आरोप लगाया कि इससे पहले वह रुटीन में भ्रष्टाचार करते रहे।
फरार अधिकारियों का पता लगाएंगे : डीएसपी
राइस मिलर्स से 20 लाख रुपए मांगने वाले आरोपी सुपरवाइजर अरविंद टाया को करनाल से ही गिरफ्तार किया है। आरोपी का एक दिन का रिमांड मिला है। अन्य फरार आरोपी अधिकारियों का पता लगाया जाएगा।'-रमेश चंद, डीएसपी हैडक्वार्टर, करनाल।
राइस मिलर्स की इस कमजोरी का उठाते थे फायदा
राइस मिलर्स की कमजोरी को संबंधित अधिकारी अच्छी तरह से जानते थे। जानकार बताते हैं कि धान अलॉट होते ही मिलर्स धान बेच देते हैं। यूपी और बिहार से यह स्टॉक पूरा करते हैं। इस खेल काे अधिकारी जानते हैं। जब भी कोई राइस मिलर्स अधिकारी के उलट चलता है तो अधिकारी अपनी कलम की पावर से मिल में एंट्री करता है। इस कारण मिलर्स भी मजबूर और अधिकारी मुनाफा कमाते हैं। मिलर्स की तरफ से भी सरकारी धान को बेचना बिल्कुल गलत है।
शहर में घूम रहे हैं अधिकारी पुलिस नहीं करती गिरफ्तार
राइस मिलर्स ने आरोप लगाया कि फरार तीन कर्मचारी शहर में ही घूम रहे हैं। सीजन के दौरान कई बार मंडी में भी देखे गए, लेकिन पुलिस भी जानबूझ कर आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर ही है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
‘Haryana prof exam questions cut-paste job from handbook’ NDA likely to have Majority in Rajya Sabha by 2021-22
इंजीनियरिंग स्कॉलरशिप टैस्ट में प्रथम आने पर श्रेया गर्ग को मिला लैपटाप
हरियाणा मन्त्रिमण्डल की बैठक जून के प्रथम सप्ताह में होने की संभावना,बैठक में कुछ महत्वपूर्ण फैसले ले सकती है खट्टर सरकार
HARYANA GOVT EMPLOYEES TO GET HOUSE RENT SOON KARNAL- 7 माह से गायब 37 लाख की टिकटें खस्ताहाल जगह मिलीं, कट्‌टे पर धूल तक नहीं, दोबारा छपवाकर रखने का शक HARYANA रोडवेज में छंटनी के मामले ने पकड़ा तूल, 28 को प्रदर्शन यूनियन ने जांच भटकाने के लिए कर्मचारियों को निकालने का आरोप लगाया INLD chief rejects Arora’s resignation नई सरकार का एजेंडा: मध्यम वर्ग पर टैक्स का बोझ और कम किया जा सकता है, जीएसटी के दो स्लैब हो सकते हैं HARYANA रोडवेज में आउटसोर्सिंग पर लगे 325 ड्राइवरों समेत 450 कर्मचारियों काे नौकरी से निकालने के आदेश