Saturday, October 20, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
पंजाब में सभी स्कूलों कॉलेजों में कल अवकाश रहेगा,दशहरे पर अमृतसर में हुई रेल ट्रेजिडी के बाद प्रदेश सरकार ने की घोषणाअमृतसर ट्रेन हादसाः हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य जताया दुखअमृतसर ट्रेन हादसाः58 लोगों की मौत हुई,तादाद बढ़ सकती है:पुलिस कमिश्नरमैं कल बताऊगा कितने लोग मरे है:कैप्टन अमरिंदर सिंहसिविल अस्पताल के SMO जतिन अरोड़ा ने कहा- अभी तक मोर्चरी में 40 शव पहुंचेआज लोग मर रहे है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल जाएंगेअमृतसर हादसे में घायल 60 से ज्यादा लोग सिविल हॉस्पिटल में भर्तीः डॉ. संदीपमनोज सिन्हा बोले- स्थानीय प्रशासन ने नहीं दी रावण दहन की जानकारी
Haryana

HARYANA CM-दो घंटे से इंतजार में थे वाल्मीकि, तीन जाट नेताओं के घर चाय पीकर ढांडा की ससुराल से शगुन लेकर निकल गए

April 30, 2018 05:20 AM

COURSTEY DAINIK BHASKAR APRIL 30

दो घंटे से इंतजार में थे वाल्मीकि, तीन जाट नेताओं के घर चाय पीकर ढांडा की ससुराल से शगुन लेकर निकल गए मुख्यमंत्री

भास्कर न्यूज | पानीपत

जाटों को लुभाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 13 दिनों में जाट बहुल दो गांवों में कार्यक्रम किए, लेकिन रविवार को वाल्मीकि समाज को नाराज कर गए। ग्रामीण विधानसभा के बबैल गांव में पीएम के 'मन की बात' कार्यक्रम में सीएम ने 55 मिनट लगाए। इसके बाद तीन जाट नेताओं के घर 47 मिनट बिताए। फिर, ग्रामीण से विधायक महीपाल ढांडा की ससुराल खोतपुरा पहुंच गए। इधर, बबैल गांव में वाल्मीकि नेता मुकेश वाल्मीकि के घर दलित इंतजार करते रह गए। इसे दलितों का अपमान मानते हुए भाजपा अनुसूचित मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी विक्की पुहाल ने इस्तीफा दे दिया। हालांकि, भाजपा नेताओं ने कहा कि मुकेश वाल्मीकि के घर सीएम का कार्यक्रम तो था ही नहीं। अपने मन से ही कोई तैयारी करे तो क्या किया जा सकता है।
सीएम ने कहा- एक भी घर ऐसा नहीं जहां गैस सिलेंडर न हो, एक महिला ने कहा मेरे घर नहीं: सुबह 11:34 बजे मंच से सीएम ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला याेजना की तारीफ करते हुए कहा कि हरियाणा में केरोसीन खत्म कर हर घर में गैस सिलेंडर पहुंचाया गया है। कोई है जिसे सिलेंडर नहीं मिला है। इस पर एक महिला रामरती पत्नी स्वर्गीय सुब्बा ने हाथ उठाया तो सीएम ने कहा कि सोमवार शाम तक प्रशासन की ओर से गैस सिलेंडर की व्यवस्था करा दी जाएगी। डीसी का गनमैन महिला का नाम-पता लिखने पहुंचा तो एक और महिला आसिमा पत्नी बारू ने भी कहा कि उसके पास भी सिलेंडर नहीं है।
िवकास के लिए गांव को 2 करोड़: सीएम के अलावा विधायक महीपाल ढांडा को ही मंच से बाेलने का अवसर मिला। हालांकि, सरपंच मांग पत्र लेकर इंतजार में थे। सीएम ने कहा कि सरपंच की सभी मांगें मानी जाती हैं। ऐसे काम जिसकी फिजिबिलिटी चेक करने की जरूरत नहीं है, उसके लिए 2 करोड़ रुपए फंड जारी किए जाते हैं।
दलित का अपमान बताते हुए एससी मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी ने दिया इस्तीफा
4 नेताओं के बयान से समझिए वह सब जो आप जानना चाहते हैं
दलितों का अपमान कर रहे सीएम : पुहाल
दलित नेता मुकेश वाल्मीकि के घर सीएम का कार्यक्रम था। बाकायदा, सूचना दी गई। डीसी व एसपी आए थे। सुरक्षा जांच भी हुई, अचानक सीएम ने दलितों के घर जाने से इनकार कर दिया। यह दलितों का अपमान है। इस्तीफा दे रहा हूं। मेरे लिए समाज है। -विक्की पुहाल, जिला मीडिया प्रभारी, एससी मोर्चा
नहरी पानी के लिए ग्रामीणों ने रखी मांग
सीएम से आसपास के गांव नंगला आर व पार, बबैल, कुरार सहित अन्य गांव के किसानों शोभाराम, जितेंद्र अहलावत, राम किशन, जितेंद्र आदि नहरी पानी उपलब्ध कराने व शुगर मिल का निर्माण कराने की मांग रखी।
कोई खुद से ही तैयारी करे तो क्या कहें: विज
मुकेश वाल्मीकि के घर कोई कार्यक्रम तय नहीं था। उनकी ओर से समय मांगा गया था, इसकी सूचना सीएम कार्यालय दे दी गई थी। वहां से कहा गया कि सिर्फ दो जगह ही चाय होगी। हमने वाल्मीकि को बता दिया था। लेकिन फिर भी अगर कोई तैयारी कर रहा है तो क्या कहा जा सकता है। -प्रमोद विज, जिला अध्यक्ष, भाजपा
कार्यक्रम के लिए पहले रखनी थी बात: ढांडा
सीएम का तीन जगह ही कार्यक्रम था। रविवार सुबह भी बता दिया गया था। विक्की पुहाल भाजपा कार्यकर्ता है या सिर्फ वाल्मीकि कार्यकर्ता। अगर कार्यक्रम रखना था तो जब तय हो रहे थे तब बात रखनी चाहिए थी। फिर भी इसे अगर जाति का रंग दिया जा रहा है तो यह गलत है। -महीपाल ढांडा, विधायक ग्रामीण
चाय पर हो गई कंट्रोवर्सी
एससी मोर्चा का दावा सीएम के आने की सूचना आधिकारिक तौर पर दी गई थी
सीएम जनसंघ के समय से पुराने भाजपाई जगबीर नेताजी के यहां गए। फिर, भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष सुरेंद्र अहलावत व सरपंच राकेश अहलावत के घर गए। यहीं से सीएम बराना की ओर निकले और कंट्रोवर्सी शुरू हो गई।
समय की कमी से नहीं आए सीएम : वाल्मीकि
सूचना तो दी गई थी, इसलिए तैयारी में भी थे। कार्यक्रम के बाद सीएम के पास समय की कमी रही होगी, इसलिए मेरे घर नहीं आ पाए। चूंकि पूरी तैयारी थी और समाज के लोग भी आए थे। जो घंटों तक धूप में सीएम का इंतजार कर रहे थे। इसलिए नाराज हो गए। कोई विवाद नहीं है। -मुकेश वाल्मीकि, सदस्य, एससी मोर्चा प्रदेश कार्यकारिणी
ढांडा की ससुराल में मिले 11-11 सौ रु. शगुन
भाजपा ने कहा- सिर्फ तीन जाट नेताओं के घर ही तय था कार्यक्रम, वाल्मीकि के घर नहीं
सवाल: आखिर क्यों तैयारी में थे वाल्मीकि
डीसी सुमेधा कटारिया और एसपी राहुल शर्मा शनिवार को कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेने बबैल पहुंचे थे। चौपाल जाने के बाद प्रशासनिक अमला जगबीर नेताजी, सुरेंद्र अहलावत और सरपंच राकेश अहलावत के घर भी गया। इसके बाद प्रशासन मुकेश वाल्मीकि के घर भी गया। रविवार को पुलिसकर्मी भी वाल्मीकि के घर तैनात थे। इसलिए वाल्मीकि समाज अच्छी संख्या में मुकेश के घर जमा हुए। जहां पर पंडाल और खाने-पीने की व्यवस्था थी।
सफाई: एहतियातन गई थी वाल्मीकि के घर | डीसी सुमेधा कटारिया ने कहा कि मुझे ऑफिशियल जानकारी नहीं थी। साइट देखते वक्त किसी ने कहा कि वाल्मीकि के घर भी सीएम का कार्यक्रम है तो एहतियातन पहुंच गए। प्रशासन तो अपनी ड्यूटी कर रहा था। सुबह भी पता किया तो बताया गया कि सीएम का वाल्मीकि के घर कोई कार्यक्रम नहीं है।
बराना में सीएम ने आईटीआई का निरीक्षण किया। सरपंच के घर गए। यहां से विधायक महीपाल ढांडा की ससुराल पहुंचे। जहां पर ढांडा के ससुर ने ढांडा व मनोहर लाल को 1100-1100 रुपए शगुन दिए

Have something to say? Post your comment